नवजोत सिंह सिद्धू ने विरासती इमारतों  को बचाने की वचनबद्धता दोहराई

पट्यिाला के पुराने जन स्वास्थ्य विभाग की विरासती इमारत और आसपास को सुरक्षित स्थान को किया घोषित

-सुरक्षित ऐलानी गई इमारत के संरक्षण का काम जल्द शुरू करने के आदेश

-व्यापारिकलाभ के लिए पंजाब की ऐतिहासिक और विरासती इमारतों को नष्ट होने की आज्ञा नहीं दी जाएगी

चंडीगढ़, 14 जुलाई: पंजाब की ऐतिहासिक और समृद्ध विरासती इमारतों के संरक्षण की वचनबद्धता दोहराते हुए पर्यटन एवं सांस्कृतिक मंत्री स. नवजोत सिंह सिद्धू ने एक अहम फ़ैसला लेते हुए पटियाला स्थित पुरानी जन स्वास्थ्य विभाग की विरासती इमारत और आसपास को सुरक्षित स्थान घोषित किया है। 41 बीघे 12 विसवे इस स्थान को पंजाब पुरातन और ऐतिहासिक इमारतों और पुरातत्व स्थानों के कानून 1964 (पंजाब कानून 20 ऑफ 1964) की धारा 4 के अंतर्गत सुरक्षित घोषित किए गए है।

इस संबंधी विवरण देते हुए स.सिद्धू ने बताया कि पटियाला के स्थानीय निवासियों द्वारा उनके संज्ञान में यह मामला लाकर शिकायत की गई थी कि इस पुरातन विरासती इमारत की दीवार के पास मुख्य रोड पर शोरूम बनाने का प्रस्ताव बनाया जा रहा है, जिससे इस विरासती इमारत की शोभा खऱाब होगी। उन्होंने कहा कि इस मामले के ध्यान में आने के बाद उन्होंने इस इमरात के रख -रखाव और शो-रूमों के निर्माण के काम को रोकने का फ़ैसला किया है। उन्होंने कहा कि वह इस पुरातन इमारत की महत्ता से भली-भाँति अवगत हैं क्योंकि उन्होंने भी इस क्षेत्र में स्थित कॉलोनी में 35 वर्ष बिताए हैं।

पर्यटन एवं सांस्कृतिक मंत्री ने बताया कि सरकार द्वारा इस संबंधी प्रारंभिक नोटिफिकेशन जारी किया गया था और अब पुराने मूलभूत नोटिफिकेशन के अनुसार बिना किसी बदलाव के अंतिम नोटिफिकेशन जारी करने के आदेश जारी किये हैं। उन्होंने यह भी विश्वास दिलाया कि इस इमारत का संरक्षण किया जायेगा, इस काम को जल्द शुरू करने के लिए कह दिया गया है। यहाँ के कुदरती वातावरण, वृक्ष और पौधों का संरक्षण किया जायेगा।

स. सिद्धू ने कहा कि व्यापारिक लाभों के लिए पंजाब की ऐतिहासिक और विरासती इमरातों को नष्ट करने की किसी को भी आज्ञा नहीं दी जायेगी क्योंकि हमारा यह फज़ऱ् बनता है कि आने वाली पीडिय़ों के लिए समृद्ध विरासत को संरक्षित रखा जाये। उन्होंने कहा कि यह वह स्थान हैं जो कोई हमें हमारी समृद्ध विरासत याद करवाते हैं और विभाग की यही कोशिश है कि पंजाब में जितनी भी ऐतिहासिक स्थान हैं, उनका सरंक्षण किया जाये।

Categories: Uncategorized

cdadmin

Editor in Chief of City Darpan, national hindi news magazine.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *