हरियाणा रोडवेज विद्यार्थियों, साक्षात्कार के लिए जाने वाले बेरोजगार युवाओं, एक सहायक के साथ शत-प्रतिषत दिव्यांगों, स्वतंत्रता सेनानियों, वीरता पुरस्कार प्राप्त सैनिकों, आपातकाल के पीडि़त पति-पत्नी, बुजुर्गों, पूर्व विधायकों-सांसदों, प्रैस संवाददाताओं, पुलिस व जेल विभागों के कर्मचारियों समेत समाज के कई वर्गां को मुफ्त या रियायती यात्रा सुविधाएं मुहैया करवाकर अपनी सामाजिक जिम्मेदारी भी बखूबी निभा रहा है: कृष्ण लाल पंवार 
चंडीगढ़, 30 जलाई- हरियाणा परिवहन मंत्री श्री कृष्ण लाल पंवार ने कहा कि हरियाणा रोडवेज विद्यार्थियों, साक्षात्कार के लिए जाने वाले बेरोजगार युवाओं, एक सहायक के साथ शत-प्रतिषत दिव्यांगों, स्वतंत्रता सेनानियों, वीरता पुरस्कार प्राप्त सैनिकों, आपातकाल के पीडि़त पति-पत्नी, बुजुर्गों, पूर्व विधायकों-सांसदों, प्रैस संवाददाताओं, पुलिस व जेल विभागों के कर्मचारियों समेत समाज के कई वर्गां को मुफ्त या रियायती यात्रा सुविधाएं मुहैया करवाकर अपनी सामाजिक जिम्मेदारी भी बखूबी निभा रहा है।
        परिवहन मंत्री आज यहां आयोजित एक पत्रकार सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।
उन्होंने बताया कि प्रदेश के वरिष्ठ नागरिकों को राज्य की सीमा के अन्दर बस किराये में दी जा रही 50 प्रतिषत छूट को बढ़ाकर अन्य राज्यों के गन्तव्य स्थान तक कर दिया गया है। रक्षाबंधन पर माताओं-बहनों और बच्चों को मुफ्त यात्रा की सुविधा दी जा रही है। प्रदेश में दिनों-दिन बढ़ती परिवहन सेवाओं की मांग के चलते विभिन्न क्षेत्रों में नए डिपो व सब-डिपो स्थापित किए जा रहे हैं। पंचकूला को पूर्ण डिपो का दर्जा दिया गया है तथा असंध में सब-डिपो स्थापित करने की प्रक्रिया जारी है। सभी नगर निगमों को उनके अधिकार क्षेत्र के भीतर राज्य परिवहन उपक्रम घोषित किया गया है।
          प्रदेश के महत्वपूर्ण स्थानों पर 105 बस अड्डे स्थापित किए गए हैं। एनआईटी फरीदाबाद में पीपीपी मोड पर बस टर्मिनल का विकास किया जा रहा है। करनाल, गुरुग्राम और फरीदाबाद में भी आधुनिक बस टर्मिनल बनाए जाएंगे। तोशाम, बरवाला (पंचकूला), पुन्हाना, फिरोजपुर-झिरका, तावडू, नूंह, झज्जर, सांपला और नाथूसरी चौपटा में नए बस अड्डे बनाए गए हैं। बिलासपुर, रादौर, कुंजपुरा, फतेहाबाद, कालांवाली, बहादुरगढ़ तथा नांगल चौधरी में बस अड्डों का निर्माण कार्य जारी है।
          उन्होंने बताया कि बसों के बेहतर रख-रखाव के लिए कार्यशालाओं को नवीनतम मशीनरी, औजार और बुनियादी ढांचा उपलब्ध करवाकर आधुनिक बनाया जा रहा है। वार्षिक योजना 2018-19 के दौरान नए बस अड्डों व कर्मशालाओं के निर्माण के लिए 100 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। उन्होंने बताया कि बस स्टैंड गुरुग्राम में 1.63 करोड़ रुपये की लागत से 48 स्टाफ क्वार्टरों का निर्माण किया गया है।
उन्होंने बताया क िसूचना प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करने के उद्देश्य से विभाग की विभिन्न गतिविधियों का कम्प्यूटीकरण किया जा रहा है। डिपो प्रबंधन प्रणाली के अलावा ऑनलाइन एडवांस रिजर्वेशन तथा टिकटिंग प्रणाली शुरू की गई है।
उन्होंने बताया कि हरियाणा रोडवेज देश के बेहतरीन राज्य परिवहनों में से एक है जिसके पास इस समय लगभग 4100 बसों का विशाल बेड़ा है। बस बेड़े का समुचित संचालन सुनिश्चित करने के लिए विभाग ने 1628 चालकों को नियुक्ति-पत्र जारी किए हैं। विभिन्न डिपुओं और मुख्यालय में लगभग 450 लिपिकों को नियुक्ति दी गई है। नियमित आधार पर हैल्पर व स्टोरमैन के पदों को भरने की प्रक्रिया जारी है।
उन्होंने बताया कि राज्य में संचालित सभी चालक प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थानों से ट्रेनिंग लेने उपरांत लाइसेंस रिन्यू करवाते समय लाइसेंसधारकों को ड्राइविंग टैस्ट से छूट प्रदान की गई है। हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट लगाने की योजना के तहत जून, 2018 तक नए व पुराने वाहनों पर 25,80,619 हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेटें लगाई गई हैं।
  उन्होंने बताया कि नियामक शाखा द्वारा वर्ष 2016-17 के दौरान 1583.05 करोड़ रुपये की राषि एकत्र की गई। वित्त वर्ष 2017-18 में रखे गए 2500 करोड़ रुपये के लक्ष्य के विरुद्ध 2778.54 करोड़ रुपये एकत्रित किए गए। चालू वित्त वर्ष 2018-19 की प्रथम तिमाही में जून, 2018 तक 730 करोड़ रुपये की प्राप्ति की जा चुकी है जो कि पिछले वित्त वर्ष की प्रथम तिमाही में अर्जित की गई 615 करोड़ रुपये की राषि के मुकाबले काफी अधिक है।
उन्होंने बताया कि नियामक शाखा द्वारा वर्ष 2016-17 के दौरान कुल 49,765 चालान किए गए जिससे लगभग 89 करोड़ रुपये की राशि चालान फीस के रूप में अर्जित की गई। वर्ष 2017-18 के दौरान कुल 37,649 चालान किए गए जिससे लगभग 90 करोड़ रुपये की राशि अर्जित की गई। वर्ष 2017-18 के दौरान ओवरलोडिड वाहनों के कुल 26,445 चालान किए गए।
उन्होंने बताया कि प्रदेश के सभी जिलों में एकीकृत परिसर स्थापित करने का निर्णय लिया गया है, जिसमें चालक प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान, निरीक्षण एवं प्रमाणन केन्द्र, प्रादेशिक परिवहन प्राधिकारी भवन तथा स्वचालित चालक प्रशिक्षण ट्रैक शामिल हैं। उन्होंने बताया कि वार्षिक आधार पर वाणिज्यिक वाहनों का फिटनेस चैक किया जाता है। सभी परिवहन वाहनों पर स्पीड गवर्नर लगाना अनिवार्य किया गया है और फिटनेस प्रमाण पत्र जारी करते समय इसे चैक किया जाता है। सभी वाणिज्यिक वाहनों पर रिफ्लेक्टिव टेप और सुरक्षा छड़ लगाना अनिवार्य किया गया है।
उन्होंने बताया कि मोटर वाहनों में सडक़ पात्रता की जांच के लिए जिला रोहतक के कन्हेली में इस केन्द्र में प्रति वर्ष 1,25,000-1,50,000 वाहनों की सडक़ पात्रता की जांच करने की क्षमता है। जिला भिवानी के गांव कालूवास, जिला नूह के छपेड़ा, जिला रेवाड़ी के गांव बावल-जयसिंहपुर खेड़ा, जिला जीन्द के गांव पेगा, जिला फरीदाबाद के गांव खेड़ी गुजरान तथा जिला करनाल के गांव उचानी में भी चालक प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान स्थापित किए जा रहे हैं। हरियाणा रोडवेज द्वारा भी 22 चालक प्रशिक्षण स्कूल चलाए जा रहे हैं।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार श्री राजीव जैन, परिवहन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री धनपत सिंह, सूचना, जन सम्पर्क एवं भाषा विभाग के महानिदेशक श्री समीर पाल सरो, अतिरिक्त परिवहन आयुक्त श्री वीरेन्द्र दहिया, संयुक्त परिवहन आयुक्त श्री सम्वर्तक सिंह के अलावा अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।
Categories: Uncategorized

cdadmin

Editor in Chief of City Darpan, national hindi news magazine.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *