केंद्र ने हरियाणा सरकार द्वारा महिला सुरक्षा के लिए किए गए कार्यों की प्रशंसा की है

चण्डीगढ़, 17 जुलाई – केंद्र ने हरियाणा सरकार द्वारा महिला सुरक्षा के लिए किए गए कार्यों की प्रशंसा की है। हरियाणा की महिला एवं बाल कल्याण  मंत्री श्रीमती कविता जैन ने राज्यों के मंत्रियों के  राष्ट्रीय सम्मेलन में हरियाणा में महिला सुरक्षा के लिए उठाए गए कदमों के बारे में विवरण प्रस्तुत किया।
महिला सुरक्षा, बाल सुरक्षा व कल्याण, पोषण व अन्य विभिन्न संदर्भित विषयों को लेकर नई दिल्ली में आयोजित राज्यों के महिला एवं बाल विकास मंत्रियों व केंद्र शासित प्रदेशों के प्रभारियों के राष्ट्रीय सम्मेलन में केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती मेनका संजय गांधी ने हरियाणा सरकार द्वारा महिला सुरक्षा के लिए उठाए गए कदमों की प्रशंसा की। केंद्रीय महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री डॉ विरेंद्रा कुमार ने हरियाणा प्रदेश की भूमि से प्रधानमंत्री द्वारा प्रारंभ किए गए बेटी बचाओ – बेटी पढाओ अभियान का जिक्र करते हुए बताया कि असंतुलित लिंगानुपात वाले देश के विभिन्न 104 जिलों में असंतुलित लिंगानुपात में सुधार हुआ है।
मंत्री ने बताया कि बच्चों की सुरक्षा के संदर्भ में परिवेश  बनाने की दिशा में तैयार की गई मेरी सुरक्षा मेरी जिम्मेदारी पुस्तिका को पाठयक्रम में शामिल किया जाएगा। बच्चों के प्रति यौन उत्पीडन, यौन शोषण व पोर्नोग्राफी जैसे अपराधों को रोकने की दिशा में  पोस्को एक्ट पर आधारित तैयार की गई सांप सीढी  इन अपराध बोधों के प्रति सचेत करेगी तथा बुरे स्पर्श व अच्छे स्पर्श में अंतर करेगी।
राष्ट्रीय सम्मेलन में हरियाणा की महिला एवं बाल कल्याण मंत्री ने हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल के एक और सुधार महिला सुरक्षा एवं महिला सशक्तिकरण कार्यक्रम का जिक्र करते हुए बताया कि हरियाणा के प्रत्येक जिलें में एक महिला पुलिस केंद्र स्थापित है। स्थापित किए गए महिला पुलिस केंद्रों के लिए दुर्गा वाहिनी नाम से महिला पुलिस की 30 कंपनियां भी उपलब्ध करवाई गई हैं। इसके अतिरिक्त 50 दुर्गा वाहिनी वाहन भी उपलब्ध करवाए गए। हरियाणा में महिला सुरक्षा की दिशा में एक दुर्गा शक्ति एप भी  प्रारंभ की हुई है। कक्षा 9वीं व कक्षा 10वीेंं में 50 से अधिक छात्राओं की संख्या वाले राजकीय विद्यालयों में आत्म रक्षा का प्रशिक्षण दिया गया। इस वर्ष से हरियाणा में माध्यमिक व उच्च विद्यालयों में आत्मरक्षी महिला प्रशिक्षकों द्वारा सभी छात्राओं को 3 माह के लिए आत्म रक्षा का प्रशिक्षण दिया जाएगा। हरियाणा में बलात्कार पीडिता के लिए निजी वकील की व्यवस्था के लिए 22 हजार रुपये की आर्थिक सहायता सरकार द्वारा की जाएगी।बलात्कार मामलों की जांच का कार्य निश्चित समयावधि में पूर्ण किया जाएगा। हरियाणा में बलात्कार, छेडछाड व महिलाओं के मानसिक उत्पीडन  के अदालतों में 50 से अधिक लंबित केसों वाले जिलों में एक -एक  फास्ट ट्रैक अदालत खोलने का निर्णय लिया गया है। 
हरियाणा की महिला एवं बाल विकास मंत्री ने बताया कि हरियाणा में तीन किलोमीटर के दायरे में कोई उच्च विद्यालय या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय न होने की स्थिति में कक्षा 9 वीं व कक्षा 10वीं तथा विज्ञान व वाणिज्य संकाय की कक्षा 11वीं व कक्षा 12वीं की छात्राओं को दूर पडने वाले विद्याालयों तक वाहनों से  आने -जाने के लिए सरकारी खर्च पर व्यवस्था की जाएगी। हरियाणा में बलात्कार व छेडछाड के आरोपियों की राशन के अतिरिक्त सभी सरकारी सुविधाओं की पात्रता निर्णय होने तक निलंबित कर दी जाएंगी। गरीब बस्तियों में दिन के चौकीदारों की नियुक्तियां की जाएंगी। गुरुग्राम में रात्रि गश्त हेतु 1000 भूतपूर्व सैनिकों  की व्यवस्था के प्रयोग की सफलता के उपरांत राज्य के अन्य जिलों में भी रात्रि गश्त के लिए 2100 नए पद स्वीकृत किए गए हैं।
राष्ट्रीय सम्मेलन में महिला एवं बाल विेकास विभाग के प्रधान सचिव श्री राजा शेखर वुंड्रू, महिला एवं बाल विकास विभाग की निदेशक श्रीमती हेमा शर्मा व हरियाणा राज्य बाल संरक्षण समिति की संरक्षण प्रबंधक श्रीमती शैफी परुथी भी मौजूद रहे।

Categories: Uncategorized

cdadmin

Editor in Chief of City Darpan, national hindi news magazine.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *