नवजोत सिंह सिद्धू द्वारा विरासत -ए -खालसा को पर्यटन के गढ़ के तौर पर विकसित करने का विस्तृत नक्शा पेश
क श्रद्धालुओं के लिए बेहतर सहूलतें और बुनियादी ढांचों में सुधार की ज़रूरत पर ज़ोर
चंडीगढ़, 20 जुलाई:  राज्य में पर्यटन को उत्साहित करने के लिए पर्यटन एवं सांस्कृतिक मंत्री स. नवजोत सिंह सिद्धू ने एक विस्तृत नक्षा तैयार किया है जिसमें विरासत-ए-खालसा को पर्यटन के गढ़ के तौर पर विकसित करने के साथ ही ख़ालसे की  जन्म भूमि श्री आनन्दपुर साहिब को शानदार बुनियादी ढांचे और श्रद्धालुओं के लिए बेहतर सहूलतों से लैस करना एक अहम पक्ष है।
    आनंदपुर साहिब फाउंडेशन की एक मीटिंग की अध्यक्षता करते हुए स. सिद्धू ने कहा कि क्योंकि विरासत-ए-खालसा में दुनिया के कोने-कोने से बड़ी संख्या में सैलानी आते हैं इसलिए अब उपयुक्त समय है कि यहाँ बजट होटल, फूड कोर्ट, स्मारक चिह्नों को बेचने वाली दुकानें और अस्थायी रिहायशें जैसी सहूलतों का प्रबंध किया जाये। उन्होंने फाउंडेशन को हिदायत करते हुए कहा कि इस संबंधी वास्तुकार से विस्तृत योजना तैयार करवाई जाए जिससे तकरीबन 60 एकड़ की बाकी बचती जगह पर यह सहूलतें विकसित की जा सकें।
    स. सिद्धू ने इस संबंधी विस्तृत प्रस्तुति बनाने की जि़म्मेदारी फाउंडेशन को सौंपी जिससे इसके मूलभूत डिज़ाइन और ढांचो के साथ छेड़-छाड़ के बिना इस गौरवमयी प्रोजैक्ट को और विकसित करने का काम जारी रखा जा सके। उन्होंने आगे कहा कि केंद्र सरकार ने स्वदेश दर्शन स्कीम के अंतर्गत राज्य की ऐतिहासिक और धार्मिक महत्ता वाले स्थानों के विकास के लिए पहले ही 99 करोड़ रुपए की राशि मंज़ूर की हुई है जिसमें से 29 करोड़ रुपए की राशि सिफऱ् श्री आनन्दपुर साहिब के सर्वपक्षीय विकास पर ख़र्ची जायेगी।
    वित्त मंत्री स. मनप्रीत सिंह बादल द्वारा श्री आनन्दपुर साहिब को श्री नैना देवी के साथ रोप वे के द्वारा जोडऩे के प्रस्ताव का समर्थन करते हुए स. सिद्धू ने कहा कि वह इस संबंधीे हिमाचल प्रदेश के अपने समकक्ष के साथ बात करेंगे जिससे इस प्रोजैक्ट में तेज़ी लाई जा सके और इस क्षेत्र के पर्यटन पक्ष से सामथ्र्य का और भरपूर इस्तेमाल हो सके।
श्री आनन्दपुर साहिब को श्री दरबार साहिब अमृतसर की हेरिटेज स्ट्रीट की तजऱ् पर विकसित करने की ज़रूरत पर ज़ोर देते हुए स. सिद्धू ने पर्यटन विभाग के सचिव को एक विस्तृत योजना बनाने के लिए कहा जो यह यकीनी बनाए कि सभी इमारतें, दुकानें और ढांचे एकसार और एकसमान हों। इस पर विभाग के सचिव ने स. सिद्धू को जानकारी दी कि विभाग की तरफ से स्वदेश दर्शन प्रोजैक्ट के अंतर्गत पहले ही इस तजऱ् पर काम किया जा रहा है और जल्द ही इस प्रोजैक्ट के द्वारा इस क्षेत्र की समृद्ध विरासत को और शानदार रूप प्रदान किया जाएगा।
    पर्यटन मंत्री ने श्री आनन्दपुर साहिब और इसके पास के क्षेत्र में वन अधीन क्षेत्रफल को बढ़ाने की वकालत की और कहा कि यह क्षेत्र कुदरती सुन्दरता से भरपूर है और पर्यावरण में संतुलन बनाए रखने के पक्ष से इसका अहम स्थान है।
    मीटिंग में यह भी जानकारी दी गई कि खालसा हेरिटेज प्रोजैक्ट श्रद्धालुओं के आकर्षण का केंद्र बनता जा रहा है और यहाँ 92,60,564 सैलानी आ चुके हैं जोकि 7 सालों से कम समय के दौरान किसी भी स्मारक स्थल पर आए सैलानियों की संख्या के पक्ष से सबसे अधिक है। इस मौके पर सहकारिता और जेल मंत्री स. सुखजिन्दर सिंह रंधावा, अतिरिक्त मुख्य सचिव राजस्व श्रीमती विन्नी महाजन, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री तेजवीर सिंह, सचिव पर्यटन विभाग श्री विकास प्रताप, सचिव लोक निर्माण विभाग श्री हुस्न लाल और सचिव व्यय डा. अभिनव त्रिखा भी उपस्थित थे।
Categories: Uncategorized

cdadmin

Editor in Chief of City Darpan, national hindi news magazine.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *