जम्मू काशमीर समाचार-अगस्त 8, 2018.

व्यास ने सेवा योजनाओं के कार्यान्वयन में सामाजिक संगठनों को शामिल करने के लिए कहा ’ सामाजिक चुनौतियों से संयुक्त प्रयासों से निपटे’

राज्यपाल ने उपस्थिति निगरानी प्रणाली की समीक्षा की

श्री अमरनाथजी यात्रा 2018, राज्यपाल ने यात्रा क्षेत्र में स्वच्छता अभियान की समीक्षा की

——————————————————————————————————————————–

जम्मू काशमीर समाचार-अगस्त 4, 2018.

श्री अमरनाथजी यात्रा 2018,1848 तीर्थयात्रियों ने पवित्र गुफा में पूजा की

सलाहकार व्यास ने जन पहुंच कार्यक्रम आयोजित किया

 


जम्मू काशमीर समाचार-अगस्त 2, 2018.

रोहित कंसल ने ई-निविदा प्रक्रिया के सख्त अनुपालन के लिए कहा

श्री अमरनाथजी यात्रा 2018, 1874 तीर्थयात्री पवित्र गुफा में पूजा की

कशमीर विश्व किसी भी अन्य पर्यटक स्थल की तरह सुरक्षित है-सलाहकार गनई

राज्यपाल ने सीमावर्ती निवासियों से संबंधित मुद्दों की समीक्षा की

राज्यपाल ने राजधानी शहरों, प्रमुख शहरों के लिए मास्टर प्लान तैयारी की समीक्षा की

एसएसी ने क्लेरिकल कैडर के वेतन विसंगति को हटाने की मंजूरी दी

राज्यपाल ने पंचायत, शहरी स्थानीय निकाय चुनावों के आचरण के लिए तैयारी की समीक्षा की

—————————————————————————————————————————

जम्मू काशमीर समाचार-अगस्त1, 2018.

श्री अमरनाथजी यात्रा 2018, 1749 तीर्थयात्रियों ने पवित्र गुफा में पूजा की

बिजली के कारण आकस्मिक मौतों के मामले में वित्त विभाग, पीडीडी ने मुआवजे के मुद्दे की समीक्षा की

राज्यपाल ने “स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण -2018“ का शुभारंभ किया

अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय ने प्री,पोस्ट मैट्रिक छात्रवृतियों के लिए आवेदन आमंत्रित किये

मंडलायुक्त ने आईसीपीएस के कार्यान्वयन की समीक्षा की ज़रूरतमंद बच्चों के लिए अधिक आश्रय खोलने के लिए कहा

पर्यटन सचिव ने कश्मीर महोत्सव के लिए तैयारी की समीक्षा की

—————————————————————————————————————————–

जम्मू काशमीर समाचार-जुलाई 30, 2018.

श्री अमरनाथजी यात्रा 2018, 3131 तीर्थयात्रियों ने पवित्र गुफा में पूजा की


जम्मू काशमीर समाचार-जुलाई 29, 2018.

सलाहकार ने पीएचई, आईएंडएफसी विभागों की कार्यप्रणाली की समीक्षा की

सलाहकार गनई जम्मू में 29/30 जुलाई को जनता को सुनेंगे

सलाहकार गनई ने हरन बडगाम में केवीके का उद्घाटन किया

राज्यपाल ने मोहमदपोरा बैंक में डकैती के प्रयास को विफल करने वालों की सराहना की

श्रीअमरनाथजी यात्रा 2018, 3,360 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुुफा में माथा टेका

राज्यपाल ने डल-नगीन षैवाल कार्यों की समीक्षा की

राज्यपाल ने कार्यालयों में कर्मचारी उपस्थिति की प्रगति की समीक्षा की

—————————————————————————————————————————

जम्मू काशमीर समाचार-जुलाई 28, 2018.

सलाहकार व्यास ने जम्मू में जन प्रतिनिधिमंडलों के साथ बातचीत की

एसएसी ने कुपवाडा, अखनूर, रियासी, आरएसपुरा में जिला सैनिक कल्याण कार्यालयों की स्थापना की मंजूरी दी

एसएसी ने 540 मैगावाट केवार एचईपी के लिए आरएंडआर योजना को मंजूरी दी

श्री अमरनाथजी यात्रा 2018, 2776 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुुफा में माथा टेका

राज्यपाल शासन लागू करने के बाद शिकायतों का निपटान

——————————————————————————————————————————-

जम्मू काशमीर समाचार-जुलाई 27, 2018.

राज्यपाल ने कुपवाड़ा का दौरा किया, विकास परिदृष्य की समीक्षा की 5 करोड़ रुपये की अतिरिक्तता जारी की गई

—————————————————————————————————————————-

जम्मू काशमीर समाचार-जुलाई 22, 2018.

व्यास उद्योग एवं वाणिज्य विभाग में 7 निगमों, 1 बोर्ड का नेतृत्व करेंगे

सरकार ने उत्तरदायी शासन सुनिष्चित करने के लिए प्रशासनिक अनुशासन को मजबूत किया

राज्यपाल ने मुख्य सचिव के साथ बाढ़ की तैयारियों की समीक्षा की

श्री अमरनाथजी यात्रा 2018, 6150 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुुफा में माथा टेका

राज्यपाल ने बालटाल आधार षिविर, दोमेल प्रवेष नियंत्रण द्वार तथा नीग्राथ हेलीपैड का दौरा कर चालू यात्रा की जानकारी ली

विधान परिशद के चेयरमैन ने सीएचसी पदम में घायलों का हालचाल जाना

दलाई लामा जंस्कार पहुंचे

—————————————————————————————————————————-

जम्मू काशमीर समाचार-जुलाई 20, 2018.

राज्यपाल शासन लागू होने के बाद शिकायतों का निपटान

सलाहकार गनई ने पुश्प कृशि विभाग की कार्यप्रणाली की समीक्षा की फूल उत्पादन से 31.23 करोड़ का वार्षिक कारोबार

श्री अमरनाथजी यात्रा 2018, 7742 तीर्थयात्रियों ने पवित्र गुफा में पूजा की”

सरकार ने सक्षम प्राधिकारी की मंजूरी के बिना जारी किए गए आदेशों का ब्योरा मांगा

—————————————————————————————————————————-

जम्मू काशमीर समाचार-जुलाई 19, 2018.

मुख्य सचिव ने सबके लिए आवास मिशन की एसएलएसएमसी बैठक की अध्यक्षता की 3434 लाभार्थियों को समाविश्ठ करने वाली 20 डीपीआर को मंजूरी मिली

 सलाहकार गनई ने व्हीलचेयर बास्केटबॉल खिलाड़ियों में प्रमाण पत्र वितरित किए”

सलाहकार गनई ने राज्यपाल शिकायत कक्ष में जन समस्याएं सुनीं

अक्षय ऊर्जा के सभी रूपों का उपयोग करके बिजली की जरूरतों के लिए निर्भरता को बदलेः सलाहकार कुमार

श्री अमरनाथजी यात्रा 2018, 7665 तीर्थयात्रियो ने पवित्र गुफा में पूजा की

मुख्य सचिव एफएसी की 109वीं बैठक की अध्यक्षता की, कई प्रस्तावों को मंजूरी दी

सरकार ने पंचायत, शहरी स्थानीय निकाय चुनावों के लिए अधिकारिक पैनल गठित किये

——————————————————————————————————————————

जम्मू काशमीर समाचार-जुलाई 18, 2018.

श्री अमरनाथजी यात्रा 2018, 7351 तीर्थयात्री ने पवित्र गुफा में पूजा की

सलाहकार कुमार ने सोपोर में कानून- व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा की

राज्यपाल के सलाहकार श्रीनगर, जम्मू में नियमित रूप से लोगों की शिकायतों को सुनेंगे

अधिकार प्राप्त समिति ने नियमितकरण के लिए 32 मामलों को मंजूरी दी

——————————————————————————————————————————–

जम्मू काशमीर समाचार-जुलाई 17, 2018.

राज्यपाल ने उर्जा क्षेत्रयोजनाओं के कार्यान्वयन की समीक्षा की

राज्यपाल ने शिकायत निवारण तंत्र के तत्काल कायाकल्प का आदेश दिया सलाहकारों को हर सप्ताह श्रीनगर, जम्मू में लोगों की शिकायतों का समाधान करने के लिए सार्वजनिक बातचीत आयोजित करने के लिए सलाह दी

एसएसी ने ग्रामीण रोजगार सृजन कार्यक्रम को मंजूरी दी सालाना 1500 युवाओं को लक्षित किया जाएगा

एसएसी ने यूजेएच बहुउद्देशीय परियोजना के डीपीआर को मंजूरी दी 186 मेगावाट बिजली उत्पन्न करेगी, कठुआ में 31,000 से अधिक भूमि भूमि सिंचाई करेगी

राज्यपाल ने 5 वीं एसएसी बैठक की अध्यक्षता की

श्री अमरनाथ जी यात्रा 2018,यात्रा के 20वें दिन श्री अमरनाथ जी यात्रियों की संख्या 2 लाख पहुंची

————————————————————————————————————————

जम्मू काशमीर समाचार-जुलाई 16, 2018.

सियाड़ बाबा दर्दनाक हादसाः श्री माता वैष्णो देवी नारायणा सुपर स्पैशलिटी अस्पताल ककरयाल में घायलों का निःशुल्क ईलाज

सरकार ने व्यक्तिगत शस्त्र लाइसेंस रद्द करने पर स्पष्टकरण दिया

सरमद हफीज को निदेशक सूचना का अतिरिक्त प्रभार मिला

अस्पताल में लिफ्टों का काम न करना: जेकेजीजीसी से रिपोर्ट मांगी

डी सी रैना ने नए महाधिवक्ता का पदभार संभाला

सलाहकार विजय कुमार ने जेकेएसएफसी की कार्यप्रणाली की समीक्षा की पारदशर्िता लाने हेतु सूचना प्रौद्योगिकी आधारित सेवाएं अपनाने, वनों के विकास हेतु समुदाय भागेदारी पर बल दिया

सलाहकार गनई ने शिक्षा विभाग के कामकाज की समीक्षा की ’ड्रॉपआउट दर को रोकने के लिए उपाय करें’

केसीसीएंडआई के प्रतिनिधिमंडल ने सलाहकार गनई से मुलाकात की

प्रकाश जावडे़कर ने देशभर में आकांक्षापूर्ण जिलों में शिक्षा की स्थिति की समीक्षा की खुर्शीद गनई राष्ट्रीय वीडियो कांफेंस में जम्मू-कश्मीर का प्रतिनिधित्व किया

——————————————————————————————————————————–

जम्मू काशमीर समाचार-जुलाई 15, 2018.

राज्यपाल ने सियार बाबा हादसे में गई जानों पर दुख व्यक्त किया

श्री अमरनाथजी यात्रा 2018, 11331 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुुफा में माथा टेका

सरकार ने पिछले 6 वर्शों के दौरान नियुक्त किये गये एसपीओ की जांच के आदेष दिये

—————————————————————————————————————————-

जम्मू काशमीर समाचार-जुलाई 14, 2018.

सलाहकार व्यास ने ऊर्जा क्षेत्र में महत्वपूर्ण परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा की

राज्यपाल शासन लागू होने के बाद शिकायतों का निपटान

श्री अमरनाथजी यात्रा 2018, 11038 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुुफा में माथा टेका

800 हज यात्रियों का पहला जत्था सऊदी अरब के लिए रवाना हुआ

सलाहकार कुमार ने बांदीपोरा में सुरक्षा, विकास परिदृष्य की समीक्षा की

सलाहकार व्यास ने कशमीरी विस्थापितों हेतु सुविधाओं का जायजा लिया

एडवोकेट जनरल ने राज्यपाल से भेंट की

पर्यावरण संरक्षण हेतु श्राईन बोर्ड ने एसटीपी श्रृख्लाएं स्थापित की

——————————————————————————————————————————-

जम्मू काशमीर समाचार-जुलाई 13, 2018.

सरकार ने सीडीएस दिशानिर्देशों के कार्यान्वयन पर स्पष्टीकरण जारी किया

सलाहकार कुमार ने मजार-ए-शोहादा का दौरा किया, 1931 के शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की

दिल्ली के विधायक के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल राज्यपाल से मिला

राज्यपाल शासन लागू होने के बाद शिकायतों का निपटान

विधायक कंगन राज्यपाल से मिले

विधायक गंादरबल राज्यपाल से मिले

विधायक दरहाल राज्यपाल से मिले

सांसद बेग राज्यपाल से मिले

शर्मिला टैगोर राज्यपात, प्रथम महिला से मिली

राज्यपाल ने प्रोफेसर गिरिजा धर के निधन पर शोक व्यक्त किया

सलाहकार गनई ने प्रोफेसर गिरिजा धर के निधन पर शोक जताया

श्री अमरनाथजी यात्रा 2018,13083 तीर्थयात्री ने पवित्र गुफा में पूजा की

——————————————————————————————————————————–

जम्मू काशमीर समाचार-जुलाई 12, 2018.

राज्यपाल ने एसएसी की चौथी बैठक की अध्यक्षता की

श्री अमरनाथजी यात्रा 2018, राज्यपाल ने दुर्घटनाओं में मरने वाले यात्रियों के परिजनों के लिए 3.00 लाख रु अनुग्रह राशि की घोषणा की

सलाहकार व्यास ने एलएएचडीसी लेह, कारगिल से संबंधित मुद्दों का जायजा लिया

सलाहकार व्यास ने एसबीएम के समयबद्ध कार्यान्वयन के लिए कहा

राज्यपाल ने तीसरी एसएसी बैठक की अध्यक्षता की

एसएसी ने आवास एवं शहरी विकास विभाग यूएलबी चुनावों के लिए प्रक्रिया शुरू करने के लिए कहा

पीएमआरएसएसएमः एसएसी प्रमुख स्वास्थ्य देखभाल पहल को आगे बढ़ाया
जम्मू कशमीर में 36 लाख व्यक्तियों वाले 613648 परिवार; कार्यान्वयन के लिए राज्य स्वास्थ्य एजेंसी गठित

मिशन सुशासनः सरकार कार्यालयों में सख्ती से निगरानी की
सिविल सचिवालय में डिजिटल उपस्थिति 45 प्रतिषत से 80 प्रतिशत तक बढ़ी

विस अध्यक्ष ने प्रधान मंत्री से मुलाकात कीई-असेंबली परियोजना पर चर्चा

श्री अमरनाथजी यात्रा 2018
यात्रा 14 वें दिन सुचारू रूप से चली, 15,696 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुफा में पूजा की

सरकार ने शिक्षा विभाग में डिटेचमेंट शंका को दूर किया
किसी भी व्यवधान के बिना अकादमिक गतिविधियों की निरंतरता सुनिश्चित होगी: सचिव शिक्षा

 

—————————————————————————————————————-

श्री अमरनाथजी यात्रा 2018
यात्रा 14 वें दिन सुचारू रूप से चली, 15,696 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुफा में पूजा की

सरकार ने शिक्षा विभाग में डिटेचमेंट शंका को दूर किया
किसी भी व्यवधान के बिना अकादमिक गतिविधियों की निरंतरता सुनिश्चित होगी: सचिव शिक्षा

 

श्री अमरनाथजी यात्रा 2018
13767 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुफा में पूजा की

श्रीनगर 10 जुलाई 2018- श्री अमरनाथजी यात्रा के 13 वें दिन, 13,767 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुफा में पूजा की। आज तक 1,17,785 श्रद्धालुने पवित्र गुफा में शिवलिंग के दर्शन किए है।

राज्यपाल लेह में दलाई लामा से मिले

लेह 10 जुलाई 2018-लेह में आगमन के तुरंत बाद आधिकारिक कार्यक्रमों को शुरू करने से पहले, राज्यपाल एन एन वोहरा दलाई लामासे जैव-तलोग चोगलमसर में उनके निवास पर मिले। राज्यपाल के साथ उनके सलाहकार, मुख्य सचिव और प्रधान सचिव योजना भी थे।
राज्यपाल के साथ बातचीत के दौरान, और दुनिया भर में बढ़ते तनावों के बारे में बोलते हुए, दलाई लामा ने विपक्षी दृष्टिकोणों और सभी धर्मों के प्रति सम्मान करने के लिए दार्शनिक ग्रंथों के अध्ययन को सुलझाने के लिए बहस और चर्चा के महत्व पर बल दिया। उन्होंने दुनिया में शांति और समृद्धि के लिए प्रार्थना की।

उत्तरी सेना कमांडर राज्यपाल से मिले

श्रीनगर, 10 जुलाई 2018- उत्तरी कमांड के सेना कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने आज राजभवन में राज्यपाल एन एन वोहरा से मुलाकात की। सेना कमांडर, जिन्होंने पिछले चार दिनों में घाटी में क्षेत्रों का व्यापक दौरा किया है, ने राज्यपाल के साथ अपने विचार और अनुभव साझा किए।
राजभवन प्रवक्ता ने पिछले सप्ताह सेना कमांडर के साथ राज्यपाल की बैठक को याद किया जब राज्यपाल ने आतंकवाद विरोधी गतिविधियों का मुकाबला करने में अधिक सहयोगी सिविल-पुलिस-सेना सहयोग की मांग की थी।

निदेशक सूचना ने मीडिया मालिकों, संपादकों, पत्रकारों के साथ बातचीत की

श्रीनगर, 10 जुलाई 2018- निदेशक सूचना एवं जनसंपर्क, तारिक अहमद ज़रगर ने आज जम्मू-कश्मीर में मीडिया के सामने आने वाले मुद्दों के बारे में जानने के लिए मीडिया मालिकों, संपादकों और पत्रकारों के साथ विस्तृत विचार-विमर्श किया।
संयुक्त निदेशक सूचना (मुख्यालय) साजिद येयाया नकाश, संयुक्त निदेशक सूचना कश्मीर, एम ए हकाक, उप निदेशक (एवी) राकेश दुबे और सूचना विभाग के अन्य अधिकारी और अधिकारी बैठक के दौरान उपस्थित थे।
कश्मीर एडिटर्स गिल्ड (केईजी), जम्मू-कश्मीर मीडिया एसोसिएशन (जेकेएमए), जम्मू-कश्मीर प्रेस एसोसिएशन (जेकेपीए), कश्मीर प्रेस क्लब (केपीसी) और जम्मू-कश्मीर एडिटर्स फोरम के पदाधिकारियो ने निदेशक सूचना के साथ विस्तृत विचार-विमर्श किया।
निदेशक सूचना के साथ बातचीत के दौरान पत्रकार संघों और संपादकों द्वारा उठाए गए मुद्दों में विज्ञापन नीति-2016 में संशोधन, विज्ञापन वितरण के लिए अनुमोदित समाचार पत्रों का वर्गीकरण, ताजा समाचार पत्रों का विस्तार, विज्ञापन वितरण और मान्यता का तर्कसंगतकरण शामिल था।
समाचार पत्रों को वर्गीकृत करने की पहल के लिए विभाग की सराहना करते हुए एसोसिएशन ने कहा कि समाचार पत्रों का वर्गीकरण एक अच्छा कदम है क्योंकि इससे न केवल छोटे कागजात बढ़ने में मदद मिलेगी, बल्कि प्रतिस्पर्धा को भी बढ़ाया जाएगा जो अंततः पत्रकारिता की गुणवत्ता को बढ़ाएगा।
प्रतिनिधियों ने कश्मीर प्रेस क्लब के लंबित निर्माण कार्य को तेज करने की भी मांग की ताकि इसे जल्द से जल्द कार्यान्वित किया जा सके। यह खुलासा किया गया कि वर्तमान में प्रेस क्लब कश्मीर में 300 मूल सदस्य हैं और अधिक सदस्यों को शामिल करने के लिए सदस्यता अभियान चालू है।
उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि दुर्घटना में मौतों के लिए पत्रकारों को कल्याणकारी निधि के तहत लाया जाना चाहिए।
निदेशक सूचना, तारिक अहमद जरगर ने मीडिया के लोगों को सूचित किया कि सरकारी विज्ञापन तर्कसंगत आधार पर और प्रत्येक प्रकाशन की योग्यता पर वितरित किए जाते हैं। उन्होंने कहा कि समाचार पत्रों को विज्ञापन जारी करते समय विभाग सभी पहलुओं पर विचार कर रहा है। उन्होंने बैठक को सूचित किया कि विज्ञापनों के लिए दरें बढ़ा दी गई हैं और विज्ञापन वितरण में पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए विभाग द्वारा विज्ञापन वितरण का ऑनलाइन तरीका शुरू किया गया है। उन्होंने विज्ञापन वितरण को आगे बढ़ाने के लिए समाचार पत्रों के वर्गीकरण के लिए संपादकों के निकायों के सहयोग की मांग की।
उन्होंने कहा कि सरकार ने 2013 में अधिसूचित दरों में 50 प्रतिषत से अधिक की बढ़ोतरी की घोषणा करते हुए राज्य में समाचार पत्रों की विज्ञापन दरों में संशोधन कर दिया है। सरकार ने पिछले तीन वर्षों के दौरान समाचार पत्रों के विज्ञापन बजट में भी काफी वृद्धि की है। उन्होंने कहा कि 2014-15 में 22 करोड़ रुपये जबकि 2018-19 के लिए 35 करोड़ रुपये थे।
निदेशक सूचना ने मीडिया को उनके मूल्यवान सुझाव प्रदान करने के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने उन्हें आश्वासन दिया कि उनकी सभी वास्तविक मांगों का ध्यान रखा जाएगा।

राज्यपाल ने मुगल रोड परियोजना की स्थिति की समीक्षा की

श्रीनगर 10 जुलाई 2018-राज्यपाल एन एन वोहरा ने मुगल रोड पर पुंछ और शोपियां के बीच सड़क यात्रा की ताकि राजौरी-पूंच क्षेत्र और कश्मीर घाटी के बीच इस प्रतिष्ठित सड़क लिंक के रख-रखाव के बारे में पहला हाथ मूल्यांकन किया जा सके।
इससे पहले, उस दिन राज्यपाल ने पुंछ जिले के विधायकों से बातचीत की और जिले में विभिन्न चल रही विकास परियोजनाओं का भंडार लेने के लिए राज्य, मंडल और जिला स्तर के अधिकारियों के साथ बैठक की अध्यक्षता की।
समीक्षा बैठक के बाद, राज्यपाल का श्रीनगर हवाई उड़ान से लौटन निर्धारित था। लेकिन सूचना मिलने पर कि पीर पंजाल रेंज पर खराब मौसम की स्थिति के कारण ऐसा नहीं हो सकता, जिस पर राज्यपाल ने मुगल रोड द्वारा घाटी में लौटने का फैसला किया।
राज्यपाल के सलाहकार बीबी व्यास, प्रधान सचिव योजना एवं विकास रोहित कंसल, मंडलायुक्त जम्मू संजीव वर्मा, डीआईजी पुंछ, उपायुक्त पुंछ और एसएसपी पुंछ पीर की गली तक राज्यपाल के साथ थे जहां मुख्य अभियंता मुगल रोड परियोजना ने मुगल रोड परियोजना के रखरखाव के बारे में एक प्रस्तुति दी।
राज्यपाल ने सड़क के साथ स्थानीय लोगों के साथ बातचीत की और कुछ सड़क पर यात्रियों और यात्रियों को पीर की गाली में इस सड़क पर यात्रा के अपने अनुभव को जानने के लिए बातचीत की।
राज्यपाल ने मुगल रोड के खराब रखरखाव का गंभीर ध्यान दिया और लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) को पिछले 3 वर्षों में रखरखाव व्यय के व्यापक लेखापरीक्षा के तहत निर्देशित किया। उन्होंने मरम्मत और रखरखाव कार्यों की विफलता के लिए तत्काल रिपोर्ट मांगी।
राज्यपाल ने ने निर्देश दिया कि मुख्य अभियंता मुगल रोड परियोजना सड़क के व्यापक सुरक्षा लेखा परीक्षा करेगी और सड़क पर महत्वपूर्ण हिस्सों की तुरंत मरम्मत के लिए सभी सुधारात्मक कदम उठाएगी ताकि इस सड़क पर यात्रा करने वाले सभी लोगों की पूर्ण सुरक्षा सुनिश्चित हो सके। यात्रियों द्वारा किए गए सुझावों के जवाब में, राज्यपाल ने सड़क के साथ पांच सार्वजनिक शौचालयों के निर्माण और इसके अलावा, आश्रय के लिए शेडिंग शेड का आदेश दिया। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि पीयर की गैली में लैंगार / सराई भवन की आवश्यक मरम्मत को तत्काल वन विभाग के परामर्श से और उसे भेजी गई एक रिपोर्ट में किया जाना चाहिए।
यह राज्यपाल द्वारा मुगल रोड का पहला ग्राउंड पुनर्जागरण था।

विजय कुमार ने सीटीसी लेथपोरा का दौरा किया, जेके पुलिस के प्रषिक्षु कमांडों के साथ बातचीत की

श्रीनगर 10 जुलाई 2018-राज्यपाल के सलाहकार के. विजय कुमार ने सोमवार को कमांडो प्रषिक्षण केन्द्र का दौरा कर प्रषिक्षुओं तथा प्रषिक्षकों के साथ बातचीत की।
पुलिस महानिदेषक एस पी वैद, सीटीसी के प्रमुख जे पी सिंह तथा विभाग के अन्य वरिश्ठ अधिकारी सलाहकार के साथ थे।
कुमार ने विभिन्न क्षेत्रों में प्रषिक्षुओं को दिये जा रहे बुनियादी प्रषिक्षण के विभिन्न पहलुओं के बारे में पुछताछ की। उन्होंने जेके पुलिस के प्रषिक्षु कमंाडों तथा प्रषिक्षकों के साथ बातचीत की जिन्होंने सलाहकार को प्रषिक्षण के विभिन्न माॅडयूल के बारे में जानकारी दी।
सलाहकार ने संस्थान में प्रषिक्षण की गुणवत्ता पर सुधार लाने के लिए कहा ताकि पुलिस कर्मियों को अधिक पेषेवर बनाया जा सके और किसी भी प्रतिकूल परिस्थिति से निपटने हेतु तैयार किया जा सके।
सलाहकार ने प्रषिक्षकों पर बल देते हुए कहा कि प्रषिक्षुओं को क्षेत्र में किसी भी परिस्थिति का सामना करने के योग्य बनाने हेतु भर्ती के लिए प्रषिक्षण दिया जाये। उन्होंने कहा कि प्रषिक्षुओ को अनुषासित बनाने और आधुनिक तकनीकों से लैस करने र्की िस्थति पर विषेश ध्यान दिया जाना चाहिए।
इसके उपरांत सलाहकार ने कैंटीन का दौरा कर प्रषिक्षुओं को उपलब्ध करवाई जा रही सुविधाओं तथा भोजन की गुणवत्ता का जायजा लिया।
इस अवसर पर सीटीसी के प्रमुख ने सलाहकार को प्रषिक्षण केन्द्र के समक्ष आने वाले विभिन्न मुद्दों से अवगत करवाया जिसके लिए सलाहकार ने षीघ्र निवारण करने का आष्वासन दिया।

अध्यक्ष ने विधानसभा सचिवालय की कार्यप्रणाली की समीक्षा की

श्रीनगर 10 जुलाई 2018-जम्मू कष्मीर विधानसभा अध्यक्ष डाॅ निर्मल सिंह ने आज विधानसभा सचिवालय की कार्यप्रणाली की समीक्षा हेतु अधिकारियों की बैठक की अध्यक्षता की।
विधानसभा सचिवालय के विधायिका, लेखा तथा अन्य श्रेणियों के कामकाज की जानकारी लेते हुए अध्यक्ष ने विभिन्न क्षेणियों की कार्यप्रणाली से सम्बंधित विभिन्न भीतरी मुद्दों पर चर्चा की। उन्होंने विधानसभा सचिवालय की कार्यप्रणाली को सुचारू बनाने हेतु मामलों के तुंरत निपटारा करने के लिए कहा तथा सुझाव भी मांगे।
विधानसभा सचिवालय श्रेणियों के सम्बंधित अधिकारियों ने अध्यक्ष को अपने अधिकारी श्रेणियों की कार्यप्रणाली के बारे में जानकारी दी।
बैठक में उठाये गये विभिन्न मुद्दों का संज्ञान लेते हुए अध्यक्ष ने प्रणाली के सम्पूर्ण सुधार हेतु सम्बंधितों से सुझाव मांगे।
विधानसभा सचिव रतन लाल षर्मा, अतिरिक्त सचिव नसीम जान के अलावा विधानसभा सचिवालय की अन्य वरिश्ठ अधिकारी भी बैठक में उपस्थित थे।
कश्मीर, जम्मू के षीतकालीन क्षेत्र के स्कूलों में ग्रीष्मकालीन अवकाश 19 जुलाई से

श्रीनगर, 10 जुलाई 2018- सरकार ने आज कश्मीर संभाग और जम्मू संभाग के शीतकालीन क्षेत्रों में सभी उच्चतर माध्यमिक स्तर पर काम करने वाले सरकारी तथा मान्यता प्राप्त निजी स्कूलों सहित सभी शैक्षणिक संस्थानों के लिए 19 जुलाई से 28 जुलाई, 2018 तक ग्रीष्मकालीन अवकाश का आदेश दिया है।
इससे पहले, खराब मौसम की स्थिति के चलते सरकार ने गर्मी की छुट्टियों को स्थगित कर दिया था।

सलाहकार गनई ने किसानों तथा कृशि विभाग के बीच दूरी को कम करने पर बल दिया

श्रीनगर 09 जुलाई 2018-राज्यपाल के सलाहकार खुर्षीद अहमद गनई ने आज किसानों के लिए कृशि के क्षेत्र में प्रौद्योगिकी को बढ़ावा देने की आवष्यकता पर बल दिया ताकि उन्हें इसके लाभ मिल सकें।
उन्होंने यह बात कृशि उत्पादन विभाग के वरिश्ठ अधिकारियों की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही जिसमें उन्होंने इस विभाग की कार्यप्रणाली की समीक्षा की।
एपीडी आयुक्त सचिव एम.डी. खान, कृशि निदेषक कष्मीर अल्ताफ अंद्राबी, कृशि निदेषक जम्मू एच.के. राजधान, एपीडी के विषेश सचिव लीना पाधा, निदेषक कमांड एरिया कष्मीर हरूण मलिक, निदेषक कमांड एरिया जम्मू जतिन्द्र सिंह, स्कास्ट जम्मू तथा कष्मीर के निदेषक तथा विभाग के अन्य वरिश्ठ अधिकारी बैठक में उपस्थित थे।
सलाहकार ने किसानों तथा विभाग के अधिकारियों के बीच दूरी को कम करने पर बल दिया तथा उन्हें किसानों के कृशि उत्पादन में सुधार लाने हेतु तकनीकी कौषल प्रदान करने के लिए कहा।
योजनाओं विषेशकर महत्वपूर्ण केन्द्रीय कार्यक्रमों की कडी निगरानी पर बल देते हुए गनई ने कहा कि किसानों के साथ बातचीत बढ़ाने से कृशि क्षेत्र, जो राज्य की अर्थव्यवस्था की रीढ़ है, में बेहतर परिणामों की प्राप्ति होगी।
कृशि क्षेत्र में उद्यमियता को इसके विकास हेतु महत्वपूर्ण बताते हुए सलाहकार ने अधिकारियों से बैंक खाते खोलने हेतु किसानों को प्रेरित करने के लिए ठोस प्रयास करने के लिए कहा ताकि यह उनके लिए सरल बन सके और वे राज्य में कृशि प्रोत्साहन के उददेष्य से विभिन्न योजनाओं के तहत जुडे लाभ प्राप्त कर सकें।
उन्होंने अधिकारियों को राज्य में सब्जियां उत्पादन की बढ़ोतरी पर एक विस्तृत योजना बनाने के निर्देष भी दिये।
सलाहकार ने प्रषासनिक सचिव को केन्द्र प्रायोजित योजनाओं से सम्बंधित सभी फाइलों में तेजी लाने के निर्देष दिये ताकि राज्य में महत्वपूर्ण कार्यक्रमों के कार्यान्वयन हेतु सम्बंधित केन्द्र मंत्रालय से समय पर आगे की किष्तें जारी की जा सकें। उन्होंने कृशि सचिव को सभी रिक्त पदों को भरने हेतु योजना, विŸा तथा महाप्रषासन विभागों के साथ प्रस्तावों को तत्काल पेष करने के निर्देष भी दिये।
विभाग को जबावदेही बनाने हेतु बायोमीट्रिक उपस्थिति को क्रियाषील बनाने के अलावा सरकार द्वारा जारी आदेषों के अनुसार सभी अटैचमैंटों को रद्ध करने के लिए कहते हुए सलाहकार ने विभाग में सम्बंधित प्रमुखों को केवल उन मामलों को पेष करने के निर्देष दिये जो अत्याधिक सहानुभूति स्तर पर पुनः विचार के पात्र हैं क्योंकि आम प्रषासन विभाग द्वारा आदेषों के अनुसार सर्कूलर जारी किया गया है। उन्होंने प्रषासनिक सचिव को पुनः पुश्टिकरण में तेजी लाने, यूसी की प्रगति, केन्द्र सरकार के समक्ष प्रस्ताव पेष करने तथा धनराषि जारी करने हेतु योजना एवं विŸा विभाग की अलग अलग बैठकें आयोजित करने के निर्देष भी दिये।

कई जन प्रतिनिधिमंडलों ने सलाहकार गनई से मुलाकात कर समस्याओं के निवारण की मांग की

श्रीनगर 09 जुलाई 2018-आम जनता की समस्याओं के दैनिक निवारण को जारी रखते हुए राज्यपाल के सलाहकार खुर्षीद अहमद गनई आज कई प्रतिनिधिमंडलों से मिले। सेरीकल्चर विभाग के कर्मचारियों ने अपने लम्बित भत्ते को यथाषीघ्र जारी करने की मांग की। जेएंडके सिविल इंजीनियरिंग ग्रेजूएट एसोसिएषन ने भी अपने नियमितिकरण से सम्बंधित मुददों को उठाया।
सलाहकार ने आष्वासन दिया कि वह इस मामले को सम्बंधितों के समक्ष रखेंगे तथा इसका समयबद्ध निवारण किया जाएगा।
इसी तरह कुलगाम, जैनागीर रेषीपोरा सोपोर, पुलवामा, अनंतनाग तथा अन्य क्षेत्रों के प्रतिनिधिमंडलों ने सलाहकार से मुलाकात की। इसके अलावा आवामी बेहबूद कमेटी, फलाह वा बेहबूद कमेटी, कष्मीर टूरिस्ट टैक्सी ट्रांसपोर्टर फैडरेषन, सूमो आॅनर युनियन पंथाचैक श्रीनगर सहित विभिन्न क्षेत्रों के व्यक्तियोें, नगर समाज प्रतिनिधियों ने भी अपनी चिंताएं बताईं तथा स्कूलों के उन्नयन, सडकों पर तारकोल बिछाने, पुलोें, पुलियों आदि के निर्माण सहित अपने अधिकार क्षेत्रों में कई विकास मुददों पर चर्चा की।
प्रतिनिधिमंडलों को ध्यानपूर्वक सुनते हुए सलाहकार ने आष्वासन दिया कि उनके सभी जायज मुददों पर विचार किया जाएगा तथा इसपर उचित कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने राज्य के विकास को बढ़ावा देने हेतु सरकार की प्रतिबद्धता को भी दोहराया।

विस अध्यक्ष ने बिलावार निर्वाचन क्षेत्र में विकास कार्यों का जायजा लिया

श्रीनगर, 09 जुलाई 2018- जम्मू-कश्मीर विधान सभा के अध्यक्ष डॉ निर्मल सिंह ने आज आयुक्त सचिव पीएचई, सिंचाई एवं बाढ़ नियंत्रण विभाग फारूक अहमद शाह के साथ एक बैठक बुलाई और आज यहां पीएचई, सिंचाई एवं बाढ़ नियंत्रण विभाग द्वारा बिलावर निर्वाचन क्षेत्र में की गई विकास गतिविधियों का जायजा लिया।
बिलावार निर्वाचन क्षेत्र से संबंधित विभिन्न विकास संबंधी मुद्दों पर विस्तृत चर्चा की गईं, जिसमें उनके निर्वाचन क्षेत्र के लोगों को पर्याप्त स्वच्छ पेयजल प्रदान करना, निष्क्रिय हाथ पंपों की मरम्मत, पर्याप्त कर्मचारियों की नियुक्ति, नालो की मरम्मत शामिल है।
अध्यक्ष ने आयुक्त सचिव पीएचई को विभाग के संबंधित अधिकारियों को इस संबंध में आवश्यक निर्देश देने को कहा ताकि विभिन्न परियोजनाओं पर चल रहे कार्यों को जल्द से जल्द पूरा किया जा सके और पूरा किया जा सके।
आयुक्त सचिव ने अध्यक्ष को आश्वासन दिया कि वह अपने निर्वाचन क्षेत्र में विकास गतिविधियों के बारे में बैठक में उजागर और अनुमानित मुद्दों पर सभी आवश्यक कदम उठाएंगे।
इससे पहले, प्रधान सचिव गृह विभाग ने अध्यक्ष से मुलाकात की।

मुख्य सचिव ने ’प्रशासन वितरण मिशन’ का षुभारंभ किया

श्रीनगर 09 जुलाई 2018- मुख्य सचिव बीवीआर सुब्रह्मण्यम ने प्रशासन में दक्षता, पारदर्शिता और निष्पक्षता लाने के लिए प्रशासनिक सचिवों को निर्देशों की एक श्रृंखला जारी की और ’सरकार को वितरित करने के मिशन’ के माध्यम से सार्वजनिक शिकायतों का त्वरित समाधान सुनिश्चित किया।
आज सुबह प्रशासनिक सचिवों की एक बैठक में बोलते हुए मुख्य सचिव ने उनसे संबंधित विभागों में किसी भी मामले को, जिसमें सार्वजनिक सेवाओं के वितरण पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ने की संभावना है, को सरकार के ध्यान में तत्काल लाने के लिए कहा। उन्होंने कहा, “प्रशासनिक सचिवों को स्पष्ट रूप से इस मुद्दे की उत्पत्ति को इंगित करना चाहिए और त्वरित निवारण उपायों को शुरू करने के लिए आवश्यक उपायों को स्पष्ट करना चाहिए।“ उन्होंने कहा कि संबंधित प्रशासनिक सचिव इस तरह के सभी मामलों में व्यक्तिगत रूप से उत्तरदायी होंगे।
उन्होंने कहा कि प्रत्येक बुधवार को राज्य प्रशासनिक परिषद (एसएसी) की बैठकें तय की गई हैं, प्रशासनिक सचिव, एसएसी के विचार के लिए संबंधित सलाहकारों के माध्यम से सामान्य प्रशासन विभाग (जीएडी) को प्रेस विज्ञप्ति के साथ एजेंडा हर सोमवार को 4 बजे तक जमा करेंगे ।
प्रशासनिक सचिवों द्वारा दौरे के तर्कसंगतकरण के बारे में, मुख्य सचिव ने निर्देश दिया कि सभी प्रशासनिक सचिव एक कैलेंडर तैयार करेंगे ताकि राज्य के भीतर राज्य और आधिकारिक पर्यटन के भीतर उनकी प्रतिबद्धताओं को संतुलित किया जा सके।
कर्मचारियों की उपस्थिति सुनिश्चित करने के लिए, मुख्य सचिव ने प्रशासनिक सचिवों से अपने संबंधित विभागों में कर्मचारियों के बॉयोमीट्रिक उपस्थिति रिपोर्टों का विश्लेषण करने और दैनिक आधार पर सामान्य प्रशासन विभाग (जीएडी) को स्टेटस नोट जमा करने के लिए कहा। उन्होंने कहा, “प्रशासनिक सचिवों को अपनी स्थिति रिपोर्ट में स्पष्ट रूप से उपस्थित होने वाले कर्मचारियों की कुल संख्या, उपस्थिति को चिह्नित करने वाले कर्मचारियों की संख्या और वैध कारणों से कर्मचारियों की संख्या को स्पष्ट रूप से इंगित करना चाहि।“ उन्होंने कहा कि अधिकारियों / अधिकारियों की नियमित उपस्थिति उनके संबंधित विभाग सार्वजनिक शिकायतों के शीघ्र समाधान के लिए महत्वपूर्ण हैं।
कर्मचारियों के अटैचमंेट को रद्द करने के संबंध में, प्रशासनिक सचिवों को इस संबंध में सरकार द्वारा जारी परिपत्र (अनुच्छेद 22-जीएडी 2018 दिनांकः 06-07-2018) के अनुपालन को प्रमाणित करने के लिए निर्देशित किया गया है और 16-07-2018 तक जीएडी को एक रिपोर्ट जमा करने के लिए निर्देशित किया गया है। मुख्य सचिव ने ओएम संख्याः जीएडी (एडीएम) 29/2018-1 दिनांकित 29-06-2018 द्वारा जारी किए गए निर्देशों के प्रकाश में विभिन्न विभागों द्वारा कंसल्टेंट्स की भागीदारी के बारे में जानकारी मांगी।
मुख्य सचिव ने निर्देश दिया कि सभी सरकारी विभागों और सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों को अपने विज्ञापन को केवल सूचना विभाग के माध्यम से पिं्रट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को जारी करना चाहिए।
विस्तारित ग्राम स्वराज अभियान के संबंध में, प्रशासनिक सचिव, आरडी और पीआरआई को मुख्य सचिव की जानकारी के लिए विषय पर स्टेटस नोट जमा करने के लिए कहा गया था।
स्वास्थ्य, आतिथ्य और प्रोटोकॉल, आईटी, श्रम और रोजगार, लद्दाख मामलों, आई और एफसी, एआरआई और प्रशिक्षण, नागरिक उड्डयन, चुनाव, एस्टेट, आरडी और पीआरआई और परिवहन विभागों के प्रशासनिक सचिवों को है मुख्य सचिव के कार्यालय में मुद्दों के साथ समग्र कार्य करने के संबंध में एक पृष्ठ नोट जमा करने के लिए कहा गया।
मुख्य सचिव की अध्यक्षता में बैठकों के संबंध में, प्रशासनिक सचिवों को एजेंडा नोट की प्रतियां जमा करने के लिए कहा गया है, जहां मुख्य सचिव की अध्यक्षता में समिति के विचार के लिए प्रस्तावित निर्णय के साथ जहां भी आवश्यक हो, पीपीटी के साथ स्पष्ट होना चाहिए।
अंतर-विभागीय समितियों के संबंध में, मुख्य सचिव ने निर्देश दिया कि विभिन्न विभागों के प्रशासनिक सचिवों सहित सभी अंतर-विभागीय समितियां जम्मू-कश्मीर सरकार के व्यापार नियमों के तहत आवश्यक सामान्य प्रशासन विभाग के आदेशों के तहत गठित की जानी चाहिए।
प्रशासनिक सचिवों को समय-समय पर मुद्दों को हल करने के लिए एसएसी निर्णय के प्रकाश में अपने संबंधित विभागों में छह समर्पित कोशिकाओं को स्थापित करने के लिए कहा गया था।
मुख्य सचिव ने कहा, “प्रशासनिक सचिव समय-समय पर अनुपालन और अनुवर्ती अनुपालन के लिए प्रषासन नियम लागू करने के परिणामस्वरूप जारी किए गए परिपत्र निर्देश / आदेशों का रिकॉर्ड रखेंगे।“

श्री अमरनाथजी यात्रा 2018
राज्यपाल ने यात्रा की गति की समीक्षा की; यात्रा 12 वें दिन श्रद्धालुओं की संख्या एक लाख से अधिक हुई

श्रीनगर 09 जुलाई 2018- आज यहां आयोजित एक समीक्षा बैठक में श्राइन बोर्ड के सीईओ उमंग नारुला, अतिरिक्त सीईओ भूपिंदर कुमार ने बोर्ड के अध्यक्ष राज्यपाल एन एन वोहरा को सूचित किया कियात्रा के 12 वें दिन 9,606 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुफा में पूजा की और आज तक 1,04,018 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुफा में हिमलिंग के दर्शन किए है। सीईओ ने आगे बताया कि यात्रा के शुरुआती ग्यारह दिनों के दौरान, जम्मू से कश्मीर घाटी को श्रद्धालुओं की आवाजाही को तीन बार मार्गों और भूस्खलन तथा रेलपथरी के बीच पत्थरों के गिरने व बारिश एवं फिसलन स्थिति के कारण निलंबित कर दिया गया था। जिसके परिणामस्वरूप बालटाल और नुनवान आधार शिविरों में बड़ी संख्या में श्रद्धालु जमा हो गए। एक मौके पर, सुरक्षा चिंताओं के कारण जम्मू से बालटाल और नुनवान के आधार शिविर के लिएयात्रा रोकी गई थी।
राज्यपाल को सूचित किया गया कि यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए, श्री अमरनाथजी यात्रा तीन बार यानी 30 जून, 4 जुलाई, और 5 जुलाई को बालटाल और पहलगाम मार्गों से पूरी तरह से निलंबित कर दी गई और 29 जून तथा 6 जुलाई को भूस्खलन, पटरियों फिसलन की वजह से बालटाल मार्ग से दो बार निलंबित किया गया।
यह देखना प्रासंगिक है कि सीईओ और अतिरिक्त सीईओ यात्रा के संचालन में लगी सभी एजेंसियों के अधिकारियों और विशेष रूप से श्राइन और सभी यात्रा शिविरों में व्यवस्था के बारे में पूछताछ के लिए अधिकारियों के साथ बातचीत कर रहे हैं। सीईओ ने आगे बताया कि ट्रैक के विभिन्न हिस्सों पर तैनात 9 एमआरटी कमजोर, भूस्खलन और गिरने वाले पत्थरों के क्षेत्रों में विशेष रूप से ब्रारिमार्ग और रेलपथरी के बीच यात्रियों की सुरक्षित आवाजाही में सहायता करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। सीईओ ने सूचित किया कि पंजीकृत यात्रियों को एसएमएस संदेश उन्हें यात्रा की कठिन प्रकृति के बारे में जागरूक करने के लिए भेजे जा रहे हैं और आज से, हिंदी में एक संदेश भी यात्रियों को भेज दिया गया है ताकि उन्हें चेतावनी दी जा सके कि वे गिरते पत्थरों से सावधान रहें।

हज-2018ः सलाहकार गनई ने व्यवस्था की समीक्षा की, 14 जुलाई से शुरू होंगी उड़ानें

श्रीनगर, 08 जुलाई 2018- राज्यपाल के सलाहकार खुर्शीद अहमद गनई ने आज राज्य हज समिति द्वारा हज 2018 के लिए किए गए प्रबंधों की समीक्षा की। सलाहकार ने कार्यकारी अधिकारी सैयद क़मार सजाद को हाजियों के प्रस्थान से पहले सभी व्यवस्थाओं को अंतिम रूप देने और पूरा करने का निर्देश दिया।
कार्यकारी अधिकारी ने हज 2018 के सुचारू संचालन के लिए राज्य हज समिति द्वारा की गई व्यवस्था के बारे में सलाहकार का मूल्यांकन किया। उन्होंने सलाहकार को सूचित किया कि श्रीनगर की शुरूआत से बाहर की उड़ानें 14 जुलाई, 2018 से शुरू होंगी और 25 जुलाई, 2018 को समाप्त होंगी जबकि दिल्ली की उड़ानें 14 जुलाई से 28 जुलाई, 2018 तक चलेगी। दैनिक आधार पर श्रीनगर की शुरूआत बिंदु से 4 उड़ानों में मदीना मुन्नावरा के लिए कुल 820 तीर्थयात्री प्रस्थान करेंगे। दिल्ली के उद्घाटन बिंदु से कुल 56 9 तीर्थयात्रियों को प्रस्थान किया जाएगा और 9 614 तीर्थयात्रियों श्रीनगर की शुरूआत बिंदु से प्रस्थान करेंगे, इसलिए जम्मू-कश्मीर के कुल 10183 तीर्थयात्रियों के साथ 50 खदीम उल हुजज इस वर्ष हज करेंगे।
बैठक के दौरान सलाहकार को सूचित किया गया कि तीर्थयात्रियों को हज हाउस, बेमिना से श्रीनगर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे और जम्मू डिवीजन के संबंधित जिलों से श्रीनगर हाज हाउस तक ले जाने के लिए पर्याप्त परिवहन व्यवस्था की गई है। यह सूचित किया गया था कि तीर्थयात्रियों के मार्गदर्शन के लिए, उन्हें पुस्तिकाएं और गाइड प्रदान किए गए हैं। जम्मू संभाग / लद्दाख क्षेत्र के तीर्थयात्रियों के संबंध में श्रीनगर के हज हाउस में घाटी के दूरदराज के इलाकों के अलावा बोर्डिंग और आवास सुविधाओं को भी अंतिम रूप दिया गया है।
बैठक के दौरान हज 2018 के संबंध में किए गए निर्णयों की प्रगति की भी समीक्षा की गई। राज्यपाल के सलाहकार ने सभी संबंधित लोगों को उत्साह और उत्साह के साथ अपने कर्तव्यों का पालन करने के लिए विचार-विमर्श किया। बैठक में राज्य हज समिति के अन्य अधिकारियों ने भी भाग लिया था।

श्री अमरनाथजी यात्रा 2018, 11,282 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुफा में पूजा की

श्रीनगर, 08 जुलाई 2018- यात्रा के 11 वें दिन, यात्रा पहलगाम के साथ-साथ बालटाल दोनों मार्गों पर आसानी से आगे बढ़ी। हेलीकॉप्टर सेवा दोनों मार्गों से भी संचालित होती रही। हालांकि, जम्मू से यात्रा निलंबित कर दी गई।
गंभीर रूप से बीमार गुजरात के 45 वर्षीय गौरी शंकर को तत्कालीन विशेष उपचार के लिए आधर शिविर बालटाल से स्कीम्स, श्रीनगर में श्राइन बोर्ड द्वारा तुरंत ले जाया गया।
श्री अमरनाथजी यात्रा के 11 वें दिन 11,282 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुफा में पूजा की और अब तक 94,412 श्रद्धालु पवित्र गुफा में शिवलिंग का दर्शन कर चुके है।
राज्यपाल एन एन वोहरा द्वारा अपनी 6 जुलाई की बैठक में पंजतरणी में फंसे यात्रियों को तत्काल राहत प्रदान करने के लिए जारी निर्देशों के अनुवर्ती समीक्षा करते समय श्राइन बोर्ड के सीईओ उमंग नरुला ने बताया कि जम्मू-कश्मीर बैंक के माइक्रो एटीएम ने पंजतरणी में तीर्थयात्रियों के लिए 3.62 लाख नकद और रेलपथरी और ब्रारिमर्ग के बीच कमजोर स्थानों पर तार के जाल लगाने का काम वांछित गति से बढ़ रहा है।

राज्यपाल ने जम्मू कशमीर में सिगरेट व अन्य तम्बाकू उत्पाद अधिनियम को सख्ती से लागू करने के निर्देश दिये
सार्वजानिक क्षेत्रों को धूम्रपान मुक्त बनाये रखने, बच्चों के लिए तम्बाकू उत्पादों की ब्रिकी रोकने के निर्देश जारी किये

श्रीनगर 07 जुलाई 2018-जम्मू व कशमीर में तम्बाकू नियंत्रण कानून कार्यान्वयन में लापरवाही पर कडा संज्ञान लेते हुए राज्यपाल एन. एन. वोहरा ने प्रषासन को सिगरेट व अन्य तम्बाकू उत्पाद अधिनियम 2003 को सख्ती से लागू करने के निर्देश दिये।
राज्यपाल ने आज जारी एक निर्देष में प्रषासन को आदेष दिये कि राज्य के हर एक कोने में आम जनता के बीच तम्बाकू रोधी सूचना प्रसारित की जाये।
सिगरेट धूम्रपान के खतरनाक प्रभावों को उजागर करने के लिए जम्मू व कष्मीर स्वैच्छिक स्वास्थ्य एवं विकास संघ द्वारा किये गये प्रषंसनीय कार्य की सराहना करते हुए राज्यपाल ने नागरिक समाज तथा गैर लाभकारी संस्थाओं से सामुहिक रूप से इस खतरे से निपटने हेतु हाथ मिलाकर कार्य करने का आग्रह किया।
समय से पहले मृत्यु तथा विकलांगता के लिए धूम्रपान दूसरा सबसे बडा जोखिम कारक बना हुआ है इसके प्रभाव को कम करने के लिए हमे जम्मू व कष्मीर में तम्बाकू नियंत्रण के प्रयासों को तेज करना होगा और सभी स्तरों पर इस खतरे को हतोत्साहित करना होगा।
राज्यपाल ने प्रषासनिक मषीनरी को यह सुनिष्चित करने के निर्देष दिये कि किसी भी व्यक्ति को होटलों, रेस्तरां तथा हवाई अड्डों में विषेश धूम्रपान क्षेत्रों को छोडकर किसी भी सार्वजानिक स्थानों पर धूम्रपान करने की अनुमति नही है।
राज्यपाल ने कानून के तहत प्रतिबंधित तम्बाकू उत्पादों के विज्ञापनों को प्रभावी रूप से जांचने की आवष्यकता पर बल दिया। उन्होंने यह सुनिष्चित करने के निर्देष दिये कि षिक्षा संस्थान की बाहरी सीमा से 100 किलोमीटर के दायरे के भीतर किसी भी स्थान पर 18 वर्श से कम आयु के व्यक्ति को तम्बाकू उत्पाद न बेचा जाये।
राज्यपाल ने तम्बाकू उत्पादों की खपत को हतोत्साहित करने हेतु लोगों विषेशकर युवाओं के मध्य एक जीवंत प्रचार तथा जागरूकता अभियान षुरू करने की आवष्यकता पर बल दिया। ऐसी पहल युवा पीढी के स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद करेगी।

आईजी बीएसएफ ने सलाहकार विजय कुमार से मुलाकात की

श्रीनगर 07 जुलाई 2018-सीमा सुरक्षाबल के महानिरीक्षक (आईजी बीएसएफ) कष्मीर सुनाली मिश्रा ने आज राज्यपाल के सलाहकार के. विजय कुमार से भेंट की।
आईजी बीएसएफ (एसटीसी) एस. एस. चाहर तथा डीआईजी बीएसएफ (आपरेषन) हरि लाल भी बैठक में उपस्थित रहे।
सुश्री मिश्रा ने सलाहकार को मौजूदा भीतरी सुरक्षा स्थिति तथा श्री अमरनाथजी यात्रा के लिए राज्य में आने वाले श्रद्धालुओं की सुरक्षा हेतु किये गये प्रबंधों की जानकारी दी।

राज्यपाल ने उत्तरी सेना कमांडर के साथ आपातकालीन बैठक आयोजित की

श्रीनगर 07 जुलाई 2018-राज्यपाल एन एन वोहरा ने आज राजभवन में एक उच्च स्तरीय बैठक आयोजित कर कुलगाम जिले में हुई 3 नागरिकों की मृत्यु घटना के संर्दभ में कष्मीर घाटी में सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की। राज्यपाल ने उत्तरी सेना कमांडर जनरल रणवीर सिंह को चर्चा में भाग लेने हेतु विषेश रूप से आमंत्रित किया।
एक किषोर लडकी सहित नागरिकों की मृत्यु पर गहरी पीडा व्यक्त करते हुए राज्यपाल ने नागरिक हताहतों और संपाष्र्विक क्षति की घटनाओं से बचने के लिए सेना और सभी सुरक्षा बलों द्वारा सख्ती से पालन किये जाने वाले मानव संचालन प्रक्रियाओं के महत्व को दोहराया। उन्होंने कठिन परिस्थितियों से निपटने के लिए सषस्त्रबलों और राज्य पुलिस के बीच सषक्त सहयोगी कार्रवाई और तालमेल के महत्व पर भी जोर दिया।
सभी सुरक्षाबलों के प्रमुखों ने राज्यपाल को चालू श्री अमरनाथजी यात्रा के सुरक्षित आयोजन हेतु किये गये सुरक्षा प्रबंधन तथा प्रबंधों से सम्बंधित मुद्दो की जानकारी दी।
उत्तरी सेना कमांडर के अलावा राज्यपाल के तीन सलाहकार बी. बी. व्यास, के. विजय कुमार तथा खुर्षीद अहमद गनई, पुलिस महानिदेषक डाॅ एस. पी. वैद, राज्यपाल के प्रमुख सचिव उमंग नरूला, प्रमुख सचिव गृह, आर के गोयल, जीओसी एक्सवी कोर लै. जनरल ए. के. भट्ट, एडीजीपी सीआईडी ए. जी. मीर, एडीजीपी होम गार्ड, सुरक्षा तथा कानून व्यवस्था मुनीर खान, मंडलायुक्त कष्मीर बसीर खान, आईजीपी कष्मीर एस पी पाणी, आईजी सीआरपीएफ (आपरेषन) कष्मीर जुल्फकार हसन, आईजी सीआरपीएफ कष्मीर रवि दीप सिंह साही तथा आईजी बीएसएफ सुनाली मिश्रा बैठक में उपस्थित थे।

एफसीएसएंडसीए आयुक्त सचिव ने जम्मू शहर से तेल डिपूओं को स्थानातंरित करने की स्थिति की समीक्षा की

श्रीनगर 07 जुलाई 2018-खाद्य, नागरिक आपूर्ति तथा उपभोक्ता मामले (एफसीएसएंडसीए) विभाग के आयुक्त सचिव डाॅ अब्दुल रषीद ने आज एक बैठक आयोजित कर जम्मू षहर के आबादी वाले क्षेत्रों से तेल के डिपूओं को अपने बाहरी इलाकों में एक वैकल्पिक स्थल पर स्थानातंरित करने की स्थिति की समीक्षा की।
इस अवसर पर तेल विपणन कम्पनियों के राज्य स्तरीय समन्वयक राजीव यादव ने आयुक्त सचिव को तेल डिपूओं के स्थानातंरण की प्रगति के बारे में जानकारी दी।
आयुक्त सचिव ने अधिकारियों का जम्मू से तेल डिपूओं को आवासीय क्षेत्रों के बाहर स्थानातंरित करने के लिए सही भूमि की पहचान की प्रक्रिया में तेजी लाने और राजस्व अधिकारियों के समक्ष इस मुद्दे को उठाने के निर्देष दिये। बैठक के दौरान आयुक्त सचिव ने तेल विपणन कम्पनियों (ओएमसी) को विषेश रूप से कष्मीर घाटी में पैट्रोलियम उत्पादों का पर्याप्त भंडार रखने के निर्देष दिये। उन्होंने ओएमसी के प्रतिनिधि तथा विभागों के अधिकारियों को सम्पर्णभाव से कार्य कर विभिन्न चालु परियोजनाओं को समय पर पूरा करने के निर्देष भी दिये।
एफसीएसएंडसीए निदेषक जम्मू आर ए इंकलाबी, राज्य स्तरीय समन्वयक आईओसीएल जम्मू राजीव यादव, एलएमडी के सयंुक्त नियंत्रक वी एस सम्बयाल,उप निदेषक (आपूर्ति) जोगिन्द्र सिंह जसरोटिया, एलएमडी उप नियत्रंक मनोज प्रभाकर तथा तेल विपणन कम्पनियों के अन्य वरिश्ठ अधिकारी बैठक में उपस्थित थे।

श्री अमरनाथजी यात्रा 2018
10107 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुफा में माथा टेका

श्रीनगर 07 जुलाई 2018-आज शाम आयोजित एक समीक्षा बैठक में श्राईन बोर्ड के सीईओ उमंग नरूला ने श्री अमरनाथजी श्राईन बोर्ड के अध्यक्ष राज्यपाल एन. एन. वोहरा को सूचित किया कि आज सुबह सुबह बालटाल तथा पहलगाम के मार्गो से यात्रा षुरू की गई है तथा इन दोनों तरफ से हैलीकाप्टर सेवाएं भी संचालित हुई हैं।
सीईओ ने इसके अतिरिक्त बताया कि यात्रा के 10वें दिन 10107 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुफा मे माथा टेका तथा अब तक 83130 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुफा में षिवलिंग के दर्षन किये।

भारी बारिश, भूस्खलन के कारण दूसरी बार यात्रा रोकी गई, राज्यपाल ने षिविरों का दौरा किया, निर्देश जारी किए

श्रीनगर, 06 जुलाई 2018- राज्यपाल एन एन वोहरा, अध्यक्ष श्री अमरनाथजी श्राइन बोर्ड, के निर्देशों पर श्राईन बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी उमंग नरुला द्वारा आज सुबह पंचतरणी से बालटाल तक फंसे हुए यात्रियों को निकालने के लिए बचाव अभियान शुरू किए गए।
पिछले कई दिनों में लगभग लगातार बारिश ने विशेष रूप से बालटाल-संगम-पवित्र गुफा मार्ग की स्थितियों पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है। कई जगहों पर भूस्खलन के अलावा पत्थर गिरने और कुछ स्थानों पर ट्रैक के डूबने से अधिकतम व्यवधान हुआ है। जैसा कि राज्यपाल द्वारा निर्देशित किया गया है, बीमार तीर्थयात्रियों के साथ-साथ वृद्ध तथा महिला यात्रियों को प्राथमिकता दी गई जबकि तीन भारतीय वायुसेना एमआई -17 हेलीकॉप्टरों ने पंचतरधी से बालटाल तक उड़ाने भर कर यात्रियों को निकाला।
जम्मू के एक पूर्व-निर्धारित दौरे को रद्द करतेहुए, राज्यपाल वोहरा ने सलाहकार बीबी व्यास और मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री उमंग नरुला के साथ बालटाल, पंचतरणी और नुनवान (पहलगाम) यात्रा शिविरों का दौरा कर मौके पर स्थ्तिि का जायजा लिया।
शिविर निदेशकों, गंादरबल और अनंतनाग के जिला उपायुक्त व एसएसपी, पुलिस, सेना, बीआरओ आदि के के अधिकारियों, वरिष्ठ नागरिकों और विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ बैठकों के अलावा राज्यपाल तीर्थयात्रियों से उनकी समस्याओं को सुनने के लिए मिले।
उपायुक्त, एसएसपी, शिविर निदेशकों और अन्य सभी संबंधित अधिकारियों के साथ चर्चा के बाद, राज्यपाल ने बालटाल-पंचतरणी -बालटाल ट्रैक पर ऊपर और नीचे की ओर बढ़ने के लिए कट ऑफ समय; यात्रियोंकर अवाजाही को नियंत्रित करने के लिए ट्रैक पर सभी महत्वपूर्ण स्थानों पर अतिरिक्त पुलिस कर्मियों, एमआरटीपी बचाव दल और एसडीआरएफ टीमों की तत्काल तैनाती, विशेष रूप से जो अस्वस्थ हैं; ट्रैक के क्षतिग्रस्त हिस्सों की तत्काल बहाली के लिए अतिरिक्त श्रम की तत्काल तैनाती और इसके अलावा, किसी भी उभरती समस्या की मरम्मत के लिए खड़े होने के लिए; ट्रैक के क्षतिग्रस्त / कमजोर हिस्सों के साथ रोशनी की स्थापना; ब्रारिमर्ग में एक मजिस्ट्रेट की तैनाती; शिविर निदेशकों और पुलिस टेंट, टट्टू, बंदरगाहों, पाल्किस इत्यादि के लिए लगाए गए दरों का सख्त प्रवर्तन सुनिश्चित करने के लिए और विशेष रूप से किसी भी अधिभार के खिलाफ सुनिश्चित करने के बारे में निर्देश दिए। चूंकि पत्थरों / भूस्खलन गिरने के कारण बाल्टल मार्ग निष्क्रिय हो गया है शिविर निदेशक बाल्टल को यह देखने का निर्देश दिया गया कि बालटाल मार्ग पर यात्रा करने के लिए पंजीकरण करने वाले यात्रियों को पहलगाम मार्ग के माध्यम से अपनी तीर्थ यात्रा करने की सुविधा दी जानी चाहिए; जम्मू-कश्मीर बैंक से पंचतरणी में नकदी के वितरण के लिए तत्काल स्थापना की सुविधा के लिए संपर्क किया जाना चाहिए जब तक कि एटीएम यहां स्थापित न हो जाए।
जम्मू से तीर्थयात्रियों की आवाजाही को नियंत्रित करने के लिए, बालटाल ट्रैक चालू होने तक राज्यपाल ने आज शाम राजभवन में उचित निर्णय लेने और राज्य में तीर्थयात्रियों और सभी संबंधित अधिकारियों को ज्ञात करने के लिए आपातकालीन बैठक बुलाई है।

श्री अमरनाथजी यात्रा 2018, 4821 तीर्थयात्री पवित्र गुफा में पूजा की

श्रीनगर, 06 जुलाई 2018- गिरते पत्थरों और फिसलन की घटनाओं को ध्यान में रखते हुए यात्रा को बालटाल मार्ग से निलंबित कर दिया गया। इस बीच पहलगाम मार्ग से सुचारू रूप से आगे बढ़ रही है। हालांकि, हेलीकॉप्टर सेवा दोनों मार्गों से संचालित होती रही है।
सीईओ ने आगे बताया कि चालू अमरनाथजी यात्रा के 9वें दिन 4821 यात्रियों ने पवित्र गुफा में पूजा की और आज तक 73023 यात्रियों को पवित्र गुफा में शिवलिंग का दर्शन किया है।

सरकार ने सीडीएस दिशानिर्देशों की प्रयोज्यता के संबंध में स्पष्टीकरण जारी किया

श्रीनगर, 06 जुलाई 2018- राज्य में राज्यपाल षासन लागू होने के बाद सीडीएस दिशानिर्देशों की प्रयोज्यता के बारे में विभिन्न क्षेत्रों द्वारा स्पष्टीकरण मकी मांग की गई है।
योजना विभाग ने इस मामले की जांच की है और सभी उपायुक्तों को निर्देश नीचे दिए गए हैंः (2) सभी चालू कार्यों का निष्पादन जारी रहेगा और उसके बाद निष्पादित एजेंसियों को जारी की गई निश्चित समय रेखाओं और भुगतानों के अनुसार पूरा किया जाएगा; (2) प्रस्ताव जिसके संबंध में प्रशासनिक अनुमोदन दिया गया है या विस्तृत अनुमान तैयार किए गए हैं, लेकिन जहां तक कार्य शुरू नहीं हुआ है, अब तक प्रशासनिक अनुमोदन के अनुसार, निर्धारित औपचारिकताओं की पूर्ति के बाद शीघ्रता से निष्पादित नहीं किया जाएगा; (3) राज्य में विधायकों के लिए निर्वाचन क्षेत्र विकास योजना के मौजूदा दिशानिर्देशों के तहत राज्यपाल षासन से पहले इस तरह के कार्यों की पहचान की गई थी, लेकिन जहां काम के अनुमान अब तक तैयार नहीं किए गए हैं या अधिकृत भी हैं निर्दिष्ट प्राधिकरणों द्वारा अनुमोदन के लिए विचार किया जाना चाहिए और संबंधित निष्पादन एजेंसी द्वारा समय पर निष्पादित किया जाना चाहिए।
उपर्युक्त निर्णयों से संबंधित विस्तृत दिशानिर्देश जारी किए गए हैं, सभी डीडीसी को सख्ती से पालन करने के लिए व्यक्तिगत रूप से सभी कार्यों की गति और निष्पादन की निगरानी करने और बड़े सार्वजनिक हित में किसी भी लागत या समय के बिना पूरा होने की पुष्टि करने की सलाह दी गई है। इस उद्देश्य के लिए, डीडीसी अपने क्षेत्र के दौरे और सार्वजनिक आउटरीच कार्यक्रमों को तेज कर देगा।
सचिवालय स्तर पर, योजना विकास और निगरानी विभाग इन कार्यों की नियमित समीक्षा करेगा जिसमें जमीन पर उनकी शारीरिक जांच, और राज्यपाल को रिपोर्ट प्रस्तुत की जाएगी।

राज्यपाल ने फंसे यात्रियों को तत्काल राहत के लिए निर्देश दिए

श्रीनगर, 06 जुलाई: आज सुबह नुनवान और बालटाल आधार शिविरों में जमीन की स्थिति लेने के बाद, राज्यपाल एन एन वोहरा ने अमरनाथजी यात्रा के आचरण को सुविधाजनक बनाने के लिए आवश्यक तत्काल कार्रवाई की समीक्षा करने के लिए आपातकालीन बैठक की अध्यक्षता की।
बैठक में सलाहकार बीबी व्यास, श्राइन बोर्ड के सीईओ उमंग नरुला;अतिरिक्त सीईओ भूपिंदर कुमार, अध्यक्ष जे एंड के बैंक परवेज अहमद, मंडलाायुक्त कश्मीर बसीर अहमद खान, आईजीपी कश्मीर स्वयं प्रकाश पनी, मुख्य अभियंता बीआरओ; मुख्य सिग्नल अधिकारी (सेना), श्रीनगर; निदेशक सीएपीडी; विकास कमिश्नर आर एंड बी श्रीनगर; महाप्रबंधक बीएसएनएल; और हिंदुस्तान पेट्रोलियम विमानन के प्रतिनिधि षामिल हुए।
राज्यपाल ने जीएम, बीएसएनएल को विभिन्न यात्रा शिविरों में दूरसंचार की गुणवत्ता को बहाल करने और तुरंत सुधारने और बैंड विठथ को बढ़ाने के निर्देश दिए। षीघ्र बहाली सुनिश्चित करने के लिए मंडलायुक्त को बीएसएनएल के साथ संपर्क रखने का निर्देश दिया गया ; हिंदुस्तान पेट्रोलियम एविएशन के प्रतिनिधि को आईएएफ चोपर्स के लिए रिजीलिंग सुविधाएं प्रदान करने का निर्देश दिया गया, अध्यक्ष जम्मू-कश्मीर बैंक को पंचतरण में माइक्रो एटीएम स्थापित करने और कल सुबह फंसे हुए यात्रियों को नकद उपलब्ध कराने का निर्देश दिया ; विकास आयुक्त आर एंड बी, श्रीनगर और मुख्य अभियंता बीआरओ को संसाधनों को पूल करके रेल पाथरी और ब्रारिमर्ग के बीच प्रभावित ट्रैक हिस्सों में गिरते पत्थरों से सुरक्षा प्रदान करने के लिए तत्काल उपाय शुरू करने का निर्देश दिया गया ; आईजीपी कश्मीर को तीर्थयात्रियों की सुरक्षा के लिए नामित स्थानों पर पर्याप्त पुलिस बल स्थापित करने का निर्देश दिया गया । निदेशक सीएपीडी ने राज्यपाल को आश्वासन दिया कि सभी यात्रा शिविरों में राशन पर्याप्त रूप से भंडार किया गया है। पंचतरणी से बालटाल तक आईएएफ के हेलिकाप्टरों ने आज दोपहर तक 326 तीर्थयात्रियों को निकाला है।

अधिकार प्राप्त समिति ने नियमितिकरण के लिए 117 मामलों को मंजूरी दी है

श्रीनगर, 6 जुलाई 2018- राज्यपाल एन एन वेहरा के निर्देशों पर प्रमुख सचिव वित्त नवरन कुमार चैधरी अध्यक्षता वाली अधिकार प्राप्त समिति की आज आयोजित बैठक में आकस्मिक / मौसमी / जरूरत-आधारित और अन्य श्रमिकों की नियमितिकरण के लिए 119 मामलों में से 117 को मंजूरी दे दी। आवश्यक दस्तावेज की मांग के लिए दो मामलों को खारिज कर दिया गया । अधिकार प्राप्त समिति की अगली बैठक 18 जुलाई, 2018 को आयोजित की जाएगी।
उल्लेखनीय है कि राज्यपाल एन एन वोहरा ने निर्देश जारी किए हैं कि अधिकार प्राप्त समिति को नियमित रूप से आकस्मिक, मौसमी / आवश्यकता-आधारित और एसआरओ -520 के तहत अन्य श्रमिकों के नियमितिकरण के लिए सभी लंबित मामलों को स्पष्ट करने के लिए नियमित रूप से बैठक करनी चाहिए।
संख्या 919

आखिरकार लोक सभा चुनाव 2019 की बलि चढ़ा भाजपा और पी.डी.पी.का 40 महीने पुराना साथ

भुपेंद्र शर्मा, चंडीगढ़: आखिरकार आगामी लोक सभा चुनाव 2019 के चलते केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को जम्मू-कश्मीर में अपनी सहयोगी पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पी.डी.पी.) के 40 महीने पुराने साथ को तिलांजलि देने का मौका मिल ही गया। भले ही भाजपा इस गैरपारंपरिक गठबंधन को तोड़ने का बहाना लंबे अर्से से ढूंढ रही थी मगर अब यह छोड़ना उसके लिए समय की मांग भी बन चुका था। क्योंकि पूरे देश में चर्चा का विषय बन चुके इस गठबंधन को गर भाजपा आगामी लोक सभा चुनावों तलक थोड़ा और जारी रखती या खींचती तो हो सकता है कि वह आने वाले लोक सभा चुनावों में अपने हिंदुत्व के एजेंडे को उतना न भुना पाती जितना कि अब पी.डी.पी.का साथ छोड़ कर ताल ठोकती नजर आ रही है। इस में कोई दो राय नहीं कि भाजपा और पीडीपी के गठबंधन वाली सरकार के चलते भाजपा ने जम्मू काशमीर के जम्मू और लद्दाख क्षेत्रों में रहने वाले उन हिंदुओं से नाराजगी मोल ले ली जिनके सहारे पार्टी 87 विधान सभा सीटों वाली जम्मू-कश्मीर विधानसभा में 25 सीटें जीत कर पीडीपी के साथ राज्य में सरकार बनाने के काबिल हुई थी। जम्मू और लद्दाख क्षेत्रों में रहने वाले हिंदू पिछले 40 महीनों से उपेक्षा का आरोप लगाते आ रहे हैं। दूसरी ओर गठबंधन तोड़ने के बाद भाजपा अब कशमीर घाटी में हुई भारतीय फौज के जवानों की हत्याओं, मासूम बच्चियों से बलात्कार की घटनाओं, सेना पर घाटी के बेरोजगारों द्वारा पत्थराव की हिंसक वारदातों का ठीकरा भले ही अपनी सहयोगी रही पार्टी पी.डी.पी. पर फोड़ती नजर आ रही हो मगर वह भी उतनी ही जिम्मेदार है जितनी कि पी.डी.पी.। क्योंकि भाजपा जम्मू कशमीर में पी.डी.पी. के साथ 40 महीनों तक शासन में रहे हैं और इस दौरान घाटी में जो कुछ भी घटित हुआ उसकी पहले से जानकारी दोनों पार्टियों के नुमाइंदों को रही है। यह भी सौलहां आने सच है कि इस कथित अपवित्र गठबंधन को लेकर पूरे देश की जनता में भी घोर नाराजगी व्याप्त थी, खास कर उन घटनाओं को लेकर जिसमें सीमापार तथा घाटी से आतंकी आये दिन हमारे फौजियों की हत्याएं कर रहे थे और तत्कालीन भाजपा-पीडीपी सरकार सिवाये श्रद्धांजलि के फूलों के और कुछ करते नजर नहीं आ रहे थे। और तो और घाटी के युवाओं द्वारा आतंकियों को बचाने के लिए भारतीय फौज पर नौकीले पत्थरों की बरसात पर केंद्र में सत्तारूढ़ भाजपा सिवाय इस की मुखालफत के कोई ठोस कदम नहीं उठा पा रही थी क्योंकि एक ओर उसे जम्मू काशमीर में पीडीपी के साथ गठबंधन धर्म निभाना था तो दूसरी ओर सत्ता का सुख भी भोगना था, उक्त आरोप केंद्र में भाजपा की विपक्षी पार्टी कांग्रेस और उसके अन्य सहयोगी दल लगा रहे हैं। दूसरी ओर भाजपा के नेता इन आरोपों का सिरे से खंडन करते हैं। उन घटनाओं को भी नहीं झुठलाया जा सकता जो भाजपा और पीडीपी के बीच आपसी विरोधाभास का बड़ा कारण बन कर उभरीं। भारतीय फौजों द्वारा आतंकियों के सफाये को लेकर शुरु किया गया आॅपरेशन आॅलआउट भी भाजपा और पी.डी.पी. की रजामंदी से शुरु हुआ मगर बाद में यह मतभेद का कारण भी बना। केंद्र सरकार ने रमजान के दौरान आॅपरेशन आॅल आउट बंद रखा मगर इसके खत्म होते ही आपरेशन आॅल आउट फिर से शुरू कर दिया, जबकि पीडीपी इसे आगे के लिए बंद करने पर जोर दे रही थी। इससे तनाव और गहरा गया। कठुआ में नाबालिक बच्ची के साथ दुष्कर्म व हत्या के मामले में भाजपा व पीडीपी पहले तो मौन रहीं मगर बाद में एक दूसरे के आमने-सामने आ गई। भाजपा नेताओं ने आरोपियों के समर्थन में रैली भी निकाली पर इस मामले में पीडीपी आरोपियों के खिलाफ कड़ा रुख अपनाए थीं। मेजर गगोई के मामले ने भी दोनों पार्टियों के बीच बाद में बोन आॅफ कंटेंशन बढ़ा दिया। सेना के मेजर गोगोई ने पत्थरबाजों के जवाब में स्थानीय नागरिक फारुख अहमद डार को जीप के बोनट पर बांध कर घुमाने के मामले में भी भाजपा व पीडीपी आमने सामने आ गई थी। सेना ने गगोई को इनाम दिया था और दूसरी तरफ राज्य सरकार ने गोगोई के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी। महबूबा मुफ्ती की पूरी कोशिश थी कि शांति बहाली के लिए अलगाववादी संगठन हुर्रियत के साथ बातचीत की जाए। जबकि भाजपा का हुर्रियत को लेकर रुख एकदम कड़ा रहा है। दोनों के बीच विवाद निपटाने व समाधान के लिए केंद्र ने वातार्कार के रूप में दिनेश्वर शर्मा को जम्मू कश्मीर में भेजा था। अनुच्छेद 370 को लेकर भी दोनों पार्टियों में सहमती नहीं बनी और दोनों आमने सामने हो गईं। जहां यह भाजपा का यह चुनावी और कोर मुद्दा था, वहीं पीडीपी इसके लिए कतई तैयार नहीं थी। ऐसे में यह ठंडे बस्ते में रहा, लेकिन भाजपा व संघ को इससे दिक्कतें हो रही थीं।
इतना ही नहीं दोनों पार्टियों के बीच इन वैचारिक मतभेदों की खाई कुछ अर्से बाद गहराने लगी थी। यह एक बार फिर सामने तब आ गई जब सी एम महबूबा मुफ़्ती ने कश्मीर में जारी खून-खराबे का दौर खत्म होने के लिए पाकिस्तान से बातचीत शुरू होने की वकालत की। लेकिन इसी दिन भारत की रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने पाकिस्तान को जम्मू-कश्मीर में चरमपंथ को भड़काने की कोशिश करने पर परिणाम भुगतने की चेतावनी दी है। महबूबा और निर्मला सीतारमण की ओर से आए ये दो विरोधाभासी बयान बीती 10 फरवरी को जम्मू में सेना के एक कैंप पर फिदाइन हमले के बाद आए थे। रोहिंग्या की वजह से जम्मू आर्मी कैंप पर हमले होते रहे हैं, इसका हवाला स्वयं जम्मू काश्मीर में तत्कालीन विधान सभा के स्पीकर ने दिया था। इस हमले में सेना के छह जवानों समेत 10 लोगों की मौत हुई थी। सेना और पुलिस के मुताबिक, इस हमले को मसूद अजहर के नेतृत्व में चल रहे चरमपंथी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने अंजाम दिया था। श्रीनगर में दिन दहाड़े आतंकवादियों द्वारा पत्रकार शुजात बुखारी की हत्या से भाजपा की दिक्कते बढ़ने लगी थी। यह एक ऐसा कारण बना, जिसकी आड़ में भाजपा को अलग होने का मौका मिला। पांच दिनों में भी हत्यारों तक पुलिस की पहुंच न होने से भाजपा ने मुख्यमंत्री पर सवाल भी खड़े किए हैं। जहां एक ओर भाजपाई कशमीर में भाजपा और पीडीपी गठबंधन को पीडीपी की वजह से तोड़ने की मजबूरी गिना रहे हैं तो वहीं राजनीति के विशेषज्ञ इसे भाजपा की आगामी लोकसभा चुनावों को लेकर जानबूझ कर सोच समझ कर खेली चाल का मुखौटा पहना रहे हैं।
जानकारों के मुताबिक जम्मू काशमीर में अब इतना सब कुछ होने के बाद भाजपा के लिए पी.डी.पी.सांप के मुंह में छिपकली से ज्यादा और कुछ न था। गर भाजपा पीडीपी को छोड़ती तो कलंकी कहलाती और यद्यपि न छोड़ती तो कुष्ठ रोगी। भाजपा को आखिरकार पीडीपी को छोड़ने का फैसला लेना ही पड़ा। भाजपा एक जम्मू काशमीर की खातिर आगामी लोक सभा चुनावों में पूरे देश का हिंदू नाराज करने का जोखिम नहीं उठा सकती थी। भाजपा गर अब पी.डी.पी. का साथ न छोड़ती तो वह अपने पहले से आजमाये जा चुके हिंदुत्व के एजेंडे के सहारे दुबारा सत्ता में काबिज होने के सपने न देख पाती इसके जरिये भूतकाल में अटल बिहारी वाजपेयी केंद्र में सरकार बनाने में कामयाब हुए थे। इस में कोई दो राय नहीं कि भाजपा आगामी लोक सभा चुनाव 2019 में राम मंदिर मुद्दे को खूब अच्छी तरह से भुनाने का मन बना चुकी है। यह भी हो सकता है कि ऐन चुनावों से पहले भाजपा उत्तर प्रदेश में राम जन्म भूमि पर राम लला के मंदिर का निर्माण शुरु करवा दे और इसका ढोल आगामी लोक सभा चुनावों में जोर शोर से पीटे ताकि कि देश के सारे हिंदुओं को दुबारा से एक मंच पर ला खड़ा करने की कोश्शिों में कामयाबी हासिल की जा सके। याद रहे राम लला की कृपा से ही भाजपा लोक सभा में चंद सीटों से बहुमत में आने में कामयाब हुई है। वह इसे इतनी आसानी से नहीं गंवाना चाहती। केंद्र में भाजपा के करिश्मयी नेता नरेंद्र मोदी तथा पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने लोक सभा चुनाव 2014 में जहां एक ओर तत्कालीन बैकफुट पर चल रही कांग्रेस को भ्रष्टाचार, मंहगाई के मुद्दों पर घेरा था तो दूसरी ओर देश के हिंदुओं को राम जन्म भूमि स्थल पर राम मंदिर बनवाने का विश्वास भी दिलाया था जो भाजपा के अब तक के चार वर्षों के कार्याकाल में पूरा नहीं हो सका है। दूसरी ओर समूचे भारत में एंटी-इन्कंबेसी का दंश झेल रही भाजपा आज स्वयं उन्हीं आरोपों से घिरी है जिन को लेकर वर्ष 2014 के चुनावों में इसने कांग्रेस को टारगेट किया था। मंहगाई, नोटबंदी, जी.एस.टी., बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, महिलाओं की सुरक्षा जैसे मुद्दे केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार की फजीहत का कारण बन रहे हैं। जिसके चलते पूरे देश में भाजपा विरोधी लहर बनती जा रही है। इस का ज्वलंत उदाहरण हाल ही में कर्नाटका विधान सभा चुनावों में देखने को मिला है। इतना ही नहीं भाजपा सत्ता के दौरान अपने नेशनल डेमोक्रेटिक अलायंस में नये घटक दल जोड़ कर इसे मजबूत बनाना तो दूर बल्कि पुराने पहले से जुड़े घटक दलों को अपने साथ रखने में भी असफल रही है। नतीजा बिहार में राजद के नतीश कुमार, पंजाब में शिरोमणि अकाली दल बादल, महाराष्ट्र में शिव सेना और सत्ता का स्वाद चख रहे राम बिलास पासवान सब भाजपा के खिलाफ समय समय पर टिप्पणीयां करने से बाज नहीं आते और अपने मन की मंशा को अप्रत्यक्ष रूप से जगजाहिर करते रहते हैं। ऐसा नहीं है कि भाजपा पर आक्रमण बाहर से ही हो रहे हों, लंबे अर्से से हाशिये पर पड़े भाजपा के वयोवृद्ध नेता और उनके सहयोगी केवल मौके की फिराक में हैं कि कब भाजपा के करिशमयी नेता नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह नरम पड़े वे पूरे जोर से आक्रमण कर पार्टी को अपने वजूद का एहसास करवा सकें। पिछले कुछ अर्से से भाजपा ने हालांकि तीन तलाक जैसे मुद्दों के जरिए मुस्लमानों की पोलराइजेशन करने की कोशिश की थी जिसमें पार्टी नाकाम रही है, पार्टी को इसका कोई खास फायदा तो नहीं हुआ उल्टा पार्टी के साथ जुड़े हिंदुओं ने भी इससे किनारा करना शुरु कर दिया। केंद्र सरकार की कुछ नीतियों के चलते पार्टी के खिलाफ दलित भी एक जुट होना शुरु हो गये थे। इन हालातों में भाजपा के लिए यह जरूरी हो गया था कि वह राष्ट्रीय स्तर पर कोई ऐेसा संदेश दे जिससे देश के बहुल हिंदू दुबारा भाजपा के पक्ष में आ खड़े हों। इसके लिए पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को लगा कि उसे सबसे पहले अपने ऊपर पी.डी.पी. की सहयोगी पार्टी वाला टैग हटाना होगा। इसके लिए उसे जम्मू कशमीर की सत्ता के लोभ की बलि देनी होगी। जिसे अंतत: सोच समझ कर अमलीजामा पहनाया गया। जम्मू कशमीर में सरकार गिराने के बाद भी केंद्र की भाजपा अप्रत्यक्ष रूप से राष्ट्रपति शासन लगा कर जम्मू कशमीर को अपने अनुसार चला सकती है जो वह करने पर अमादा है।

बीजेपी-पीडीपी गठबंधन के टूटने पर कानून मंत्री रविशंकर ने कहा कि वे जम्मू और लद्दाख क्षेत्रों की उपेक्षा नहीं कर सक ते

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाला संविधान का अनुच्छेद 370 एक संवैधानिक व्यवस्था है और इसका उद्देश्य राज्य के लोगों का शेष भारत के साथ एकीकरण करना है। श्री प्रसाद ने कहा कि एकीकरण हो रहा है और आईएएस और रक्षा सेवाओं में कश्मीरी युवाओं का शामिल होना एक ‘नया नैरेटिव’ है। उन्होंने इस बात का भी खंडन किया कि बीजेपी ने जम्मू कश्मीर में गठबंधन सरकार से इसलिए सपोर्ट वापस लिया क्योंकि जम्मू और लद्दाख क्षेत्रों में उसका आधार घट रहा था और 2019 के चुनाव से पहले वह इसे दोबारा हासिल करना चाहती है? उन्होंने कहा कि यह आरोप अप्रासंगिक है। 2015 में दूसरा रास्ता फिर से चुनाव कराने का था क्योंकि कांग्रेस और नैशनल कॉन्फ्रेंस के हाथ मिलाने का सवाल ही नहीं था। मुफ्ती साहब इस जनादेश को समझते थे। फिर हमने कॉमन प्रोग्राम बनाया। इसमें जम्मू, लद्दाख से लेकर घाटी तक पूरे राज्य का विकास करने के साथ सुरक्षा सुनिश्चित करने की दो साफ बातें थीं। विकास पूरे राज्य का करना होगा। इससे भी अहम है कश्मीर की सुरक्षा। राजनीतिक लाभ के लिए सीमा पार के खतरे से नजर नहीं हटाई जा सकती है।

सपॉर्ट वापस लेने पर प्रसाद ने कहा कि जम्मू और लद्दाख क्षेत्र के विकास की उपेक्षा की गई। पुलिस और सशस्त्र बलों के बीच तालमेल की कमी थी। सुरक्षा बल भी नहीं चाहते थे और हम भी इसके पक्ष में नहीं थे, लेकिन एक महीने के लिए हम सीजफायर पर राजी हुए। उस दौरान क्या हुआ? शुजात बुखारी और औरंगजेब की हत्या। एडिटर्स गिल्ड को छोड़ दें तो मानवाधिकारों पर आवाज उठाने वाले मेरे सभी सेक्युलर और लिबरल दोस्तों ने बुखारी और औरंगजेब की हत्या पर चुप्पी साध ली। इंसानियत की जब तक सुरक्षित नहीं किया जाएगा, तब तक वह स्थायी नहीं हो पाएगी।
पहला कारण तो आतंकवादियों को कुचलने की इच्छाशक्ति का था। उन्होंने कहा कि हम पूरे जम्मू कश्मीर का विकास चाहते हैं। आतंकवादियों से कड़ाई से निपटना होगा। गवर्नर रूल परमानेंट नहीं हो सकता है। उन्होंने आप्रेशन आॅलआउट पर भी कहा कि हमने पहले ऐसा क्या था, लेकिन रमजान सीजफायर के दौरान नहीं हो पाया। मैंने आपको पर्याप्त संकेत दे दिए हैं। सुरक्षा बलों के मनोबल पर असर डालने वाले किसी भी प्रत्यक्ष या परोक्ष प्रयास को नियंत्रित करना ही होगा। प्रसाद ने कहा, ‘सुरक्षा से समझौता नहीं कर सकते’। इन कारणों से जम्मू-कश्मीर में टूटा बीजेपी-पीडीपी गठबंधन
अब बीजेपी और कांग्रेस के दूसरे पर राजनीतिक रोटियां सेकने का आरोप लगाते हुए कीचड़ उछालने पर लगे हैं। प्रसाद ने आरोप लगाया कि गुलाम नबी आजाद और सैफुद्दीन सोज यह सब राहुल गांधी के कहने पर कह रहे हैं। राहुल जेएनयू कैंपस में गए थे और उन लोगों के साथ खड़े हुए थे, जिन्होंने भारत तेरे टुकड़े होंगे के नारे लगाए थे। आजाद सीएम रहे हैं और उन्हें आतंकवादियों की हरकतों का अच्छा अनुभव है। यह जो नए आजाद हैं, उन्हें उनके प्रेसिडेंट राहुल गांधी सिखा रहे हैं। या हो सकता है कि वह अपने नए अध्यक्ष की गतिविधियों में अपना वजूद बचाने की कोशिश कर रहे हों।
अपने सहयोगी दलों बीजेपी के नेता ने कहा कि गठबंधन पर हमारा विश्वास है, तभी तो यह एनडीए है। अब भी करीब एक दर्जन दल हमारे साथ हैं। दूसरे भी हमसे जुड़ रहे हैं। हमारे खिलाफ कौन है? यूपीए या थर्ड या फोर्थ फ्रंट का लीडर कौन है? हमने समानता के साथ देश का विकास किया है। वे क्या देंगे? वे लोग दो साल से ज्यादा एक-दूसरे से दूर नहीं रह सकते और एक साल से ज्यादा एकजुट नहीं रह सकते।


cdadmin

Editor in Chief of City Darpan, national hindi news magazine.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *