पंजाब स्वच्छता मापदण्डों पर देश में से रहेगा अग्रणी- रजिया सुलताना
जल सप्लाई और सेनिटेशन मंत्री द्वारा ‘मेरा गाँव, मेरा मान’ मुहिम और स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण – 2018 की शुरूआत
ग्रामीण क्षेत्रों में 3 लाख शौचालयों का किया निर्माण
शौचालयों के निर्माण के लिए लाभपात्रियोंं को 725 करोड़ रुपए जारी
मंत्री द्वारा सफ़ाई मापदण्डों पर पूरे उतरने वाले गाँव, स्कूल, आंगनवाड़ी और स्वास्थ्य केंद्र और स्वच्छता चैंपियनों के लिए कुल 1.88 करोड़ के स्वच्छता सम्मान की घोषणा
चंडीगढ़, 27 जुलाई-राज्य में स्वच्छता सर्वेक्षण ग्रामीण – 2018 और ‘मेरा गाँव, मेरा मान’ मुहिम की शुरुआत के मौके पर जल सप्लाई और सेनिटेशन मंत्री श्रीमती रजिया सुलताना ने कहा कि पंजाब जीवन के हर क्षेत्र और मानवीय विकास के मापदण्डों पर हमेशा अग्रणी रहा है और हमें यकीन है कि भारत सरकार द्वारा संख्यातमक और गुणवत्ता के आधार पर देशभर में चलाए गए स्वच्छता सर्वेक्षण में पंजाब राज्य की एक अलग पहचान कायम करेगा।
ग्रामीण क्षेत्र के भाईवालों को अपने गाँवों की सफ़ाई मुहिम के प्रति जागरूक करने के लिए माननीय जल सप्लाई और सेनिटेशन मंत्री द्वारा 1 अगस्त से 31 अगस्त तक चलाए गए मिशन स्वच्छ और तंदुरुस्त पंजाब अधीन ‘मेरा गाँव, मेरा मान’ मुहिम की शुरुआत की गई है। प्रत्येक जि़ले में सफ़ाई मापदण्डों पर खरे उतरने वाले गाँव, स्कूल, आंगनवाड़ी और स्वास्थ्य केंद्र और स्वच्छता चैंपियनों के लिए कुल 1.88 करोड़ के विशेष सम्मान की घोषणा की गई है। जि़ले के सभी डिप्टी कमीशनरों की अध्यक्षता अधीन और स्वच्छता चैंपियनों आज़ाद कमेटी द्वारा 2 अक्तूबर, 2018 को इस मुहिम में विजेता रहने वालों को सम्मानित किया जायेगा।
इस मुहिम के हिस्से के तौर पर मंत्री द्वारा स्वच्छ मोबाईल एप्लीकेशन चलाई गई है, जिस को नागरिक डाउनलोड करके अपने गाँव में खुले में शौच, अगर जरूरत हो तो टायलट की माँग और सफ़ाई मुहिमों से सबंधित गतिविधियों को फोटो सहित रजिस्टर करके अपना फीडबैक दे सकते हैं।
उन्होंने कहा कि सिफऱ् पंजाब राज्य ही है, जो नागरिकों को सफ़ाई मुहिम पर अपना फीडबैक देने के लिए उत्साहित कर रहा है, जिससे लोगों को सम्मिलन के साथ पंजाब को स्वच्छ और तंदुरुस्त राज्य बनाने का लक्ष्य हासिल किया जा सके।
भारत भर के सभी जिलों और राज्यों की संख्यात्मक और गुणात्मक मापदण्डों के आधार पर रैकिंग में सुधार के लिए भारत सरकार के जल सप्लाई और सेनिटेशन मंत्रालय द्वारा एक निजी सर्वे एजेंसी के ज़रिये स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण -2018 की शुरुआत की गई है। यह रैकिंग व्यापक मापदण्डों जैसे स्कूल, आंगनवाड़ी केन्द्रों, स्वास्थ्य केन्द्रों, हट बाज़ारों. पंचायत जैसी जि़ला स्तरीय जनतक स्थानों और सफ़ाई और बुनियादी विकास प्रति नागरिकों के सुझावों के आधार पर होगी। भारत सरकार द्वारा अग्रणी रहने जिलों और राज्यों को 2 अक्तूबर, 2018 को सम्मानित किया जायेगा।
श्रीमती रजिया सुलताना ने कहा कि जहाँ तक सफ़ाई का सम्बन्ध है, हम ग्रामीण लोगों के रवैये को बदलने संबंधी सराहनीय काम किया है। उन्होंने बताया कि राज्यों की सभी पंचायतों ने अपने गाँवों को खुले में शौच मुक्त घोषित किया है।
श्रीमती सुलताना ने नागरिकों को अपने गाँवों को साफ़ -सुथरा रखने के लिए इस मुहिम में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेने की अपील की।
Categories: Uncategorized

cdadmin

Editor in Chief of City Darpan, national hindi news magazine.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *