मुख्यमंत्री द्वारा नशों के खि़लाफ़ जंग में शैक्षिक संस्थाओं को अहम भूमिका निभाने का न्योता
अनएडिड कॉलेजों की सांझी एक्शन कमेटी द्वारा नशों के खि़लाफ़ विश्व की बड़ी मुहिम का आगाज़
चंडीगढ़, 30 जुलाई:  मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने आज यहाँ अनएडिड कॉलेजों की सांझी एक्शन कमेटी द्वारा नशों के खि़लाफ़ करवाई गई विश्व की बड़ी मुहिम की शुरुआत करते हुए राज्य की शैक्षिक संस्थाओं को सरकार द्वारा नशे के ख़ात्मे के लिए किये जा रहे उपायोंं में सक्रिय भूमिका निभाने का न्योता दिया।
शैक्षिक संस्थाओं की विभिन्न एसोसिएशनों के चेयरमैनों, सांझी एक्शन कमेटी के चेयरमैन और सदस्यों प्रबंधकों द्वारा मुख्यमंत्री, कैबिनेट मंत्री, कुल हिंद कांग्रेस की सचिव और पंजाब मामलों की इंचार्ज आशा कुमारी की मौजुदगी में प्रण लिया कि वह अपनी-अपनी संस्थाओं को नशा मुक्त बनाने के साथ-साथ विद्यार्थियों को नशे के बुरे प्रभाव और नतीजों से अवगत करवाएंगे। उन्होंने कहा कि वह नशे के खि़लाफ़ जागरूकता को निचले स्तर तक फैलाने के लिए विशेष उपाय करेंगे।
इस अवसर पर बोलते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि लाखों विद्यार्थियों और शैक्षिक संस्थाओं के भारी संख्या स्टाफ के सम्मिलन से नशों के विरुद्ध जंग को उचित ढंग से लागू करके अच्छे नतीजे सामने लाए जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की कोशिशों से नशे कम हुए हैं और नशों से मौतों के बाद इस बीमारी के खतरों से जूझ रहे नौजवानों ने इलाज के लिए अस्पतालों में आना शुरू किया है। उन्होंने कहा कि अध्यापकों की तरफ से पढ़ाई मानक विद्या नशों के खि़लाफ़ जंग में अहम भूमिका निभा सकती है और उनकी सरकार पहले ही एलान कर चुकी है कि विद्यार्थियों को मानक शिक्षा प्रदान कराने के लिए अन्य विभागों के खर्चों में कटौती की जायेगी जिससे शिक्षा का ढांचा और मज़बूत किया जा सके।
शैक्षिक संस्थाओं में खेल को और उत्साहित करने की बात कहते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रबंधकों को खेल और अन्य सरगर्मियों में विद्यार्थियों का अधिक से अधिक सम्मिलन यकीनी बनाना चाहिए जिससे उनकी आंतरिक ऊर्जा को सार्थकता की तरफ़ लगाया जा सके। मानक और कदरों -कीमतों पर आधारित शिक्षा मुहैया करवाने की बात पर ज़ोर देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इस पक्ष द्वारा भी विशेष ध्यान देना चाहिए जिससे राज्य के नौजवानों को सिफऱ् भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया भर में अच्छी नौकरियाँ मिल सकें। उन्होंने सांझी एक्शन कमेटी को कहा कि नशों के खि़लाफ़ जागरूकता फैलाने के लिए वह युद्ध स्तर पर मुहिम शुरु करें और नशों के बुरे प्रभावों से नौजवान पीढ़ी को अवगत करवाएं। उन्होंने कहा कि नशों की मार का सामना कर रहे नौजवानों को नशा मुक्ति और पुर्नवास केन्द्रों में आने के लिए प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि लोगों को भी नशों के शिकार लोगों के साथ प्यार और विनम्रता से पेश आना चाहिए जिससे वह इस सामाजिक बुराई से उभर सकें।
इस अवसर पर संबोधित करते हुए खेल और युवा मामलों के मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढी ने कहा कि राज्य में खेल को और मज़बूत करने के मकसद से सरकार द्वारा खेल नीति जल्द ही लाई जा रही है जिससे बचपन से ही बच्चों को खेल से जोड़ा जायेगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा लगातार युवा मेले करवाए जाएंगेे।
इससे पहले ज्वाइंट एक्शन कमेटी के चेयरमैन अश्वनी सेखड़ी ने बताया कि इस कमेटी के अधीन लगभग 1600 कॉलेजों के 10 लाख से अधिक विद्यार्थी डैपो वालंटियर के तौर पर रजिस्टर हो चुके हैं और इसके इलावा 2000 मुलाज़ीम हैं। उन्होंने कहा कि नशों की कुरीति संबंधी लोगों को जागरूक करने के लिए राज्य स्तर पर नशा विरोधी मुहिम चलाई जायेगी।
इस अवसर पर स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्री ब्रह्म मोहिंद्रा, वन मंत्री साधु सिंह धर्मसोत, मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल, एडवोकेट जनरल अतुल्य नन्दा और विधायक दविन्दर सिंह घुबाया उपस्थित थे।
Categories: Uncategorized

cdadmin

Editor in Chief of City Darpan, national hindi news magazine.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *