मुख्यमंत्री ने विभिन्न जनपदों के लिए शासन की प्राथमिकता एवं विकास कार्यक्रमों के अनुश्रवण एवं स्थलीय निरीक्षण हेतु नामित नोडल अधिकारियों को सम्बोधित किया
 
मुख्यमंत्री ने शासन की प्राथमिकताओं एवं विकास कार्यक्रमों को जनसामान्य तक पहुंचाने के निर्देश दिए
 
प्रदेश के विभिन्न जनपदों के लिए नामित नोडल अधिकारी विकास कार्यक्रमों के अनुश्रवण और उनके स्थलीय निरीक्षण की कार्यवाही प्रत्येक माह की जाए
 
सभी अधिकारी पूरी संवेदनशीलता के साथ जनसमस्याओं का प्रभावी निराकरण सुनिश्चित करें: मुख्यमंत्री
 
नोडल अधिकारी अपने से सम्बन्धित जनपदों में प्रत्येक माह भ्रमण कर योजनाओं की समीक्षा एवं सत्यापन करें
 
बड़ी लागत की 02 परियोजनाओं के स्थलीय निरीक्षण के साथ-साथ कार्यालयों जैसे-थाना, तहसील, जिला चिकित्सालय, सी0एच0सी0, पी0एच0सी0, अन्य विभागों के जिला स्तरीय कार्यालय, स्थानीय निकाय व विकास खण्ड का निरीक्षण किया जाए
 
किसी एक ग्राम का भ्रमण व निरीक्षण सुनिश्चित किया जाए
 
निरीक्षण और भ्रमण के दौरान विशेष उल्लेखनीय तथ्यों और पायी गई कमियों के लिए दोषी अधिकारियों व 
कर्मचारियों के विरुद्ध कार्रवाई की जाए तथा सुधार के लिए विशिष्ट सुझावों का उल्लेख भी प्रस्तुत किया जाए
 
लखनऊ: 17 जुलाई, 2018: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने शासन की प्राथमिकताओं एवं विकास कार्यक्रमों को जनसामान्य तक पहुंचाने के निर्देश देते हुए कहा है कि प्रदेश के विभिन्न जनपदों के लिए नामित नोडल अधिकारी विकास कार्यक्रमों के अनुश्रवण और उनके स्थलीय निरीक्षण की कार्यवाही प्रत्येक माह किया जाना सुनिश्चित करें। यह सभी अधिकारी पूरी संवेदनशीलता के साथ जनसमस्याओं का प्रभावी निराकरण भी सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि शासन व जनपद की सभी प्रमुख परियोजनाओं, कार्यों व प्राथमिकताओं का समयबद्ध ढंग से क्रियान्यवन सुनिश्चित कराने तथा इन योजनाओं का लाभ जनता को उपलब्ध कराने में नोडल अधिकारियों की महत्वपूर्ण भूमिका है।
मुख्यमंत्री जी आज यहां शास्त्री भवन में विभिन्न जनपदों के लिए शासन की प्राथमिकता एवं विकास कार्यक्रमों के अनुश्रवण एवं स्थलीय निरीक्षण हेतु नामित नोडल अधिकारियों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सभी नोडल अधिकारी अपने से सम्बन्धित जनपदों में प्रत्येक माह भ्रमण कर योजनाओं की समीक्षा एवं सत्यापन सुनिश्चित करें। नोडल अधिकारियों द्वारा जनपदों में किए गए भ्रमण के दौरान पायी गई कमियों का जनपद स्तर पर ही समाधान कराया जाए। नोडल अधिकारियों की निरीक्षण आख्या में इंगित की गई कमियों व कठिनाइयों का सभी प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा शत-प्रतिशत समाधान व अनुपालन सुनिश्चित कराया जाए।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि नोडल अधिकारियों द्वारा जनपदों में भ्रमण कार्यक्रम प्रत्येक माह के दूसरे सप्ताह तक सम्पन्न किया जाए। इसके बाद उस माह के चैथे सप्ताह सम्बन्धित जनपद के प्रभारी मंत्री द्वारा भ्रमण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि शासन के सभी महत्वपूर्ण एजेण्डा बिन्दुओं की समीक्षा बैठक की जाए। बड़ी लागत की 02 परियोजनाओं के स्थलीय निरीक्षण के साथ-साथ कार्यालयों जैसे-थाना, तहसील, जिला चिकित्सालय, सी0एच0सी0, पी0एच0सी0, अन्य विभागों के जिला स्तरीय कार्यालय, स्थानीय निकाय व विकास खण्ड का निरीक्षण किया जाए। किसी एक ग्राम का भ्रमण व निरीक्षण भी सुनिश्चित किया जाए। इस निरीक्षण और भ्रमण के दौरान विशेष उल्लेखनीय तथ्यों और पायी गई कमियों के लिए दोषी अधिकारियों व कर्मचारियों के विरुद्ध कार्रवाई की जाए तथा सुधार के लिए विशिष्ट सुझावों का उल्लेख भी प्रस्तुत किया जाए।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि नोडल अधिकारियों द्वारा किए गए निरीक्षण की आख्या कार्यक्रम क्रियान्वयन विभाग के साथ-साथ मुख्यमंत्री कार्यालय में भी प्रेषित की जाए। उन्होंने कहा कि नोडल अधिकारी द्वारा उपलब्ध कराए गए फीडबैक को शासन स्तर पर गम्भीरता से लिया जाएगा। नोडल अधिकारी द्वारा दिए गए फीडबैक का समाधान तत्परता से कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि नोडल अधिकारी सम्बन्धित जिलाधिकारी से विचार-विमर्श कर भ्रमण कार्यक्रम निर्धारित करें।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि जनपद भ्रमण व निरीक्षण के दौरान विकास कार्यों की गुणवत्ता के साथ-साथ कार्य पूर्ण करने की समयबद्धता की समीक्षा भी अवश्य की जाए। उन्होंने कहा कि लम्बित परियोजनाओं पर विशेष ध्यान दिया जाए और यह देखा जाए कि यह परियोजनाएं अभी तक पूरी क्यों नहीं हुई हैं। कार्य में शिथिलता पाए जाने पर सम्बन्धित अधिकारी व कर्मचारी के विरुद्ध कार्रवाई की जाए।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि जनपद भ्रमण के दौरान अपराधों खासतौर पर महिला अपराधों के सम्बन्ध में की गई कार्यवाही, अनुसूचित जाति व जनजाति के विरुद्ध अपराध, यातायात व्यवस्था व नियमों के अनुपालन, डायल-100 के कार्यों व शिकायतों के सम्बन्ध में, कानून व्यवस्था की महत्वपूर्ण घटनाओं व त्योहारों की तैयारी, भू-माफियाओं के विरुद्ध कार्यवाही, राजस्व वादांे का निस्तारण, राजस्व विभाग की सेवाओं की स्थिति, बाढ़ व सूखा प्रभावित क्षेत्रों में राहत, तहसील समाधान दिवस, चकबन्दी वाद, आई0जी0आर0एस0, चिकित्सकों की उपस्थिति व दवाओं की उपलब्धता, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, संस्थागत प्रसव, टीकाकरण, वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम, छात्रवृत्ति एवं पेंशन योजना, 1090 व 181 महिला हेल्पलाइन, मनरेगा, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना, अमृत व स्मार्ट सिटी योजना, सड़कों व सेतुओं का निर्माण, नमामि गंगे, छात्रों को पुस्तकंे व यूनिफार्म वितरण, विद्युत आपूर्ति, कृषि योजनाएं, प्रधानमंत्री आवास योजना, स्वच्छ भारत मिशन आदि के सम्बन्ध में विस्तृत समीक्षा व निरीक्षण किया जाए।
इनके अलावा, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, न्यूनतम समर्थन मूल्य, मुख्यमंत्री समग्र ग्राम विकास योजना, मुख्यमंत्री आवास योजना (ग्रामीण), मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना, एक जनपद-एक उत्पाद योजना, सामाजिक वनीकरण, राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन तथा इन्वेस्टर्स समिट-2018 के दौरान हस्ताक्षरित हुए एम0ओ0यू0 के क्रियान्वयन के सम्बन्ध में भी समीक्षा की जाए।
इस अवसर पर मुख्य सचिव डाॅ0 अनूप चन्द्र पाण्डेय, अपर मुख्य सचिव कार्यक्रम क्रियान्वयन श्री दीपक त्रिवेदी, सचिव मुख्यमंत्री श्री मृत्युंजय कुमार नारायण सहित प्रदेश के जनपदों के नोडल अधिकारी उपस्थित थे।
Categories: Uncategorized

cdadmin

Editor in Chief of City Darpan, national hindi news magazine.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *