विपक्ष एसवाईएल, स्वामीनाथन और जातिगत के नाम पर समाज में दुराब पैदा करने के लिए आपको बरगलाएगा, लेकिन आप लोगों को सजग रहना और एक चौंकीदार के रूप में भागीदार की भूमिका अदा करनी है: मनोहर लाल

Share this News:


विपक्ष एसवाईएल, स्वामीनाथन और जातिगत के नाम पर समाज में दुराब पैदा करने के लिए आपको बरगलाएगा, लेकिन आप लोगों को सजग रहना और एक चौंकीदार के रूप में भागीदार की भूमिका अदा करनी है:  मनोहर लाल

चण्डीगढ़, 22 जुलाई: हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि आज विपक्ष एसवाईएल, स्वामीनाथन और जातिगत के नाम पर समाज में दुराब पैदा करने के लिए आपको बरगलाएगा, लेकिन आप लोगों को सजग रहना और एक चौंकीदार के रूप में भागीदार की भूमिका अदा करनी है। आप सभी जानते है कि किस प्रकार से विपक्ष ने रोहतक में घिनौना कार्य करवाया है।

मुख्यमंत्री आज शाहबाद मारकंडा में सूरजमुखी, धान किसान धन्यवाद रैली में प्रदेश के विभिन्न जिलों से आए हुए किसानों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने विपक्ष पर हमला करते हुए कहा कि पहले नौकरियां पर्ची सिस्टम से दी जाती थी, लेकिन हमनें यह सिस्टम खत्म किया और आज तक 26 हजार नियुक्तियां हो चुकी है और किसी ने भी यदि इन नियुक्तियों के दौरान कोई पैसा लिया हो तो वे उन्हें बताएं, उस पर कार्रवाई की जाएगी।

उन्होंने कहा कि देश की प्रगति और विकास के लिए जीडीपी बढ़ानी होगी और वर्तमान में हरियाणा की जीडीपी 8.2 है, जबकि राष्टï्रीय जीडीपी 7.8 है। उन्होंने कहा कि राष्टï्र की प्रगति के लिए हरियाणा की जीडीपी हम 10 तक लेकर जाएंगे।

        उन्होंने किसानों को सम्बोधित करते हुए कहा कि इस क्षेत्र में किसानों की सूरजमुखी फसल को लगातार खरीदा जाएगा और शाहबाद की मंडी में किसानों का एक-एक दाना खरीदा जाएगा। उन्होंने कहा कि यदि सूरजमुखी की फसल किसी कारणवश कोई नहीं खरीदता है तो सूरजमुखी से बनने वाले घी और तेल को बनाने वाले कारखानों को लगाने का भी प्रावधान करेंगे। उन्होंने कहा कि बाजरा, मक्का,धान,दाले इत्यादि फसलें खरीदी जाएंगी।

        मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें दक्षिण  हरियाणा में पानी पहुंचाना है क्योंकि दक्षिण हरियाणा में पानी की कमी है। इसलिए हमेंं चाहिए कि हम जीरी को ना बो कर कोई अन्य फसल को बोएं जिसमें पानी की लागत कम होती है। उन्होंने किसानों से रूबरू होते हुए कहा कि केन्द्र सरकार ने न्यून्तम समर्थन मूल्य इस अनुसार फसलों का बढ़ाया है कि यदि आप कोई भी फसल पैदा करते है तो उसकी लागत में ज्यादा अंतर नहीं आएगा अर्थात लगभग एक सामान और लाभ बराबर मिलेगा। इसलिए हमें पानी कम लेने वाली फसलों को उगाना चाहिए जिससे पानी की बचत होगी।

        उन्होंने कहा कि आज कल सब्जी उगाने वाले किसान लाभ ज्यादा कमाते है और अब तो सब्जी उगाने में जो लागत ना मिलने का खतरा था वह भी समाप्त हो चुका है। राज्य सरकार द्वारा एक बहुमुखी भावांतर भरपाई योजना लाई गई है। जिसमें लाभ तो किसान का होगा और घाटा सरकार का होगा। इस प्रकार की योजना पहली बार आई है। उन्होंने कहा कि हमनें प्रधानमंत्री को कहा है कि यह योजना अन्य राज्यों में भी लागू हो, लेकिन पहले इसके सफल परिणाम प्राप्त हो जाए। उन्होंने उमीद जताते हुए कहा कि इस योजना की हर प्रदेश नकल करेगा।

        मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री द्वारा किसानों को दिए गए लाभकारी मूल्य की चर्चा करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने एक प्रकार से एक पंथ कई काज का काम किया है। इसमें भाव भले ही किसान की उपज का बढ़ाया गया है, लेकिन इससे देश और प्रदेश के साथ-साथ समाज में खुशहाली आएगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने उस व्यवसाय को सम्मानित किया है जो देश में सबसे ज्यादा किया जाता है। उन्होंने कहा कि यदि इस वर्ग में खुशहाली आएगी तो किसान के साथ-साथ खेती हर मजदूर, औजार बनाने वाले कारीगर के अलावा आढ़ती, छोटे दुकानदार व बड़े दुकानदारों का इसका सीधा लाभ मिलेगा। क्योंकि जब किसान को लाभकारी मूल्य प्राप्त होगा तो वह अपने जीवन स्तर को ऊंचा करने के लिए विभिन्न सुख सुविधाओंं के लिए खर्च करेगा, जिससे उसकी क्रय शक्ति बढ़ेगी और इस क्रय शक्ति बढऩे से अन्य उद्योग भी खड़े होंगे।

        उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने उद्योगों को आकर्षित करने के लिए इज ऑफ डूईंग बिजनैस में सुधार किया है और आज हरियाणा उत्तर भारत के राज्यों में नम्बर एक पर है। जबकि वर्ष 2014 में हरियाणा 14वें स्थान पर था। उन्होंने कहा कि इस उपलब्धि के कारण देश और दुनिया के निवेशक उत्तर भारत में हरियाणा में निवेश करना चाहते है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में यदि उद्योग लगेंगे तो बेरोजगारों को रोजगार भी प्राप्त होगा।

        मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान सरकार ने विभिन्न विकास कार्य करवाएं है और पिछले साढ़े तीन साल में इतने विकास कार्य करवाएं है कि अबतक आई किसी भी सरकार ने इस अवधि के दौरान इतने विकास कार्य नहीं किए बल्कि उनकी सरकार ने पिछली सरकारों के अधूरे पड़े कामों को भी पूरा करवाया है। उन्होंने लोगों से सवांद स्थापित करते हुए कहा कि आप सभी जानते है कि एनएच एक पर कितने अंडर पास और पुल अधूरे थे जिन्हें पूरा किया गया है। इसी प्रकार वर्ष 2014 में पिछली सरकार एएमपी के काम को अधूरा छोडक़र चली गई थी। जिसे इस सरकार ने बड़ी सवेंदना के साथ लिया और उस पर कार्रवाई करते हुए काम करवाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार ने व्यवस्था परिवर्तन पर भी काम किया है और आज यही कारण है कि ई-दिशा, अन्तोदय सेवा केन्द्र और ग्राम सचिवालय खोले गए है, जिनके माध्यम से लोगों को तेजी से सेवाएं उपलब्ध करवाई जा रही है।

        उन्होंने कहा कि सरकार ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं अभियान की शुरूआत की और आज इस शुरूआत के कारण लिंगानुपात 922 तक पहुंच गया है। उन्होंने कहा कि सरकार ने स्वच्छता,जल सरंक्षण इत्यादि पर काम किया है। उन्होंने कहा कि हमनें हरियाणा एक हरियाणवी एक का नारा दिया है ताकि सबका साथ सबका विकास हो सके। उन्होंने कहा कि उज्ज्वला योजना को भी केन्द्र सरकार द्वारा शुरू किया गया जिसके तहत हरियाणा में पांच लाख गैस कनैक् शन को जारी किया गया। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने उपस्थित जनसमूह से सवांद करते हुए कहा कि जिनके पास गैस सिलेण्डर नहीं है वे लोग हाथ खड़ा करे। इस पर तीन लोगों ने हाथ खड़ा किया तो उन्होंने तुंरत उपायुक्त व सम्बन्धित एसडीएम को निर्देश दिए कि इनको 48 घंटे के भीतर गैस का कनैक् शन मिल जाना चाहिए।

        मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा एक परिवार है और हम सभी विधानसभा में समान विकास कर रहे है। उन्होंने कहा कि राज्य के प्रत्येक गांव में शमशान घाटों की दशा सुधारी जा रही है और इसके लिए 750 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे और अगले छ:माह के भीतर इन शमशान घाटों में चार दिवारी, शैड, पीने का पानी इत्यादि की सुविधाएं होंगी। इसी प्रकार राज्य के 14 हजार तलाबों की व्यवस्था ठीक करने के लिए भी कार्य किया जा रहा है ताकि भू-जल स्तर ठीक रहे।        

        मुख्यमंत्री ने कहा कि आज सात कार्यों  की मांग की गई है लेकिन उनका कहना है कि इन कार्यों की व्यवाहरिता रिपोर्ट करवाई जाएगी और यदि यह सब काम करवाने वाले होंगे तो काम पूरे करवाएं जाएंगे। उन्होंने शाहबाद में पडऩे वाले चार पुलों के निर्माण व सुदृढीकरण के लिए 50 करोड़ रुपए की राशि की घोषणा भी की।

        भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष एवं विधायक श्री सुभाष बराला ने कहा कि हमें प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री का दिल की गहराईयों से आभार व्यक्त करना चाहिए जिन्होंने फसलों के दाम बढ़ाने का काम किया है। उन्होंने कहा कि किसानों के उत्थान के लिए चौधरी छोटू राम, चौधरी चरण सिंह, चौधरी देवी लाल और महेन्द्र सिंह टिकैत ने आवाज उठाई लेकिन किसानों को लाभकारी मूल्य नहीं मिल पाएं और उनकी कर्ज से मुक्ति नहीं हुई। उन्होंने कहा कि कई नेता आएं और चले गए लेकिन किसानों को लाभकारी मूल्य नहीं दिलवा सके। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में सालों-साल से चले आ रहे इस संघर्ष को समाप्त करते हुए लाभकारी मूल्य देने का काम किया है और यह मांग 70-80 साल के बाद पूरी हुइ है। उन्होंने उपस्थित किसानों से आह्वïान करते हुए कहा कि हमें इस लाभकारी मूल्य की जानकारी सभी किसानों व एक-एक व्यक्ति को देनी चाहिए तभी किसानों को लाभ मिलेगा।

        श्री बराला ने कहा कि पिछली सरकारों के दौरान किसान की फसल खराब होने पर 2 से 4 रुपए तक के चैक दिए जाते थे। लेकिन स्वामीनाथन में 10 हजार रुपए प्रति एकड़ के मुआवजे की सिफारिश की गई थी, लेकिन मोदी सरकार ने 12 हजार रुपए प्रति एकड़ मुआवजा देने का काम किया है। इसी प्रकार वर्तमान सरकार फसल बीमा योजना लेकर आई है जबकि पहले केवल बाते ही की जाती थी और इस योजना के तहत हरियाणा के किसानों को 3 हजार करोड़ रुपए मिले है। 

                इससे पहले हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री ओपी धनखड़ ने कहा कि रबी की फसलों के दाम डेढ़ गुणा बढ़ाकर देने से हर क्षेत्र के किसान की जेब भरेगी। प्रधनमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश भर के जवानों को पहले वन रैंक वन पेंशन और अब किसानों को डेढ़ गुणा दाम देकर जय जवान-जय किसान को सही मायने में सार्थक साबित किया है।  कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने इस अवसर पर रैली में प्रधानमंत्री के आभार का प्रस्ताव रखा जिसे रैली में उमड़े जनसमूह ने खड़े होकर तालियां बजाकर आभार प्रस्ताव का समर्थन किया। इस अवसर पर धनखड़ ने कहा कि पचास प्रतिशत के फार्मूले ने किसानों के लिए आर्थिक आजादी के द्वार खोल दिए हैं। जिसका लाभ सभी किसानों को मिलेगा।

        हरियाणा के कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने आज शाहबाद में आयोजित किसानों सूरजमुखी रैली में प्रधानमंत्री का आभार जताया।  कृषिमंत्री औमप्रकाश धनखड़ द्वारा रखे गए प्रस्ताव का रैली में जनता ने जोरदार तरीके से समर्थन किया।

कृषि मंत्री ने कहा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने किसानों के कल्याण के लिए हर योजना को लागू कर सराहनीय कार्य किया है। हरियाणा के कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा कि सूरजमुखी की फसल पर किसानों के लिए एक मुश्त 1288 प्रति किवंटल करके किसानों की जेब भरने का काम किया है। यदि यही काम पिछली सरकारों की गति से चलते तो इतनी बढ़ोतरी होने में   12 साल  लग जाते।

        धनखड़ ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी सरकार ने किसानों को पचास प्रतिशत का फ़ार्मूला तय किया है जो कि भविष्य को सुरक्षित करने वाला है। अब चाहे कोई भी सरकार हो किसानों को इस हिसाब से बढ़ोतरी मिलेगी ही। उन्होंने इसे आर्थिक आजादी  बताते हुए कहा कि इस दिशा में दशकों तक राज करने वाली कांग्रेस सरकार ने कभी किया।

        उन्होंने कहा कि वे स्वयं किसान मोर्चा के अध्यक्ष के नाते देश भर स्वामीनाथन रिपोर्ट लागू करवाने के लिए मांग करते थे। कांग्रेस ने कभी इस रिपोर्ट की धूल भी नहीं झाड़ी। जबकि मोदी सरकार ने अपने वादे के अनुसार इस रिपोर्ट से बढक़र किसानों को दिया है। उन्होंने कहा कि हम किसानों की आय को दुगना करने के फार्मूले पर काम कर रहे हैं। योजनाओं को मूर्त रूप दे रहे हैं। किसानों को उद्यमशील बना रहे हैं। किसानों को खेती के लिए नई तकनीक उपलब्ध करवा रहे हैं। जिसका किसानों को भरपूर फायदा मिल रहा है।

        इस मौके पर हरियाणा के श्रम एवं रोजगार मंत्री श्री नायब सैनी ने कहा कि पिछले 70 सालों से किसानों का शोषण होता रहा, लेकिन प्रधानमंत्री ने लाभकारी मूल्य देकर किसानों का सम्मान किया है। उन्होंने कहा कि पिछली सरकारें किसानों का वोट लेने का काम करती रही, लेकिन इस प्रकार से किसी ने उनका सम्मान नहीं किया। उन्होंने विपक्ष पर हमला करते हुए कहा कि आज उनके पास कोई मुद्दा नहीं बचा है, इसलिए वे कभी रथ पर बैठकर बातें करते है तो कभी एसवाईएल का मुद्दा उठाकर किसानों को गुमराह करते है। लेकिन एसवाईएल के मुद्दे पर हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने ठीक प्रकार से पैरवी करवाई है। उन्होंनेे मांग करते हुए कहा कि किसानों का लाभकारी मूल्य देने के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को किसान रत्न से नवाजा जाना चाहिए।

        हरियाणा के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्यमंत्री श्री कृष्ण बेदी ने मुख्यमंंत्री व अन्य अतिथियों के साथ-साथ किसानों का स्वागत करते हुए कहा कि सूरजमुखी की खरीद के लिए इस इलाके का किसान सरकार का सदा श्रृणी रहेगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सत्ता में आते ही यूरिया और नीमकोटिड़ यूरिया को खुले बाजार में बेचने का काम किया। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में पिछले चार साल से पूर्ण रूप से बिजली आ रही है, जबकि पहले लोग बिजली के लिए जाम लगाया करते थे। उन्होंने कहा कि शाहबाद में 1500 करोड़ रुपए के विकास कार्य चल रहे है। उन्होंने कहा कि हिसार के मिर्चपुर से निकाले गए लोगों को इस सरकार ने विश्वास देने का काम किया है और ढ़ंढूर में साढ़े नौ एकड़ भूमि पर उन्हें बसाने का कार्य किया है। इसी प्रकार पहले सफाई कर्मचारियों का शोषण किया जाता था, लेकिन इस सरकार ने आते ही ठेका प्रथा को समाप्त किया और आज उन्हें 8100 रुपए से बढ़ाकर 13500 रुपए देने का काम किया है। इसी प्रकार वर्दी भत्ता भी दिया जा रहा है।

        रैली के दौरान इनेलो और बीएसपी पार्टी छोडक़र विभिन्न सरपंच भाजपा में शामिल हुए। रैली में विधायक डा. पवन सैनी ने आए हुए अतिथियों व जनसमूह का धन्यवाद ज्ञापित किया। रैली के दौरान मुख्यमंत्री, मंत्री, विधायक व अन्य अतिथियों व पदाधिकारियों को सूरजमुखी, धान की थैली तथा शॉल व हल देकर सम्मानित किया।

        इस अवसर पर विधायक बलवंत, विधायक श्याम सिंह राणा, विधायक सुभाष सुधा के साथ-साथ अन्य लोगों ने भी सम्बोधित किया। इस मौके पर विधायक ज्ञानचंद गुप्ता, विधायक घनश्याम अरोड़ा, प्रदेश किसान मोचा्र के अध्यक्ष समय सिंह भाटी, भाजपा नेत्री बंतों कटारिया, भाजपा जिलाध्यक्ष धर्मबीर मिर्जापुर, बलदेव चावला, वेदपाल, मदन चौहान, गुरदयाल सिंह, रामेश्वर चौहान तथा अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

Share this News:

Author

Editor in Chief of City Darpan, national hindi news magazine.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *