उद्योग मंत्री की मौजुदगी में मंडी गोबिन्दगढ़ में 602 करोड़ की लागत से 41 स्टील उद्योग स्थापित करने के लिए एम.ओ.यू. साईन किये गए
25 जुलाई की कैबिनेट मीटिंग की मंजूरी के बाद नयी संशोधित उद्योग नीति जारी की जायेगी -अरोड़ा
नई नीति में औद्योगिक इकाईयोँ को स्टेट जी.एस.टी., प्रॉपर्टी टैक्स, बिजली ड्यूटी और स्टैंप ड्यूटी में बड़ी राहत दी जाएगी
बठिंडा में 23 हज़ार करोड़ की लागत से स्थापित की जायेगी पेट्रो केमिकल इंडस्ट्री
मंडी गोबिन्दगढ़ के नज़दीक वजीराबाद में 133 एकड़ क्षेत्रफल में बनाया जायेगा नया फोकल प्वाईंट
फ़तेहगढ़ साहिब जि़ले में तीन औद्योगिक क्लस्टर स्थापित किये जाएंगे
उद्योग और वाणिज्य मंत्री ने मंडी गोबिन्दगढ़ के उद्योगपतियों की सुनी समस्याएं
फ़तेहगढ़ साहिब, 19 जुलाई-पंजाब की कैप्टन सरकार द्वारा पंजाब में बड़े स्तर पर औद्योगिक विकास, नये उद्योगों को उत्साहित करने और पुराने उद्योगों को फिर स्थापित करने और उनमें विस्तार करने के लिए संशोधित हुई नयी औद्योगिक नीति 25 जुलाई को होने वाली पंजाब कैबिनेट की मीटिंग में मंजूरी के उपरांत लागू कर दी जायेगी। जिसमें औद्योगिक इकाईयोँ को स्टेट जी.एस.टी. से छूट, प्रॉपर्टी टैक्स से छूट, बिजली ड्यूटी से छूट, स्टैंप ड्यूटी से छूट जैसी अन्य बड़ी राहतें दीं जाएंगी। यह प्रगटावा पंजाब के उद्योग और वाणिज्य मंत्री श्री सुन्दर शाम अरोड़ा ने मंडी गोबिन्दगढ़ में विभिन्न औद्योगिक संगठनों की समस्याएँ सुनने के लिए मीटिंग की अध्यक्षता करते हुए किया। इस मौके पर उद्योग मंत्री की मौजुदगी में मंडी गोबिन्दगढ़ में 602 करोड़ 50 लाख रुपए के निवेश से नये 41 स्टील उद्योग स्थापित करने के लिए उद्योगपतियों के साथ पंजाब सरकार द्वारा एम.ओ.यू. साईन किये गए। उन्होंने बताया कि यह उद्योग स्थापित होने से तकरीबन 4500 से अधिक बेरोजग़ारों को रोजग़ार भी हासिल होगा। उन्होंने और बताया कि बठिंडा में 23 हज़ार करोड़ की लागत के साथ पेट्रो केमिकल इंडस्ट्री भी स्थापित की जा रही है।
उद्योग मंत्री ने अलग -अलग औद्योगिक एसोसिएशनों के बड़े जलसे को संबोधन करते हुए कहा कि कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने मतदान के दौरान जो घर -घर नौकरी देने का वायदा किया था उसकी पूर्ति के लिए पंजाब में बड़े स्तर पर उद्योग स्थापित करने के लिए माहौल तैयार किया जायेगा। उन्होंने कहा कि उद्योग पंजाब की रीढ़ की हड्डी हैं क्योंकि इंडस्ट्री को प्रफुल्लित करके ही पंजाब में से बेरोजगारी दूर की जा सकती है। उन्होंने उद्योगपतियों को भरोसा दिलाया कि बिना किसी भेदभाव से लघु उद्योग, मध्यम उद्योग और बड़े उद्योगों को 5 रुपए प्रति यूनिट बिजली मुहैया करवानी यकीनी बनाई जायेगी। उन्होंने ऐलान किया कि मंडी गोबिन्दगढ़ के नज़दीक वजीराबाद में 133 एकड़ क्षेत्रफल में नया फोकल प्वाईंट बनाया जायेगा जिससे बड़े स्तर पर छोटे और बड़े उद्योग स्थापित किये जा सकेंगे। उन्होंने बताया कि इसके इलावा बसी पठाणा में भी 8 एकड़ क्षेत्रफल में फोकल प्वाईंट बनाया जायेगा।
श्री अरोड़ा ने कहा कि पिछले एक साल के दौरान सरकारी और ग़ैर सरकारी क्षेत्रों में 1लाख 56 हज़ार बेरोजग़ारों को रोजग़ार मुहैया करवाया गया है। उन्होंने बताया अब तक 9200 करोड़ रुपए के पूँजी निवेश के साथ उद्योग स्थापित करने के लिए परवानगी दी जा चुकी है। जिसके साथ 50 हज़ार बेरोजग़ारों को रोजग़ार हासिल होगा। उन्होंने कहा कि पंजाब में अमन और शान्ति का माहौल होने के कारण बड़े स्तर पर देश विदेश की कंपनियों द्वारा उद्योग स्थापित करने के लिए रुचि दिखाई जा रही है। उन्होंने बताया कि समूचे भारत में 5 बड़े श्रैडिंग प्लांट लगाए जा रहे हैं जिनमें से एक प्लांट मंडी गोबिन्दगढ़ में लगाया जायेगा। उन्होंने यह भी ऐलान किया कि मंडी गोबिन्दगढ़, फ़तेहगढ़ साहिब और बसी पठाना में लघु उद्योगों को उत्साहित करने के लिए क्लस्टर स्थापित किये जाएंगे जिनमें से हरेक पर 15 करोड़ रुपए ख़र्च आऐगा जिसमें से पंजाब सरकार की तरफ से 13 करोड़ 50 लाख रुपए और औद्योगिक इकाईयों द्वारा 1 करोड़ 50 लाख रुपए ख़र्च किये जाएंगे। कैबिनेट मंत्री ने बताया कि पंजाब सरकार की तरफ से व्यापारियों को 340 करोड़ रुपए का वैट रीफंड और 48 करोड़ रुपए का जी.एस.टी. रीफंड दिया जा चुका है। उन्होंने बताया कि पंजाब सरकार की तरफ से उद्योगों को 5 रुपए यूनिट बिजली देने के लिए सरकार की तरफ से 1440 करोड़ रुपए की अदायगी सब्सिडी के तौर पर पावर निगम को की गई है।
उद्योग मंत्री ने बताया कि 1 करोड़ 23 लाख रुपए की लागत के साथ मंडी गोबिन्दगढ़ के औद्योगिक फोकल प्वाईंट की सडक़ों के निर्माण के लिए टैंडर लग चुका है। उन्होंने बताया कि मंडी गोबिन्दगढ़ की औद्योगिक इकाईयोँ को निर्विघ्न बिजली सप्लाई देने के लिए पावर निगम के अधिकारियों को हिदायतें की गई हैं। उन्होंने बताया कि मंडी गोबिन्दगढ़ के फोकल प्वाईंट को लिंक करता हुआ जी.टी. रोड पर 5 करोड़ की लागत से अंडर पाथ बनाया जायेगा। इस मौके पर अलग -अलग औद्योगिक एसोसिएशनों के नुमायंदों ने अपनी समस्याएँ उद्योग मंत्री के ध्यान में लाईं, जिस सम्बन्धित उद्योग मंत्री ने भरोसा दिलाया कि उनकी सभी समस्याएँ पहल के आधार पर हल की जाएंगी।
इस मौके पर विधायक अमलोह काका रणदीप सिंह ने संबोधित करते हुए कहा कि मंडी गोबिन्दगढ़ की इंडस्ट्री का पंजाब की आर्थिकता में बहुत बड़ा योगदान है, क्योंकि यहाँ के स्टील उद्योग की तरफ से जहाँ बड़े स्तर पर स्टील का उत्पादन किया जा रहा है वहीं बड़ी संख्या में यहाँ की इंडस्ट्री ने रोजग़ार के मौके भी पैदा किये हैं। उन्होंने कहा कि पिछली अकाली भाजपा सरकार की गलत नीतियों के कारण मंडी गोबिन्दगढ़ के 183 औद्योगिक यूनिट बंद हो गए थे जब कि मौजूदा कैप्टन सरकार की तरफ से बनाई गई नयी औद्योगिक नीति को भरपूर समर्थन मिला और एक साल में ही 172 नये यूनिट स्थापित हुए हैं। फ़तेहगढ़ साहिब के विधायक स. कुलजीत सिंह नागरा ने कहा कि फ़तेहगढ़ साहिब के ट्रक बॉडी बिल्डर उद्योग को और प्रफुल्लित करने के लिए क्लस्टर बना कर विशेष सहूलतें प्रदान की जाएंगी। उन्होंने गुरुद्वारा श्री फ़तेहगढ़ साहिब से ले कर गुरुद्वारा श्री ज्योति सरूप साहिब, रोज़ा शरीफ़ और चक्रेश्वरी देवी मंदिर धार्मिक स्थानों पर हर साल लाखों की संख्या में आने वाले श्रद्धालुओं को ध्यान में रखते बिजली की तारों को अंडर ग्राउंड करने का सुझाव भी दिया। बसी पठाणा के विधायक स. गुरप्रीत सिंह जी.पी. ने कहा कि बसी पठाणां के लघु उद्योगों को भी क्लस्टर बनाकर प्रफुल्लित किया जायेगा। इस मौके पर जि़ला कांग्रेस कमेटी के प्रधान स. हरिन्दर सिंह भांबरी और अलग -अलग औद्योगिक एसोसिएशनों के नुमायंदे विनोद वशिष्ट, महिंद्र गुप्ता, दिनेश गुप्ता, प्रकाश चंद गर्ग, जतिन्दर काहलों, जतीन सूद, हरमीत सिंह, मनोज भंवरा और राजन गुप्ता ने भी संबोधित किया।
उद्योग और वाणिज्य विभाग के प्रमुख सचिव श्री राकेश वर्मा ने कहा कि नयी औद्योगिक नीति के अनुसार उद्योगपतियों को अलग -अलग महकमों से परवानगी लेने के लिए पोर्टल की सुविधा उपलब्ध करवाई जायेगी और सभी विभागों के साथ सम्बन्धित प्रवानगियां ऑनलाईन ही प्राप्त हो जाएंगी। उन्होंने यह भी बताया कि जि़ला स्तर पर 10 करोड़ रुपए तक के उद्योग स्थापित करने के लिए सभी प्रवानगियां डिप्टी कमिशनर की अध्यक्षता अधीन बनी हुई जि़ला स्तरीय कमेटी की तरफ से सिंगल विंडो व्यवस्था के द्वारा दी जाएंगी। डायरैक्टर उद्योग और वाणिज्य श्री डी.पी.एस. खरबन्दा ने कहा कि औद्योगिक इकाईयोँ को सहूलतें प्रदान करने के लिए कॉमन फैसिलटी सैंटर स्थापित करने के लिए 23 औद्योगिक क्लस्टरों की शिनाख्त की गई है जिनमें से एक मंडी गोबिन्दगढ़ का स्टील रोलिंग क्लस्टर भी शामिल है।
अतिरिक्त डिप्टी कमिशनर स. जसप्रीत सिंह, एस.पी. (डी) स. हरपाल सिंह, एस.डी.एम. आनंद सागर शर्मा, जि़ला उद्योग केंद्र के जनरल मैनेजर श्री हरजिन्दर सिंह पन्नू, ब्लाक मंडी गोबिन्दगढ़ के कांग्रेस प्रधान रजिन्दर बिट्टू, यूथ कांग्रेस के प्रधान गुरिन्दपाल सिंह हैपी, डॉ. मनमोहन कौशल, ब्लाक कांग्रेस अमलोह के प्रधान सिंगारा सिंह, श्री राम कृष्ण भल्ला और अन्य प्रमुख नेताओं ने भी हिस्सा लिया।
Categories: Uncategorized

cdadmin

Editor in Chief of City Darpan, national hindi news magazine.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *