प्रधानमंत्री ने उ0प्र0 के लिए आवास, पेयजल और बुनियादी सुविधाओं की 3397 करोड़ रु0 की 99 परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास किया
 
देश अपनी संस्कृति और पहचान को कायम रखते हुए तेज गति से आगे बढ़ रहा है: प्रधानमंत्री
 
वर्ष 2022 तक हर सर पर छत होगी
 
हमारे शहर जन भागीदारी, जन दायित्व और जन आकांक्षाओं का प्रतीक बनकर उभर रहे हैं
 
देश न्यू इण्डिया बनने की ओर अग्रसर विकास की नियोजित और व्यवस्थित सोच के तहत 
आम जनमानस को शहरों में लाभान्वित किया जा रहा है: मुख्यमंत्री
 
नगर निकाय आत्मनिर्भरता एवं आय में वृद्धि की दिशा में आगे बढ़े हैं 
 
गाजियाबाद और लखनऊ शहरी म्युनिसिपल बाॅण्ड के माध्यम से आने वाले समय में वैकल्पिक फण्डिंग की व्यवस्था करने जा रहे हैं 
 
प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी), अमृत योजना 
एवं स्मार्ट सिटी मिशन की तीसरी वर्षगांठ के अवसर पर 
आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित किया
लखनऊ: 28 जुलाई, 2018:  भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने कहा कि देश अपनी संस्कृति और पहचान को कायम रखते हुए तेज गति से आगे बढ़ रहा है। देश न्यू इण्डिया बनने की ओर अग्रसर है और इसकी राह में पड़ने वाली चुनौतियों से निपटने को तैयार है। उन्होंने कहा कि जन भागीदारी, जन दायित्व और जन आकांक्षाओं का प्रतीक बनकर हमारे शहर उभर रहे हैं और खुशी की बात है कि शहरों में नई व्यवस्थाओं के निर्माण के लिए फण्डिंग की वैकल्पिक व्यवस्था भी की जा रही है। इससे सरकारों पर आर्थिक निर्भरता कम हो रही है। उन्होंने कहा कि सरकार का उद्देश्य ‘सबका साथ सबका विकास’ है और टीम इण्डिया की भावना से न्यू इण्डिया के निर्माण का है।
प्रधानमंत्री जी आज यहां इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान में प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी, अमृत योजना एवं स्मार्ट सिटी मिशन की तीसरी वर्षगांठ के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के लिए आवास, पेयजल और बुनियादी सुविधाओं की 3397 करोड़ रुपए की 99 परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद से शहरों को उनकी भविष्य की आवश्यकताओं के हिसाब से नहीं विकसित किया गया। उन्हें बेतरतीब और अव्यवस्थित तरीके से फैलने दिया गया, जिसका परिणाम हर शहरवासी भुगत रहा है। उन्होंने कहा कि देश की जी0डी0पी0 में शहरों की 65 प्रतिशत हिस्सेदारी है। अगर यह शहर अव्यवस्थित और अविकसित रहेंगे तो विकास बाधित होगा और ऐसी स्थिति में 21वीं सदी का भारत परिभाषित नहीं किया जा सकेगा। इसी सोच के तहत भारत के 100 शहरों को स्मार्ट सिटी मिशन के लिए चयनित किया गया, जिन्हें 02 लाख करोड़ रुपए के निवेश से विकसित करने की योजनाएं बनीं।
प्रधानमंत्री जी ने कहा कि सरकार के लिए स्मार्ट सिटी सिर्फ एक प्रोजेक्ट नहीं, बल्कि एक मिशन है। यह मिशन है, देश को बदलने का। हमारे शहरों को न्यू इण्डिया की नई चुनौतियों से निपटने के लिए तैयार करने का और 21वीं सदी के भारत में विश्वस्तरीय इंटेलीजेण्ट अर्बन सेण्टर्स खड़ा करने का। उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी मिशन के तहत शीघ्र ही उत्तर प्रदेश के शहरों में भी नागरिकों को सुविधाएं मुहैया होने लगेंगी। उन्होंने कहा कि लखनऊ में मेट्रो के विस्तार का काम चल रहा है। इस व्यवस्था को सबसे पहले जमीन पर उतारने का काम पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी बाजपेयी जी ने किया था। दिल्ली मेट्रो की सफलता आज पूरे देश में दोहरायी जा रही है।
प्रधानमंत्री जी ने कहा कि विशाखापट्टनम में जी0पी0एस0 और सी0सी0टी0वी0 से सिटी बसों को ट्रैक किया जा रहा है। इसी तरह की अनेक व्यवस्थाएं विभिन्न शहरों में काम करना शुरू कर चुकी हैं। उन्होंने कहा कि नागरिकों के जीवन को स्मार्ट सिटी मिशन के तहत आसान बनाया जा रहा है। बेहतर नागरिक सुविधाएं उपलब्ध करायी जा रही हैं। स्मार्ट सिटी में आने वाले समय में इंटीग्रेटेड कमाण्ड सेण्टर स्थापित होगा, जिनसे नागरिक सुविधाओं के साथ-साथ विभिन्न सेक्टर्स के लिए संचालन किया जा सकेगा।
प्रधानमंत्री जी ने कहा कि चयनित 100 शहरों में से 11 ने काम करना शुरू कर दिया है। अगले कुछ महीनों में 50 शहरों में किए जा रहे कार्यों के परिणाम मिलने लगेंगे। विभिन्न नागरिक सुविधाएं और सेवाएं आॅनलाइन हुई हैं। अब गवर्नेन्स भी स्मार्ट हो रहा है। शहरों में न सिर्फ नयी व्यवस्थाओं का निर्माण हो रहा है, बल्कि वैकल्पिक फण्डिंग के तहत पुणे, हैदराबाद और इन्दौर में म्युनिसिपल बाॅण्ड के माध्यम से लगभग 550 करोड़ रुपए जुटाए गए हैं। उत्तर प्रदेश के लखनऊ और गाजियाबाद शहर भी इस दिशा में आगे बढ़ रहे हैं और आने वाले समय में फण्डिंग की वैकल्पिक व्यवस्था म्युनिसिपल बाॅण्ड के माध्यम से करेंगे। उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी मिशन के तहत देशभर में 07 हजार करोड़ रुपए से अधिक की योजनाओं का काम पूरा हो चुका है। 52 हजार करोड़ रुपए की योजनाओं पर तेजी से काम चल रहा है।
प्रधानमंत्री जी ने कहा कि हमारी प्रतिबद्धता है कि भविष्य की व्यवस्थाओं का निर्माण 05 ई0 पर आधारित हो। 05 ई0 यानि ईज़ आॅफ लिविंग, एजुकेशन, इम्प्लाॅयमेण्ट, इकोनाॅमी और एण्टरटेंमेन्ट। सरकार नागरिकों के जीवन स्तर की गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है। वर्ष 2022 तक भारत की आजादी के 75 वर्ष होने पर हर सर पर छत होगी। बीते तीन वर्षों में शहरों के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी के तहत 54 लाख आवास स्वीकृत किए जा चुके हैं। सिर्फ शहरों में ही नहीं, गांवों में भी 01 करोड़ से अधिक आवास जनता को सौंपे जा चुके हैं। ये आवास महिलाओं के सशक्तिकरण का भी सबूत हैं। बीते तीन वर्षों में 87 लाख महिलाओं के नाम या उनके साथ साझेदारी पर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत उपलब्ध कराए गए आवास की रजिस्ट्री की जा चुकी है। आज जो मकान बन रहे हैं, उनमें शौचालय भी हैं। सौभाग्य योजना के तहत बिजली भी, उजाला के तहत एल0ई0डी0 बल्ब भी। इन घरों के लिए सरकार ब्याज में राहत तो दे ही रही है, पहले के मुकाबले अब घरों का एरिया भी बढ़ा दिया गया है।
प्रधानमंत्री जी ने कहा कि स्ट्रीट लाइट, सीवरेज, पेयजल, पार्कों की स्थिति को सही किया जा रहा है। शहरी बेघरों को आवास देने की योजना पर काम चल रहा है। इसकी शुरुआत भी अटल जी ने ही की थी। वे कहते थे कि बिना पुराने को संवारे, नया भी नहीं संवरेगा। यह बात उन्होंने नये व पुराने लखनऊ के बारे में कही थी। उन्होंने कहा कि अमृत योजना का नाम भी अटल जी के नाम से जुड़ा है। उनकी सोच के साथ पुराने शहरों में दशकों पुरानी व्यवस्था को सुधारा जा रहा है। उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के नेतृत्व में कार्य करने वाली सरकार की सराहना करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना तथा शहरी विकास की अन्य योजनाओं के क्षेत्र में अच्छा कार्य किया गया है।
इस अवसर पर प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी), अमृत योजना और स्मार्ट सिटी मिशन योजनाओं पर एक लघु फिल्म का प्रदर्शन किया गया। आवास एवं शहरी विकास के संदर्भ में तीन साल के विकास की फिल्म दिखायी गयी। प्रधानमंत्री जी ने विकास का विवरण प्रदर्शित करती पुस्तक का विमोचन किया। उन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत ऋण प्रदान करने में अच्छा कार्य करने वाले एच0डी0एफ0सी0 और एस0बी0आई0 बैंकों को पुरस्कृत किया। पुणे, हैदराबाद और इन्दौर को म्युनिसिपल बाॅण्ड द्वारा फण्डिंग की व्यवस्था करने के लिए पुरस्कृत किया गया। पुणे को गुड गवर्नेन्स के लिए पुरस्कार दिया गया। अहमदाबाद और भोपाल को इनोवेटिव आइडिया के सम्बन्ध में बेस्ट इनोवेटिव अवाॅर्ड से पुरस्कृत किया गया।
स्मार्ट सिटी मिशन के तहत सर्वोत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए सूरत को बेस्ट परफार्मिंग सिटी का अवाॅर्ड दिया गया। प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के उत्तर प्रदेश के 60 हजार 426 लाभार्थियों के बैंक खाते में 606.85 करोड़ रुपए का आॅनलाइन ट्रांसफर प्रधानमंत्री जी द्वारा रिमोट का बटन दबाकर किया गया। झांसी की महिला लाभार्थी ने वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से रुपए मिलने पर प्रधानमंत्री जी के प्रति आभार व्यक्त किया। इसी प्रकार गोरखपुर, वाराणसी, आगरा और लखनऊ की महिला लाभार्थियों ने मकान मिलने पर अपना आभार व्यक्त किया।
इससे पूर्व, प्रधानमंत्री जी ने स्वच्छ भारत मिशन, अमृत योजना, स्मार्ट सिटी, प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के सम्बन्ध में देशभर में चल रहे कार्यों और परियोजनाओं पर आधारित प्रदर्शनी का अवलोकन किया। प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) की देशभर से आयीं महिला लाभार्थियों से संवाद किया। ये सभी महिलाएं विभिन्न प्रदेशों और केन्द्र शासित राज्यों से आयीं थीं।
इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने प्रधानमंत्री जी का स्वागत करते हुए प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी), अमृत योजना तथा स्मार्ट सिटी मिशन की तीसरी वर्षगांठ के कार्यक्रम के आयोजन के लिए लखनऊ को चुने जाने के लिए उनके प्रति आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि इन योजनाओं की सफलता में उत्तर प्रदेश की बड़ी भूमिका है। 21 प्रतिशत आबादी उत्तर प्रदेश में शहरों में निवास करती है। यहां पर सर्वाधिक 653 नगर निकाय हैं। विकास की नियोजित और व्यवस्थित सोच के तहत आम जनमानस को शहरों में लाभान्वित किया जा रहा है। उत्तर प्रदेश में पिछले 16 महीनों से इन तीनों योजनाओं पर पूरी प्रतिबद्धता के साथ कार्य किया जा रहा है। पिछले एक वर्ष में 04 लाख 32 हजार आवास प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के तहत दिए गए।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन पर तेजी से कार्य हो रहा है। शहरी क्षेत्रों में शौचालय निर्माण किया जा रहा है। 02 अक्टूबर, 2018 तक सभी शहरों को ओ0डी0एफ0 किए जाने की दिशा में कार्य हो रहा है। नगर निकाय आत्मनिर्भरता एवं आय में वृद्धि की दिशा में आगे बढ़े हैं। इनकी आय 18 प्रतिशत से बढ़कर 28 प्रतिशत हुई है। शहरी क्षेत्रों के विकास की चुनौतियों के मद्देनजर योजनाएं बनायी गयीं हैं। गाजियाबाद और लखनऊ शहर म्युनिसिपल बाॅण्ड के माध्यम से आने वाले समय में वैकल्पिक फण्डिंग की व्यवस्था करने जा रहे हैं। इनसे विकास को एक नया आयाम मिलेगा। साॅलिड वेस्ट मैनेजमेंट की दिशा में भी कार्य किया जा रहा है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि 15 जुलाई, 2018 से प्रदेश में 50 माइक्राॅन से कम की पाॅलिथीन प्रतिबंधित की जा चुकी है। आने वाले समय में प्लास्टिक कप और प्लेटों को भी प्रतिबंधित किया जाएगा। स्मार्ट सिटी के तहत सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था को सुधारा जा रहा है। तीन शहरों में मेट्रो रेल का संचालन हो रहा है। आने वाले समय में मेट्रो रेल के संचालन की कार्यवाही अन्य शहरों के लिए भी की जा रही है। इलेक्ट्रिक वाहनों को प्रोत्साहित किया जा रहा है। 06 लाख 35 हजार एल0ई0डी0 स्ट्रीट लाइटों को नगर निकायों में बदला गया है, जिनसे 115 करोड़ रुपए की बचत हुई है। प्रदेश के 10 शहर स्मार्ट सिटी के लिए चयनित किए गए हैं, जिनके विकास का कार्य चल रहा है। पूरी प्रतिबद्धता के साथ शहरों का नियोजित और व्यवस्थित विकास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश नगरीय क्षेत्रों के व्यवस्थित विकास पर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में कार्य करेगा। मुख्यमंत्री जी ने इस अवसर पर प्रधानमंत्री जी का स्वागत अंग वस्त्र देकर किया।
केन्द्रीय गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी), अमृत योजना तथा स्मार्ट सिटी मिशन की तीसरी वर्षगांठ के अवसर को विकास पर्व बताते हुए कहा कि वर्ष 2022 तक नये भारत के निर्माण का सपना पूरा होगा। भारत की अर्थव्यवस्था तेजी से प्रगति कर रही है, जिसकी सराहना पूरी दुनिया में हो रही है। उन्होंने कहा कि लोगों के जीवन में परिवर्तन आ रहा है। स्मार्ट सिटी की दिशा में तेजी से कार्य चल रहा है। नगरीय निकाय और नगर निगम आत्मनिर्भरता की दिशा में आगे बढ़ें, इसकी व्यवस्था की जा रही है। हम सभी प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में सभी चुनौतियों पर विजय प्राप्त कर सफल होंगे।
केन्द्रीय आवास एवं शहरी कार्य राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि शहरों के विकास को व्यवस्थित और भली प्रकार से आगे बढ़ाया गया है। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 01 करोड़ आवास बनाए जाएंगे, जिनमें से 54 लाख स्वीकृत किए जा चुके हैं। वर्ष 2022 तक हर परिवार को छत मिलने का सपना साकार होगा।
उत्तर प्रदेश के नगर विकास मंत्री श्री सुरेश कुमार खन्ना ने प्रधानमंत्री जी सहित सभी के प्रति आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर राज्यपाल श्री राम नाईक, उप मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य, डाॅ0 दिनेश शर्मा, राज्य मंत्री श्री गिरीश यादव, अन्य मंत्रिगण एवं जनप्रतिनिधिगण, मुख्य सचिव श्री अनूप चन्द्र पाण्डेय, केन्द्रीय आवास एवं शहरी कार्य सचिव श्री दुर्गा शंकर मिश्रा, वरिष्ठ अधिकारीगण, मीडियाकर्मी एवं देश के विभिन्न प्रदेशों से आए महापौर, नगर आयुक्त सहित गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।
Categories: Uncategorized

cdadmin

Editor in Chief of City Darpan, national hindi news magazine.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *