मुख्यमंत्री ने प्रदेश में बाढ़ की स्थिति और तैयारियों की समीक्षा की
लखनऊ: 30 जुलाई, 2018: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने आज यहां शास्त्री भवन में प्रदेश में बाढ़ की स्थिति और तैयारियों की समीक्षा करते हुए कहा कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लोगों को राहत पहुंचाने के लिए सभी तैयारियां पूर्ण कर ली जाएं और ऐसी स्थिति आने पर लोगों को तत्काल राहत उपलब्ध कराते हुए बचाव कार्य किए जाएं। कच्चे घरों में रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया जाए। उन्हें पर्याप्त मात्रा में खाद्यान्न मुहैया कराते हुए उनके लिए साफ पेयजल की भी व्यवस्था की जाए।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि राहत सामग्री का वितरण जनप्रतिनिधियों के हाथों से करवाने का प्रयास किया जाए। राज्य सरकार द्वारा बाढ़ से निपटने के लिए जनपदों को 380 करोड़ रुपये की धनराशि उपलब्ध करायी जा चुकी है। ऐसे में बाढ़ राहत और बचाव कार्याें में कोई कोताही नहीं होनी चाहिए। पिछली बाढ़ में प्रभावितों को जिन मानकों के आधार पर सहायता उपलब्ध करायी गयी थी, इस बार भी उन्हीं को अपनाया जाए।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि बाढ़ से निपटने के लिए प्रभावित जनपदों में कन्ट्रोल रूम का संचालन सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने बाढ़ राहत केन्द्र स्थापित करने के साथ-साथ बाढ़ चैकियां सक्रिय करने के भी निर्देश दिये। उन्होंने बाढ़ग्रस्त जनपदों में नौकाओं की व्यवस्था सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि प्रभावित जिलों में बड़े आकार की नौकाओं का ही प्रयोग किया जाए, क्योंकि इससे दुर्घटना की सम्भावना कम रहती है। उन्होंने एन0डी0आर0एफ0 और एस0डी0आर0एफ0 की तैयारियों की समीक्षा करते हुए निर्देश दिये कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में एन0डी0आर0एफ0 तथा एस0डी0आर0एफ0 अपनी-अपनी उपलब्धता सुनिश्चित करें। यह अवश्य सुनिश्चित किया जाए कि एक जगह पर यह दोनों टीमें मौजूद न रहें।
मुख्यमंत्री जी ने निर्देश दिये कि लोगों को नदी की कटान के विषय में पूरी सूचना दी जाए और किनारों से एकदम दूर रहने की सलाह दी जाए। बाढ़ में पानी के चढ़ते और उतरते समय ही कटान की सर्वाधिक सम्भावना होती है। उन्होंने बाढ़ में बहकर आने वाली मछलियों के प्रयोग को भी रोकने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि इनसे डायरिया फैलने की सम्भावना रहती है। उन्होंने चिकित्सा विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में दवाओं, एण्टी स्नेक वेनम की पर्याप्त मात्रा में उपलब्धता सुनिश्चित करें। साथ ही, डाॅक्टरों की भी तैनाती की जाए और यह सुनिश्चित किया जाए कि वे उपलब्ध रहते हुए किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार रहें।
मुख्यमंत्री जी ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि संवेदनशील स्थलों पर बाढ़ चैकियों की स्थापना की जाए और रात भर पेट्रोमैक्स के माध्यम से प्रकाश की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। उन्होंने तटबंधों में आने वाली दरारों को फौरन भरने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि बाढ़ग्रस्त जनपदों के जिलाधिकारी तथा बाढ़ नियंत्रण तथा बचाव एवं राहत कार्याें में लगे कर्मी तैनाती स्थल पर अपनी उपस्थिति लगातार बनाये रखें। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि बाढ़ग्रस्त जनपदों में केरोसीन, एल0पी0जी0 सिलेण्डर, खाद्यान्न सामग्री की पर्याप्त मात्रा में उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। उन्होंने बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में पशुओं के लिए चारे की भी व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिये।
मुख्यमंत्री जी ने तटबंधों की सुरक्षा के साथ-साथ बाढ़ नियंत्रण के लिए तैनात सिंचाई विभाग के अभियंताओं की पुलिस बल के माध्यम से मदद करने के निर्देश गृह विभाग को दिये। उन्होंने प्रमुख सचिव गृह को अफवाहों को रोकने के निर्देश दिये। उन्होंने बाढ़ नियंत्रण, बचाव एवं राहत कार्याें में लगे सभी विभागों को किये गये कार्याें की दैनंदिन रिपोर्ट मुख्यमंत्री कार्यालय को उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिये।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि जलभराव वाले क्षेत्रों से जल निकासी की प्रभावी व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। उन्होंने नगर विकास विभाग को अपनी टीमें जलभराव वाले क्षेत्रों में तैनात करने के भी निर्देश दिये। उन्होंने जल-जमाव वाली जगहों पर कीटनाशकों के छिड़काव के भी निर्देश दिये। गांवों में स्वच्छता सुनिश्चित करने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि जर्जर भवनों में रहने वालों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया जाए। उन्होंने राहत एवं बचाव कार्याें में स्वयंसेवी संगठनों तथा सामाजिक संगठनों की मदद लेने के भी निर्देश दिये।
बैठक के दौरान मुख्यमंत्री जी को अपर मुख्य सचिव राजस्व तथा एस0डी0आर0ए0 की मुख्य कार्यपालक अधिकारी श्रीमती रेणुका कुमार ने बाढ़ के प्रति संवेदनशील जनपदों के विषय में अवगत कराया। इसके अलावा, उन्होंने 1 जुलाई से 29 जुलाई, 2018 के मध्य आंधी, तूफान, वज्रपात, वर्षा से हुई क्षति के विषय में भी मुख्यमंत्री जी को जानकारी दी। उन्होंने राजस्व विभाग द्वारा अब तक की गयी तैयारियों और कार्यवाही के विषय में भी मुख्यमंत्री जी को अवगत कराया।
इस अवसर पर सिंचाई विभाग, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग, पशुधन विभाग, खाद्य एवं रसद विभाग, नगर विकास/शहरी नियोजन विभाग, पंचायतीराज विभाग तथा मौसम विज्ञान विभाग/रिमोट सेसिंग के वरिष्ठ अधिकारियों ने मुख्यमंत्री जी को अपनी-अपनी तैयारियों के विषय में अवगत कराया।
इस अवसर पर मुख्य सचिव डाॅ0 अनूप चन्द्र पाण्डेय, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री एस0पी0 गोयल सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।
Categories: Uncategorized

cdadmin

Editor in Chief of City Darpan, national hindi news magazine.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *