—-गुरू नानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व—- डेरा बाबा नानक उत्सव के अवसर पर गुरू नानक देव जी के प्रकाश पर्व सम्बन्धी फिल्में बनाने वाले निर्देशकों का करीब 05 लाख रुपए के साथ सम्मान

Share this News:


—-गुरू नानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व—-
डेरा बाबा नानक उत्सव के अवसर पर गुरू नानक देव जी के प्रकाश पर्व सम्बन्धी फिल्में बनाने वाले निर्देशकों का करीब 05 लाख रुपए के साथ सम्मान

चंडीगढ़/डेरा बाबा नानक (गुरदासपुर): किरत करने, नाम जपने और बाँट कर छकने के सिद्धांत से दूर जाने के कारण ही समाज में गिरावट आई है और स्वस्थ समाज की सृजना करने के लिए लाजिमी है कि गुरू साहिब की वाणी का अधिक से अधिक प्रचार करने के साथ साथ गुरूवाणी पर अमल किया जाना यकीनी बनाया जाये। इसी पक्ष को ध्यान में रखते हुये श्री करतारपुर साहिब गलियारा खुलने और गुरू नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व सम्बन्धी डेरा बाबा नानक उत्सव करवाया जा रहा है। इन विचारों का प्रगटावा सहकारिता और जेल मंत्री सुखजिन्दर सिंह ने रंधावा ने डेरा बाबा नानक उत्सव के अंतर्गत बलिहारी कुदरत वसियाह्ण पंडाल में करवाए गये सैमीनार में बतौर मुख्य मेहमान शिरकत करते हुये किया। इस मौके पर उन्होंने डेरा बाबा नानक उत्सव के अंतर्गत करवाए गये फिल्म फेस्टिवल के दौरान दिखाईं गई पाँच लघु फिल्मों के निर्देशकों का करीब 05 लाख रुपए, शॉल और पुस्तकों के सैट के साथ सम्मान किया। जिक्रयोग्य है कि इस फिल्म फेस्टिवल के अंतर्गत लघु फिल्मों के मुकाबले करवाए गए। इन मुकाबलों में 28 फिल्में आईं थी, जिनमें से पाँच फिल्मों का चयन किया गया और फिल्म फेस्टिवल के दौरान यह फिल्में लगातार दिखाई गईं जिनको संगत की तरफ से भरपूर प्रोत्साहन दिया गया। इन पांच फिल्में में से एह लांघाह्ण फिल्म बनाने वाले डायरैक्टर हरजीत सिंह ने पहला स्थान हासिल किया, जिनको 01 लाख 51 हजार रुपए, फिल्म गुरपर्वह्ण के निर्देशक डा. साहिब सिंह ने दूसरा स्थान हासिल किया, जिनको 01 लाख 31 हजार रुपए, फिल्म काफि?ह्ण के निर्देशक वरिन्दरपाल सिंह ने तीसरा स्थान हासिल किया, जिनको 01 लाख 21 हजार रुपए, चौथा स्थान हासिल करने वाली फिल्म इक ओंकारह्ण के निर्देशक सुखजीत शर्मा को 51 हजार रुपए और पाँचवा स्थान हासिल करने वाली फिल्म चाननह्ण के निर्देशक सतनाम सिंह को 31 हजार रुपए के साथ सन्मानित किया गया। इस अवसर पर रजिस्ट्रार सहकारी सभाऐं, विकास गर्ग, मार्कफैड के एम.डी. वरुण रूजम, शुगरफेड के एम.डी. पुनीत गोयल, पंजाब राज सहकारी बैंक के एम.डी.डा.एस.के बातिश, डेरा बाबा नानक उत्सव के कोआडीर्नेटर अमरजीत ग्रेवाल, मनमोहन सिंह, डा.बूटा सिंह बराड़, डा. जोगा सिंह, डा. मुहम्मद इकदीश, डा. नछत्तर सिंह, डा. चरनजीत कौर, डा. रजिन्दरपाल बराड़, डा. स्वर्न सिंह, डा. विवेक सचदेवा, डा. सवराज सिंह, डा. रजिन्दर कौर समेत देश के विभिन्न क्षेत्रों में से पहुँचे विद्वान उपस्थित थे।

श्री गुरू नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व पर समर्पित पंजाब पुलिस द्वारा सुल्तानपुर लोधी में ड्यूटी पर तैनात कर्मियों की 100 प्रतिशत हाजरी यकीनी बनाने के लिए एप जारी
चंडीगढ़/सुल्तानपुर लोधी: श्री गुरू नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व को लेकर पवित्र शहर सुल्तानपुर लोधी में ड्यूटी पर तैनात पुलिस अधिकारियों और कर्मियों की 100 प्रतिशत हाजि?ी यकीनी बनाने और उनकी गतिविधियों की निगरानी के लिए पंजाब पुलिस की तरफ से बड़ी पहलकदमी करते हुए एक विशेष एप जारी किया गया है। इस संबंधी और ज्यादा जानकारी देते हुये एस.एस.पी. कपूरथला श्री सतिन्द्र सिंह ने बताया कि श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के मौके पर पवित्र शहर सुल्तानपुर लोधी में 1000 के करीब पुलिस कर्मी ड्यूटी पर तैनात किये गए हैं। उन्होने कहा कि इन सभी कर्मचारियों की हाजि?ी निजी तौर पर चैक करना बहुत ही मुश्किल काम है। इसलिए इस सारी प्रक्रिया के लिए यह एप बनाया गया है। श्री सतिन्द्र सिंह ने बताया कि यह एप संबंधित मुलाजिम के पद और जी.पी.एस.लुकेशन वाइस पवित्र शहर सुल्तानपुर लोधी में ड्यूटी पर तैनात पुलिस कर्मियों की हाजि?ी को यकीनी बनाऐगा। एस.एस.पी. ने बताया कि एक सिंगल क्लिक के साथ 24 घंटे ड्यूटी पर तैनात कर्मियों सम्बन्धी जानकारी हासिल की जा सकेगी। उन्होने कहा कि इससे पुलिस कर्मी की ड्यूटी स्थान पर हाजरी को यकीनी बनाया जा सकेगा। एसएसपी ने बताया कि इससे किसी भी स्थान पर तैनात पुलिस बल की सही स्थिति सामने आ सकेगी और यह सुरक्षा बल किसी भी आपात स्थिति में अन्य स्थान पर आसानी के साथ पहुँच सकेंगे। श्री सतिन्द्र सिंह ने बताया कि आई.जी. नौनिहाल सिंह की सख्त मेहनत के चलते ही पुलिस की इस एप को जारी किया जा सका है, जो खुद पवित्र शहर में समूचे सुरक्षा प्रबंधों की निगरानी कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि आई.सी.सी. सैंटर में बैठा अधिकारी एक सिंगल क्लिक के साथ पवित्र शहर के किसी भी हिस्से में ड्यूटी पर तैनात पुलिस कर्मी के पद और लोकेशन के अलावा उसके मोबायल फोन की बैटरी पावर को भी चैक कर सकता है।

खाद्य सप्लाई विभाग द्वारा धान की रीसायकलिंग की कोशिश नाकाम 6 ट्रक जब्त
चंडीगढ़: देर रात की गयी कार्यवाही के दौरान पंजाब के खाद्य सप्लाई विभाग की जांच टीम द्वारा 6 ट्रक पकड़े गए जो पंजाब में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान की अवैध बिक्री के लिए अन्यों राज्यों से धान की फसल लेकर आ रहे थे। यह जानकारी पंजाब के खाद्य और सिविल सप्लाई मंत्री श्री भारत भूषण आशु ने दी। पकड़े गए ट्रकों में से 1 ट्रक स्लेम टाबरी मंडी, लुधियाना में, 2 ट्रक संगरूर मंडी में, 2 ट्रक सुनाम में और 1 अन्य ट्रक एम.के. राइस मिल, सुनाम में पकड़े गए हैं। जांच के दौरान टीम को राइस मिल में पहले से भंडार किये पंजाब से बाहर के राज्यों के धान की 9000 बोरियाँ मिलीं। सभी ट्रक रामनगर बैरियर /चैक पोस्ट, पटियाला के द्वारा पंजाब में दाखिल हुए थे। मंत्री ने कहा कि ऐसी कार्यवाहियां बीते समय में काफी जोरों पर हो रही हैं परन्तु हम स्थिति से भलीभांत अवगत हैं और विभाग की जांच टीमें पूरी निगरानी रख रही हैं। हमने सख्त नियम लागू किये हैं और दोषियों को बच कर निकलने का कोई मौका नहीं देंगे। उन्होंने बताया कि असैंशियल कॉमोडिटीज एक्ट (ई.सी.ए.) और इंडियन पैनल कोड (आई.पी.सी.) की विभिन्न धाराओंं के अंतर्गत धोखाधड़ी और अपराधिक साजिश रचने के लिए उक्त मिल के खिलाफ अपराधिक कार्यवाही शुरू की गई है और विभाग की नयी कस्टम मिलिंग नीति के मुताबिक तीन सालों के लिए मिल की ब्लैकलिस्टिंग के आदेश जारी किये गए हैं। मंत्री ने कहा कि यह सीधे तौर पर धोखाधड़ी और राजस्व को नुक्सान पहुंचाने का मामला है। इस कार्यवाही पर रोक लगाने के लिए हम हर संभव कदम उठाऐंगे। काबिलेगौर है कि बीते समय में अन्य राज्यों से पंजाब में रिकार्ड रहित धान और चावलों की बिक्री आम रही है। ऐसी फर्में /व्यापारी जाली बिलिंग करते हैं और धान को पंजाब की मंडी में से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदा हुआ दिखाते हैं और इस तरह वह प्रति क्विंटल 200-300 रुपए के हिसाब से लाभ कमाते हैं। यह देखा गया है कि चावल /धान की फसल आम तौर पर उत्तर प्रदेश और बिहार जैसे राज्यों से लाया जाता है।

मुख्य पंडाल में गुरबानी के मंत्रमुग्ध करने वाले कीर्तन से निहाल हुई संगत
चंडीगढ़/सुल्तानपुर लोधी, कपूरथला: श्री गुरु नानक देव जी की पवित्र चरण स्पर्श से सराबोर सुल्तानपुर लोधी की पवित्र धरती पर रविवार की सुबह से संध्याकाल तक मुख्य पंडाल में युगों युग अटल श्री ग्रंथ साहिब जी की छत्र छाया में सजे दीवान में गुरबानी के इलाही कीर्तन ने संगत को गुर चरणों के साथ जोड़े रखा। सिख पंथ के प्रसिद्ध विभिन्न कीर्तनी जत्थों ने मंत्रमुग्ध करने वाले कीर्तन से संगत को निहाल किया। सिमरि सिमरि पूर्ण प्रभु, कार्य भए रासि,करतारपुरि करता वसै संतन कै पासि॥
इस शब्द के द्वारा जब भाई सतिन्दरपाल सिंह सुल्तानपुर लोधी वालों के जत्थे ने इलाही वाणी का कीर्तन शरू किया तो सारी संगत ने एकमगन होकर उस इलाही ज्योति की प्रशंसा में भागीदारी डाली क्योंकि वाहिगुरू के सिमरण के साथ ही मानव के सभी कार्य सिद्ध होते हैं। इसके बाद प्रिंसीपल सुखवंत सिंह जडिंयाला ने जीवन में सच्चे गुरु के महत्व को सार्थक करते गुरबानी का शब्द ह्यमत को भरमि भूले संसारी, गुर बिन कोई न उतरसि पारिह्ण का गायन किया। इसके बाद उनके जत्थे ने पुरातन तंती साजों सहित मारू राग में करते हुए आगे एक सिख के हृदय की पीड़ा बयान करता शब्द गान ह्यजो मय बेदन सा किसु आखां माई, हरी बिनु जिउ ना रहे कैसे राखा माईह्ण किया। इसके बाद बीबी राजविन्दर कौर अमृतसर के जत्थे के इलाही कीर्तन के साथ नगरी की पर्यावरण में इलाही वाणी की तरंगे फैल गई। इसके उपरांत डा. गुरिन्दर सिंह बटाला, भाई सतविन्दर सिंह बौदल, बीबी आशुप्रीत कौर जालंधर, डा. नवेदित्ता सिंह पटियाला और भाई बलवंत सिंह नामधारी के कीर्तनी जत्थों ने गुरवाणी गायन के द्वारा इस ब्रह्मांड के निरवैर, निर्भय, सिरजनकत्र्ता की प्रशंसा से संगत को गुरवाणी से जोड़ा। इस मौके पर राजस्व विभाग कैबिनेट मंत्री स. गुरप्रीत सिंह कांगड़ और स्थानीय विधायक स नवतेज सिंह चीमा ने भी संगत के साथ नम्र सिख में गुरु जी के दरबार में हाजिरी भरी। इसके अतिरिक्त बाबा परगट सिंह चोला साहिब वाले, बाबा साहिब सिंह, बाबा प्रितपाल सिंह, बाबा बीरा सिंह सिरहाली साहिब वाले भी श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी के आगे नतमस्तक हुए।

सुल्तानपुर लोधी के भूजल को प्रदूषण से बचाने के लिए अनोखी पहल, 4000 टॉयलेट्स का वेस्ट मक्खू और जीरा ले जा रही हैं स्पेशल गाड़ियां
चंडीगढ़/ सुल्तानपुर लोधी (कपूरथला): सुल्तानपुर लोधी के भूजल और पवित्र वेर्इं के पानी को प्रदूषण से बचाने के लिए वाटर सप्लाई एवं सेनिटेशन डिपार्टमेंट ने एक अनूठी पहल की है जिसके तहत 550वें प्रकाश पर्व के लिए यहां आने वाली संगत के लिए 4000 टॉयलेट्स का इंतजाम किया गया है। इन टॉयलेट्स से निकलने वाले सीवरेज वेस्ट को जमीन में या पानी में गिराने की बजाय इसे रोजाना इक_ा करके मक्खू और जीरा के सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट में ले जाया रहा है। विस्तृत जानकारी देते हुए विभाग के सुपरिटेंडिंग इंजीनियर के.के. सैनी ने बताया कि इस कार्य को सम्पूर्ण करने के लिए जीपीएस सिस्टम से लैस 66 गाड़ियों का इंतजाम किया गया है। ये गाड़ियां रोजाना सभी 4000 टॉयलेट्स से सीवरेज और स्लज को इक_ा करके फिरोजपुर के दोनों एसटीपी में ले जाती हैं, जहां इस सीवरेज वेस्ट का साइंटिफिक तरीके से निवारण किया जाता है। उन्होंने बताया कि श्री गुरु नानक देव जी ने अपनी शिक्षाओं में पर्यावरण संरक्षण पर खास जोर दिया है, जिसके तहत सुल्तानपुर लोधी में भूजल और पवित्र वेर्इं के पानी को प्रदूषण से बचाने के लिए यह पहल की गई है। उन्होंने बताया चूंकि सुल्तानपुर लोधी के सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट पहले ही अपनी पूरी क्षमता पर कार्य कर रहे हैं, इसलिए यहां अस्थायी तौर पर बनाये गये सभी 4000 टॉयलेट्स के नीचे मैटल व पीवीसी के कंटेनर लगाए गए हैं। सारा वेस्ट जमीन की बजाय इन कंटेनर्स में इक_ा हो रहा है, जिसे रोजाना 66 गाड़ियां खाली करके सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट तक पहुंचाती हैं। उन्होंने बताया कि इन गाड़ियों में जीपीएस सिस्टम लगाया गया है और सेंट्रल कंट्रोल रूम से हरेक गाड़ी की निगरानी हो रही है। सीवरेज वेस्ट के वैज्ञानिक तरीके से डिस्पोजल को सुनिश्चित करने के लिए जीपीएस सिस्टम से इन गाड़ियों की मॉनेटरिंग हो रही है। ये गाड़ियां कहां जा रही हैं और कहां पर वेस्ट को डंप करती हैं, सब कुछ जीपीएस सिस्टम के जरिए देखा जा रहा है। उन्होंने बताया कि 33 अतिरिक्त जीपीएस सिस्टम से लैस व्हीकल्स को स्टेंड बाय मोड पर रखा गया है जिन्हें जरूरत पड़े पर फील्ड में उतारा जाएगा। सुल्तानपुर लोधी के विधायक नवतेज सिंह चीमा ने डिपार्टमेंट के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि इस पवित्र नगरी में 550वें प्रकाश पर्व से संबंधित कार्यक्रमों को योजनाबद्ध तरीके से आयोजित करने के लिए प्रशासन पूरी तरह से वचनबद्ध है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की अगुवाई में पंजाब सरकार इस नगरी की पवित्रा और शान बरकरार रखने के लिए कई कार्य कर रही है। इस पवित्र नगर में गुरु नानक देव जी ने अपने जीवन के 14 साल से ज्यादा का समय व्यतीत किये थे जिसे नमन करने के लिए लाखों की तादाद में श्रद्धालु यहां पहुंच रहे हैं। उन्होंने कहा कि नगर में सफाई व्यवस्था को सुचारू और अग्रणी दर्जे का बनाए रखने के लिए सडकों पर 500 सफाई-सेवकों की तैनाती की गई है।

पंजाब दीवाली बंपर ने हिमाचल निवासी पेंटर की जिंदगी की रौशन
चंडीगढ़: पंजाब राज माँ लक्ष्मी दीवाली पूजा बंपर -2019 ने हिमाचल प्रदेश के जिला ऊना में पड़ते गाँव चूरड़ू के निवासी संजीव कुमार की जिंदगी रौशन कर दी है। पेंटर, प्लम्बर और इलैक्ट्रीशन का काम करने वाले संजीव ने ढाई करोड़ रुपए का पहला इनाम जीता है। संजीव कुमार ने बताया कि पीजीआई, चण्डीगढ़ से अपने बेटे को दवाई दिलाने के बाद गाँव को लौटते समय उसने नंगल के बस अड्डे के पास एक लॉटरी टिकट स्टॉल से दो टिकटें खरीदी थी और उसे टिकट नंबर ए – 411577 ने रातों रात करोड़पति बना दिया है। उसने बताया कि वह अपने परिवार में अकेला कमाऊ है और उसे उम्मीद है कि यह बड़ी इनामी राशि उसकी सभी वित्तीय मुश्किलें खत्म कर देगी। एक बेटी और पुत्र के बाप संजीव ने भावी योजनाओं संबंधी बात करते हुये बताया कि यह राशि वह अपने बच्चों की पढ़ाई पर खर्च करना चाहता है। उसने इनामी राशि हासिल करने के लिए पंजाब राज लॉटरीज विभाग के अधिकारियों के पास दस्तावेज और टिकट जमा करवा दी है। लॉटरीज विभाग के अधिकारियों ने उसे इनामी राशि जल्द जारी करने का भरोसा दिया। जिक्रयोग्य है कि लॉटरीज विभाग द्वारा पंजाब राज दीवाली बंपर- 2019 का ड्रा 1 नवंबर, 2019 को लुधियाना में निकाला गया था और पाँच करोड़ रुपए का पहला इनाम टिकट नंबर ए -411577 और बी -315020 (2.5 -2.5 रुपए प्रति टिकट) को निकला था।

——डेरा बाबा नानक उत्सव——
कीर्तनी जत्थों द्वारा पुरातन तंती साजों के साथ गुरबानी का इलाही कीर्तन किया गया
चंडीगढ़/डेरा बाबा नानक (गुरदासपुर): श्री गुरू नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व को समर्पित डेरा बाबा नानक में करवाए जा रहे श्री गुरू नानक उत्सव के तीसरे दिन सुर मंडल भाई मरदाना राग दरबार में गुरू की वाणी के इलाही कीर्तन की शुरूआत हुई जिसमें विश्व प्रसिद्ध कीर्तनी जत्थों द्वारा पुरातन तंती साजों के साथ इलाही वाणी का कीर्तन करके संगतों को गुरू के साथ जोड़ गया। इस मौके पर कैबिनेट मंत्री सरदार सुखजिन्दर सिंह रंधावा ने संगत में विशेष तौर पर हाजिरी भरी और संगतों में बैठ कर कीर्तन का श्रवण किया। इस मौके पर संत समाज के प्रमुख बाबा सरबजोत सिंह बेदी समेत विभिन्न सिख जत्थेबंदियों के नुमायंदे और नेता बड़ी संख्या में उपस्थित थे। इस मौके पर भाई रणजीत सिंह जी हजूरी रागी श्री दरबार साहिब, भाई गुरशरन सिंह जवद्धी जत्था की तरफ से इलाही वाणी के कीर्तन से संगतों को निहाल किया गया। इसके उपरांत भाई रणजोध सिंह और साथी हरीके पत्तन की तरफ से शब्द ह्यफिर बाबा आया करतारपुरह्ण, डा. गुरिन्दर कौर दिल्ली वाले और साथी द्वारा राग सुध सारंग में ह्यकल तारन गुरू नानक आयाह्ण शब्द का गान किया। इसके उपरांत बीबी जसलीन कौर राग गाउड़ी में ह्यमैं बंजारण राम कीह्ण और ह्यबाबा आखे काजीआंह्ण शब्द के द्वारा संगतों को गुरू के साथ जोड़ा। उस्ताद गुरमीत सिंह दिल्ली वाले संत खालसा द्वारा राग प्रभाती और राग किरवानी में ह्यकिआ कहिए सरबे रहिया समाऐ, जे किछ वरते सब तेरी रजाए और ह्यइक बाबा अकाल रूप, दूजा रबाबी मरदानाह्ण के द्वारा संगतों में अपनी हाजिरी लगवाई। इस मौके पर संगतों के विशाल जलसे को संबोधन करते हुये कैबिनेट मंत्री स. सुखजिन्दर सिंह रंधावा ने समागम में पहुँचे संत महापुरुषों, कीर्तनी जत्थों और समूह संगतों का समागम में पहुँचने पर धन्यवाद करते हुये कहा कि हमारे लिए यह बड़े गर्व और मान वाली बात है कि हम पहली पातशाही श्री गुरु नानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व वैश्विक स्तर पर मना रहे हैं और गुरू महाराज की कृपा के साथ गुरुद्वारा करतारपुर साहिब के दर्शनों के लिए गलियारा के खुलने के शुकराने के तौर पर हम डेरा बाबा नानक की पवित्र धरती पर डेरा बाबा नानक उत्सव मना रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह समागम 11 नवंबर रात तक चलेंगे और संगतों को इसमें अधिक से अधिक हाजि?ी लगवानी चाहिए। इस मौके पर प्रधान संत समाज बाबा सरबजोत सिंह बेदी, बाबा सोहण सिंह, बाबा सुच्चा सिंह गुरमति संगीत अकादमी और सुर अभियास जंडियाला गुरू, संत रणजीत सिंह डेरा संतपुरा, बाबा फतेह सिंह तरना दल होशियारपुर के प्रमुख बाबा गुरदेव सिंह जी के अलावा बड़ी संख्या में इलाही वाणी का गुणगान श्रवण करने आई संगत उपस्थित थी। स्टेज संचालन स. तरुनदीप सिंह टीम फतेह श्री अमृतसर साहिब द्वारा बाखूबी किया गया।

श्री गुरू नानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व
करतारपुर गलियारे के खुलने की खुशी में निकाले सर्व सांझीवालता के काफिले का हजारों की संगत द्वारा स्नेहपूर्ण स्वागत
चंडीगढ़/डेरा बाबा नानक (गुरदासपुर): श्री गुरू नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के अवसर पर खुले ऐतिहासिक करतारपुर गलियारे के बाद आज डेरा बाबा नानक में जश्नों का माहौल बना हुआ था। सहकारिता विभाग के समूह विभाग द्वारा करवाए जा रहे डेरा बाबा नानक उत्सव के तीसरे दिन संगतों का सैलाब उमड़ आया और हजारों की संख्या में पहुँची संगत डेरा बाबा नानक से अंतरराष्ट्रीय सीमा पर स्थित करतारपुर गलियारे वाली जगह तक देखी गई। डेरा बाबा नानक उत्सव के दौरान आज सर्व सांझीवालता का काफिला निकाला गया जिसके द्वारा संगत ने भारत की बहु भांति संस्कृति और सर्व सांझीवालता के दर्शन किये। पास के क्षेत्र के स्कूलों के 250 के करीब बच्चों द्वारा विभिन्न धर्मों, क्षेत्रों और संस्कृति के पहनावे पहन कर डेरा बाबा नानक से अंतरराष्ट्रीय सीमा तक मार्च निकाला गया जिसका वापसी पर सहकारिता और जेल मंत्री सुखजिन्दर सिंह रंधावा ने स्नेहपूर्ण स्वागत किया। स. रंधावा ने स्वागत करते हुये बच्चों के साथ निजी तौर पर मुलाकात करते उनके साथ बातचीत भी की। उन्होंने कहा कि श्री गुरु नानक देव जी सब के सांझे थे और आज इस काफिले के द्वारा गुरू साहिब को सच्चा सम्मान भेंट किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यह काफिला शांति, अमन और सदभावना का संदेश देता है और गलियारा खोलने का भी यही मनोरथ है। उन्होंने कहा कि करतारपुर गलियारा खुलने से डेरा बाबा नानक में जश्नों का माहौल है और इस क्षेत्र में धार्मिक पर्यटन प्रफुलित करने के लिए और भी बेहतर काम किये जाएंगे। पंजाबी, हरियाणवी, राजस्थानी, कश्मीरी, हिमाचली पहनावों के साथ सजे इस काफिले का हजारों की संगत द्वारा भी स्नेहपूर्ण स्वागत किया गया। बैंड की मधुर धुनें और मालवे से संबंधित गिद्दे वाले बाबों के ढोल, तूम्बी, अलगोजों, बुगदू, चिमटे के साथ माहौल संगीतमय बना हुआ था। इस अवसर पर रजिस्ट्रार सहकारी सभाएं विकास गर्ग, मार्कफैड के एम.डी. वरुण रूजम, शूगरफैड के एम.डी. पुनीत गोयल, डेरा बाबा नानक उत्सव के कोआडीर्नेटर अमरजीत ग्रेवाल और काफिले के कोआडीर्नेटर डा केवल धालीवाल भी उपस्थित थे।

Share this News:

Author

Editor in Chief of City Darpan, national hindi news magazine.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *