कशमीर विश्व किसी भी अन्य पर्यटक स्थल की तरह सुरक्षित है-सलाहकार गनई
श्रीनगर 1 अगस्त 2018-कष्मीर को पर्यटक मांग स्थल बताते हुए राज्यपाल के सलाहकार खुर्षीद अहमद गनई ने आज राज्य में टूर एंड टैªबल उद्योग से इसकी खराब छवि, जिससे घाटी में पर्यटकों की आवाजाही पर गहरा प्रभाव पड़ रहा है, को बदलने हेतु एक प्रभावषाली नीति बनाने के लिए मिलकर कार्य करने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि कष्मीर विष्व में किसी भी अन्य पर्यटक स्थल की तरह ही सुरक्षित है।
सलाहकार ने यह बात आज पीएचडी चैम्बर आॅफ कामर्स एंड इंडस्ट्री के प्रतिनिधिमंडल के साथ बातचीत करते हुए कही।
पर्यटन सचिव रिगजिन सैमफिल, पर्यटन निदेषक कष्मीर तस्सदुक जिलानी, पीएचडी चैम्बर आॅफ कामर्स एंड इंडस्ट्री के चेयरमैन, जेएंडके चैप्टर मुष्ताक चाया तथा पीएचडीसीसीआई के अन्य प्रतिनिधि इस अवसर पर उपस्थित थे।
राज्य में टूर एंड टैªबल उद्योग से जुडे सभी भागीदारियों से समर्थन की मांग करते हुए गनई ने कहा कि सरकार के प्रयासों से सक्रिय परिणाम तभी मिलेंगे जब हम कष्मीर के प्रति गल्त विचारधारा को बदलेंगे। उन्होंने भागीदारियों से मिडिया विषेशकर दूरदर्षन को मान्यता देने का आग्रह करते हुए प्रसार भारती के मंच का उपयोग करने को कहा जिससे कष्मीर को उसकी सही छवि देने में लम्बे समय के लिए सहायता होगी।
गनई ने राज्य में पर्यटकों की आवाजाही बढ़ाने हेतु विभाग द्वारा उठाये जा रहे कदमों पर भी विस्तृत चर्चा की। उन्होंने कहा कि पर्यटन विभाग षीघ्र ही एक कष्मीर महोत्सव की मेजवानी के लिए तैयार कर रहा है। महोत्सव से सम्बंधित जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि पर्यटन क्षेत्र से सम्बंधित जुडे लोगों विषेशकर टूर आॅपरेटरों, टैªवल राईटर तथा ब्लागर को घाटी में स्थिति की सीधी जानकारी प्राप्त करने के लिए आमंत्रित किया गया है।
उन्होंने पीएचडीसीसीआई प्रतिनिधिमंडल को सूचित किया कि षीघ्र ही राज्य से एक प्रतिनिधिमंडल गुजरात, महाराश्ट्र, कोलकत्ता, तामिलनाडू, सहित देष के प्रमुख षहरों की यात्रा कर रोड़ षो का आयोजन भी करेंगे और प्रमुख भागीदारों के साथ बातचीत करें।
इससे पूर्व पीएचडीसीसीआई कष्मीर चैप्टर के प्रतिनिधिमंडल ने सलाहकार को विभिन्न मुददों से अवगत करवाया तथा इनके तत्काल निवारण हेतु उनके हस्तक्षेप की मांग की।
प्रतिनिधिमंडल ने पावर ट्रिफ के भुकतान हेतु उद्योगों के अनुसार होटलों तथा रिजार्टों के खर्चे हेतु सरकारी आदेष लागू करने का आग्रह किया। इसके अलावा उन्होंने होटलों, रेस्तरां, बैंकटों तथा टैªवल कम्पनियों के लिए एसजीएसटी के वितरण के अतिरिक्त राज्य के होटलों, रेस्तरां, बैंकटों तथा टैªवल कम्पनियों को सीजीएसटी के वितरण के लिए मामले को जीएसटी परिशद के समक्ष रखने की मांग भी की।
बैठक में सूचित किया गया कि पीएचडीसीसीआई कष्मीर चैप्टर एसकेआईसीसी में 22-23 सितम्बर 2018 से पीएचडी गोल्फ टूरिजम कंक्लेव तथा टूर्नामेंट आयोजित करने पर विचार कर रहा है, जिसमें पर्यटन अधिकारी मंत्रालय, दूतावास एवं उच्च आयोग, भारतीय एवं विदेषी गोल्फ टूर आॅपरेटर, राज्य तथा अंतर्राश्ट्रीय पर्यटन सीमाएं, होटल मालिक और अन्य षामिल होंगे।
इस प्रयास में सरकार के समर्थन की मांग करते हुए प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि इस प्रतियोगिता का उददेष्य पूरे भारत, विषेशकर राज्य के गोल्फ कोर्स और राज्य के पर्यटन क्षेत्र को प्रोत्साहन देना है।
प्रतिनिधिमंडल ने षिक्षा, समाज कल्याण, राजस्व, बागवानी तथा पषुपालन से सम्बंधित अन्य मुददे भी उठाये।
सलाहकार ने उनके मुददों को ध्यानपूर्वक सुना तथा इनपर विचार करने और इनके तत्काल निवारण हेतु सम्बंधित विभागों को अग्रेशित करने का आष्वासन दिया।

Categories: Uncategorized

cdadmin

Editor in Chief of City Darpan, national hindi news magazine.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *