कांग्रेस से मांगे धनखड़ ने जवाब 
हरियाणा के कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने सुरजेवाला के सवालों पर बोला हमला : कहा जो आज किसान हितैषी होने का दम भर रहे हैं, क्या कभी किसानों के घर में एक साथ दिए 33,500 करोड़ रुपये 
चंडीगढ़, 14 जुलाई- हरियाणा के कृषि मंत्री श्री ओम प्रकाश धनखड़ ने आज कांग्रेस के प्रवक्ता श्री रणदीप सुरजेवाला के सवालों पर हमला बोलते हुए कहा कि रणदीप सुरजेवाला और उनकी कांग्रेस पार्टी ये बताए कि वे सात साल तक फसलों का लाभकारी मूल्य देने की किसान आयोग की रिपोर्ट क्यों दबाये बैठी रही?
श्री धनखड़ महेंद्रगढ़ में 21 जुलाई को होने वाली किसान रैली के सिलसिले में आज रेवाड़ी में पार्टी के कार्यकर्ताओं, पदाधिकारियों, विधायकों के साथ बैठक करने के बाद मीडिया से बातचीत कर रहे थे। 
उन्होंने कहा कि जो आज किसान हितैषी होने का दम भर रहे हैं, क्या उन्होंने कभी भी देश के किसानों को फसलों के भाव के रूप मे एक मुश्त 33,500 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी दी ? उन्होंने कहा कि वर्ष 1965 से बना कृषि मूल्य आयोग, 1980 से कृषि लागत व मूल्य आयोग के आकलन के मानदंडों में किसानों का लाभ क्यों नहीं जोड़ा गया? उन्होंने कहा कि शमशेर सिंह सुरजेवाला कांग्रेस के किसान सैल के वर्षों तक अध्यक्ष रहे और कांग्रेस से ही रहे, परन्तु ये सब नहीं करवा पाए। 
धनखड़ ने कहा कि आज किस मुंह से रणदीप सुरजेवाला किसानों के हमदर्द बनने का प्रयास कर रहे हैं। कृषि मंत्री श्री ओम प्रकाश धनखड़ ने कहा कि कांग्रेस हमेशा एमएसपी पर ही अटकी रही और उसने क्यों नहीं एमएसपी को प्रॉफिटेबल बनाया। उन्होंने कहा कि देश में छ: दशक तक राज करने वाली कांग्रेस पार्टी ने किसानों के हित में कभी इतना बड़ा फैसला नहीं लिया, जितना भाजपा की सरकार ने अपने इस कार्यकाल में लिया है। 
कांग्रेसी नेता रणदीप सुरजेवाला द्वारा उठाये गए सवालों पर प्रहार करते हुए उन्होंने तीन सवाल दागे। उन्होंने कहा सुरजेवाला सहित कांग्रेस को ये जवाब देना चाहिए कि देश में इतने वर्ष तक शासन करने वाली कांग्रेस आज तक एमएसपी को प्रॉफिटेबल बनाकर क्यों लागू नही कर सकी। श्री धनखड़ ने कहा कि सम्मानीय शमशेर सिंह सुरजेवाला, जो रणदीप सुरजेवाला के पिता हैं, लम्बे समय तक किसान सैल के प्रमुख रहे हैं। रणदीप सुरजेवाला इस बात का जवाब दें कि किसानों को सभी फसलों के अच्छे दाम क्यों नहीं दिलवा पाए। 
कृषि मंत्री श्री ओम प्रकाश धनखड़ ने कहा कि वर्तमान मोदी सरकार ने एक मुश्त किसानों के घर में 33 हजार 500 करोड़ भेजने का काम किया है। सभी फसलों के अच्छे दाम मिलें इसे सुनिश्चित किया है। स्वामीनाथन की रिपोर्ट से अधिक किसानों को देने का काम किया है। उन्होंने यह भी कहा कि फसलों की पैदावार के हिसाब से किसानों के हित में कदम उठाए हैं, जिससे किसान प्रसन्न हैं। बाजरे का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि बाजरे के दाम 96 प्रतिशत वृद्धि से किसानों के यहां खुशहाली आएगी।
Categories: Uncategorized

cdadmin

Editor in Chief of City Darpan, national hindi news magazine.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *