हरियाणा सरकार ने मेवात व मोरनी हिल्स क्षेत्र की लड़कियों के लिए उनके घर से स्कूल तक पंहुचने के लिए यातायात की विशेष व्यवस्था करने की योजना बनाई है

Share this News:


हरियाणा सरकार ने मेवात व मोरनी हिल्स क्षेत्र की लड़कियों के लिए उनके घर से स्कूल तक पंहुचने के लिए यातायात की विशेष व्यवस्था करने की योजना बनाई है
चंडीगढ़, 16 जुलाई- हरियाणा सरकार ने मेवात व मोरनी हिल्स क्षेत्र की लड़कियों के लिए उनके घर से स्कूल तक पंहुचने के लिए यातायात की विशेष व्यवस्था करने की योजना बनाई गई है। प्रत्येक बेटी को उच्चतर शिक्षा दिलाने का सरकार का लक्ष्य है। 
हरियाणा के शिक्षा मंत्री श्री राम बिलास शर्मा आज नारनौल से वीडियो कान्फ्रैंसिंग के माध्यम से केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री श्री प्रकाश जावडेकर से बात कर रहे थे। ‘एसपीरेशनल डिस्ट्रिक्ट्स’ को सबके बराबर लाने के लिए श्री जावेडकर ने आज देश के सभी राज्यों के शिक्षा मंत्रियों की वीडियो कान्फ्रैंसिंग के माध्यम से बैठक ली। 
श्री शर्मा ने बताया कि प्रदेश के मेवात जिला व मोरनी हिल्स के क्षेत्र को ‘एसपीरेशनल डिस्ट्रिक्ट्स’ की श्रेणी में रखा गया है। श्री शर्मा ने बताया कि इन क्षेत्रों में लड़कियों को स्कूल तक पहुंंचने में किसी भी प्रकार की परेशानी न हो, इसके लिए सरकार विशेष बसें लगाकर लड़कियों को स्कूलों तक पहुंचाएगी। इसके अलावा, शिक्षा मंत्री ने बताया कि फिरोजपुर झिरका में लड़कियों का पढ़ाई के प्रति रुझान बढ़ाने के लिए आवासीय विद्यालय खोला गया है। 
शिक्षा मंत्री ने बताया कि हरियाणा सरकार ने राज्य में 32 कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों को 8वीं से 12वीं तक अपग्रेड करने का निर्णय लिया है। इस संबंध में केंद्र सरकार ने मंजूरी भी प्रदान कर दी है। उन्होंने बताया कि कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय में हॉस्टल की सुविधा है। वहां रहने, खाने-पीने सभी सुविधाओं का खर्च सरकार द्वारा वहन किया जाता है इसलिए कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों को 8वीं से 12वीं तक अपग्रेड करने से बेटियों को उच्च शिक्षा प्राप्त करने में आसानी होगी। 
उन्होंने बताया कि ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओं’अभियान के तहत राज्य के 10 जिलों की 70,000 स्कूली लड़कियों को लोकल हैरिटेज, पुरातात्विक व संग्रहालयों का टूर करवाया गया है औरे ये टूर आगे भी जारी रहेंगे।
उन्होंने कहा कि स्वच्छता और स्वास्थ्य पर ध्यान देते हुए हरियाणा सरकार की नई पहल के अनुसार इस साल से कक्षा 6वीं से लेकर 12वीं तक की करीब 6.38 लाख लड़कियों को हर माह सैनेटरी नेपकीन स्कूलों में दिए जाएंगे ताकि उनका मैनस्ट्रवल हैल्थ सही रह सके।
उन्होंने कहा कि बेटियों के सम्मान के लिए एक पहल के तहत वर्ष 2015-16 में स्कूलों में बेटी का सलाम-राष्ट्र के नाम एक अभियान चलाया गया जिसमें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर उस गांव या क्षेत्र की सबसे ज्यादा पढ़ी-लिखी बेटी द्वारा राष्ट्र-ध्वज फहराया गया। यह आगे भी जारी रहेगा।
इस मौके पर हरियाणा के शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा ने राज्य में शिक्षा सुधार के लिए उठाए गए विभिन्न कदमों की जानकारी दी। 
इस अवसर पर उपायुक्त डा. गरिमा मित्तल, एसडीएम श्री जगदीश शर्मा व जिला शिक्षा अधिकारी मुकेश लावनिया के अलावा अन्य अधिकारी मौजूद थे। 
Share this News:

Author

Editor in Chief of City Darpan, national hindi news magazine.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *