प्रतिस्पर्धी परीक्षाओं की तैयारी के लिए ‘मेधा प्रोत्साहन योजना’ आरम्भ करेगी सरकारः मुख्यमंत्री

25th July 2018: राज्य सरकार आरम्भ से ही स्कूली बच्चों में नैतिक मूल्यों का संचार  करने के लिए स्कूली पाठ्यक्रम में नशीली दवाओं के दुषप्रभावों तथा नैतिक शिक्षा पर एक अध्याय आरम्भ करने का विचार कर रही है। यह बात मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज यहां दैनिक समाचार पत्र अमर उजाला द्वारा आयोजित ‘मेधावी छात्र सम्मान समारोह’ को सम्बोधित करते हुए कही।

जय राम ठाकुर ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि कुछ युवा नशीली दवाओं के शिकार हो रहे हैं। उन्होंने अभिभावकों, शिक्षकों और छात्रों से इस सामाजिक बुराई को समाप्त करने के लिए एक-जुट होने का आग्रह किया, तभी स्वस्थ समाज की परिकल्पना को साकार किया जा सकता है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि अमर उजाला समाचार पत्र समूह विद्यार्थियों का सम्मान कर समाज के लिए एक महान कार्य कर रहा है तथा इससे अन्य छात्रों को अध्ययन में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए प्र्रेरणा मिलेगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश में छात्रों को गुणात्मक शिक्षा प्रदान करने के लिए अनेक योजनाएं आरम्भ की हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार प्रतिस्पर्धी परीक्षाओं के लिए छात्रों को तैयारी करवाने के लिए कोचिंग सुविधा देने के उद्देश्य से ‘मेधा प्रोत्साहन योजना’ आरम्भ कर रही है क्योंकि अधिकांश बच्चों को संसाधनों की कमी के कारण उचित मार्गदर्शन नहीं मिल पाता है। उन्होंने कहा कि वर्तमान वित्त वर्ष में इस योजना के लिए पांच करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है।
जय राम ठाकुर ने कहा कि यह समारोह पुरस्कार विजेता छात्रों की कड़ी मेहनत और कर्मठता के कारण आयोजित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यह अमर उजाला द्वारा आयोजित 18वां सम्मान समारोह है। उन्होंने कहा कि समाचार पत्र न केवल हमें अपने आसपास की घटनाओं की खबरों से अवगत करवाते हैं, बल्कि समाज को शिक्षित करने एवं पुनर्निर्माण में भी मदद करते हैं। उन्होंने कहा कि इन वर्षों के दौरान अमर उजाला ने पाठकों के हृदय में एक विशेष स्थान बनाया है। उन्होंने कहा कि यह संतोष का विषय है कि आज लड़कियां लगभग प्रत्येक क्षेत्र में उत्कृष्टता हासिल कर रही है। उन्होंने कहा कि इस समारोह में भी लड़कों की अपेक्षा लड़कियों की संख्या अधिक है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति को एक लक्ष्य निर्धारित करना चाहिए और इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत करनी चाहिए। उन्होंने इस अवसर पर अभिभावकों को भी बधाई दी और कहा कि उनके बलिदान और समर्पण के कारण ही उनके बच्चों ने पुरस्कार हासिल किया है। उन्होंने कहा कि छात्रों को जीवन में उपलब्धियां प्राप्त करने के बाद अपने माता-पिता और शिक्षकों के प्रयासों एवं बलिदान को नहीं भूलना चाहिए।
जय राम ठाकुर ने इस अवसर पर मेधावी छात्रों को पदक एवं प्रशस्ति पत्र वितरित किए तथा उनके लिए एक उज्ज्वल और सुखद भविष्य की कामना की। अमर उजाला के सम्पादक उदय कुमार ने समारोह की मुख्य विशेषताएं बताते हुए कहा कि अमर उजाला राज्य के 156 मेधावी छात्रों को सम्मानित कर रहा है। उन्होंने कहा कि यह कार्यक्रम राज्य की प्रतिभा को उपयुक्त तरीके से सम्मानित करने का एक प्रयास है। उन्होंने कहा कि प्रेस को विकास और सकारात्मक समाचारों को अधिक स्थान देना चाहिए, जिससे दूसरों को बेहतर प्रदर्शन करने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके। उन्होंने कहा कि अमर उजाला समाचार समूह ने इसके अतिरिक्त गरीब परिवारों के मेधावी छात्रों को सहायता प्रदान करने के लिए ‘अतुल महेश्वरी छात्रवृति योजना’ आरम्भ की है।
अमर उजाला के आवासीय संपादक राकेश भट्ट ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया।
खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री किशन कपूर, शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज, स्वास्थ्य मंत्री विपिन परमार, उद्योग मंत्री बिक्रम सिंह, पूर्व राज्यपाल अश्वनी कुमार, विधायक राकेश जम्वाल व हीरा लाल, शिमला नगर निगम की महापौर कुसुम सदरेट, अतिरिक्त मुख्य सचिव एवं मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ. श्रीकांत बाल्दी, प्रधान सचिव तकनीकी शिक्षा जे.सी. शर्मा, सचिव शिक्षा डॉ. अरूण शर्मा, मुख्यमंत्री के ओएसडी महेन्द्र धर्माणी, निदेशक सूचना एवं जन सम्पर्क अनुपम कश्यप सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित रहे।

 

Categories: Uncategorized

cdadmin

Editor in Chief of City Darpan, national hindi news magazine.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *